राजद : भाई-भाई में कैसी है लड़ाई! Maurya News18

0
544

असली कहानी आप भी जानिए, कौन क्या कह रहा

पटना। मौर्य न्यूज18।

राजद खेमे से काफी बुरी खबर है। पार्टी सुप्रीमो जेल में हैं। और लोकसभा चुनाव 2019 सामने है और लड़ाई सातवें आसमान पर। भाई तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव लालू प्रसाद की अनुपस्थिति में एक नही हो पा रहे। औऱ अब तो बड़े बेटे ने राजद के खिलाफ ही लालू-राबड़ी मोर्चा खोल दिया है। और ऐलान कर दिया है कि 20 सीटों पर ये मोर्चा अपनी उम्मीदवार खड़े करेगा। ऐसे में राजद का कमान संभाल रहे पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की हेकड़ी गुम है। और सफाई देते फिर रहे हैं कि ये सब अंदरूनी बात है सलट लिया जाएगा। यानि सुलझा लिया जाएगा।

बात यहीं नहीं थमी बड़े बटे तेजप्रताप का कहना है कि छपरा से मां राबड़ी देवी को टिकट दिया जाए या फिर मैं खुद चुनाव लड़ूंगा। जबकि राजद ने तेजप्रताप के ससुर और राजद के कद्दावर नेता चंद्रिका राय को टिकट थमा दिया है। और ऐसा होते ही तेजप्रताप खुलकर बागी हो गए।

दूसरी शर्त भी तेजप्रताप ने रख रखी है। कि जहानाबाद लोकसभा सीट से जयप्रकाश यादव और बेतिया से पूर्व विधायक राजन तिवारी को टिकट दिया जाए। ऐसे ही शिवहर की सीट और हाजीपुर की सीट के लिए भी उम्मीदवारी की घोषणा तेजप्रताप ने कर दी है। जबकि राजद ने किसी औऱ को उम्मीदवार बनाया है। बागी तेजप्रताप का कहना है कि ये सब पहले की कह दिया गया था और लालू प्रसाद यादव से अनुमति ले ली गई थी लेकिन तेजस्वी ने ऐसा नहीं किया। इसलिए वो बागी हो गए हैं। लेकिन इन सब के बावजूद वो अब भी ये कह रहे हैं कि छोटा भाई तेजस्वी हमारा अर्जुन है उसे आने वाले समय में मुख्यमंत्री बनाउंगा। लेकिन अभी ये सब नहीं चलेगा। बात माननी ही पड़ेगी।

इस बागी तेवर के बाद कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा ने भी इस लड़ाई से अपने को किनारा किया और राजद के ही विधायक भाई वीरेंद्र ने इस बागी तेवर को बकवास बताया औऱ कहा कि चुनाव में औकात पता चल जाएगा। राजद ही पब्लिक स्वीकार करेगी। इसके खिलाफ कोई मोर्चा काम नहीं करेगा।

मामल दिलचस्प हो चला है। अब देखना है कि महागठबंधन में राजद के साथ कांग्रेस, हम, रालोसपा और वीआईपी, माले ये सब क्या कदम उठाती है। वैसे इस लड़ाई का फायद एनडीए खेमे को मिलेगा इससे कतई इनकार नहीं किया जा सकता।

मौर्य न्यूज के लिए पटना से नयन की रिपोर्ट