और छा गई बिहार की नन्ही परी मानवी…!

0
1049

कोलकाता जुनियर फैशन वीक में खूब दिखा जलवा, टॉप टेन में सलेक्ट हुई

रैंप पर उतरते ही कई मटीनेशनल कम्पनियां हुई मानवी की दीवानी, दिए ऑफर

बार्बरी की ब्रांड एम्बेस्डर बनने की राह पर

नयन, मौर्य न्यूज18, पटना।

13 May 2019

पिछले हफ्ते की बात है। कोलकता में जुनियर फैशन वीक शो था। देशभर से नन्हें-मुन्ने बच्चे जुटे थे। हिस्सा लेने आये किड्स की लंबी कतारें लगीं थीं। पहले दिमागी टैलेंट दिखाना था, फिर रैंप पर अपना पूरा हुनर भी। उसी कतार में बिहार के पटना से कोलकता पहुंची सात साल की नन्हीं परी मानवी भी खड़ी थी। जब बारी आयी तो छा गई।

ये वो लम्हा था जब पचास बच्चों में सिर्फ दस बच्चों को सलेक्ट करना था। औऱ मानवी जब अपना हुनर दिखाना शुरू की तो 46 बच्चों की छुट्टी हो गई और 4थे नम्बर के लिए चुन ली गई। मानवी का जलवा ऐसा था कि इस शो में देश-दुनिया से आयी बड़ी-बड़ी कंपनियां इस परी को अपना ब्रांड एम्बेस्डर के रूप में देखने लगे।

मानवी कहती है कि उन्हें शो में बहुत मजा आया। दिमागी टैलेंट को परखने के लिए कई मजेदार औऱ जेनरल नॉलेज से सवाल किए गए। जिसमें 22 कैरेट सोने की तरह मानवी खड़ी उतरी। कहती हैं कि पढ़ाई लिखाई के बारे में भी पूछा गया। कैसी स्कूल में पढ़ाई करती हैं। क्या पढ़ती हैं। मां-पापा के साथ कैसे रहती है। कई तरह के सवाल किए गये, जिसका नन्हीं मानवी ने बखूबी जवाब दिया औऱ जजों का दिल जीत लिया।
कोलकाता में आयोजित जुनियर फैशन वीक में हिस्सा लेती नन्हीं परी मानवी सिंह
मानवी का ये सलेक्शन अब अगले राउंड में हौसला जरूर देगा। इन दस बच्चों में कौन बच्चे टॉप की कम्पनियों के ब्राड एम्बेस्डर होंगे इसका डिसीजन होना है। अभी मानवी को बार्बरी कंपनी ने ऑफर दिया है। लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए उन दस बच्चों के बीच कम्पटीशन होना है। अब देखना होगा कि मानवी आगे कहां तक पहुंचती हैं। बार्बरी सहित कई मलटीनेशनल कंपनियों ने पूरी तरह से मानवी को अपना ब्रांड एम्बेस्डर बनाने का मन बना लिया है। कोलकता में मानवी अपने नन्हें पांवों से जब रैंप पर वॉक करने लगी तो खूब तालियां बजीं। मानवी के आकर्षक ड़्रेस को भी खूब पसंद किया गया।

मानवी का लूक औऱ उसकी मुस्कुराहटों ने सबका दिल जीत लिया है। बिहार की इस बिटिया को आगे भी बेहतर मुकाम मिले। इसकी तैयारी में मानवी के पिता चंदन सिंह भी पूरी तरह से उत्साहित हैं। पिता चंदन कहते हैं कि मैं एक इवेंट कंपनी में कार्यरत हूं और बिटिया का रैंप पर चलना औऱ भीड़ के बीच सारे सवालों का जवाब देना काफी सुकून दे गया।

अब मानवी और आगे बढ़े और उसकी पढ़ाई बेहतर तरीके से हो इसका पूरा ख्याल रखा जा रहा है। चंदन कहते हैं कि हमे बिटिया पर नाज है। उसने ना सिर्फ अपने मां-बाप, दादा-दादी और परिवार का मान बढ़ाया है बल्कि बिहार का मान भी बढ़ाया है।
चंदन कहते हैं कि ये जुनियर फैशन वीक जरूर था लेकिन यहां पढ़ाई से जुड़े कई सवालों के जवाब देने होते हैं। आपके माइंड का सबसे ज्यादा टेस्ट होता है। फिर रैंप पर उतरने का मौका दिया जाता है। ये सब देखने में भले लगता हो चकाचौंद की तरह लेकिन करना आसान नहीं होता है। लेकिन बिटिया मानवी ने जिस तरह से देश के दिग्गज जजों के बीच अपना टैलेंट दिखाया और चौथे नम्बर तक पहुंची है। हमे उम्मीद है कि अभी वो और आगे जाएगी।

चंदन बताते हैं कि फैशन से जुड़ी कई कम्पनियों के मेल आने लगे हैं। किड्स ब्रांड एम्बेस्डर के लिए। हमे उम्मीद है कि बार्बरी जैसी बड़ी कंपनी की ब्रांड एम्बेस्डर बनने का मौका मानवी को जरूर मिलेगा।

इसमें सलेक्ट होने के मायने क्या हैं, ये भी जानिए

  • ये देशस्तर पर काफी पॉपुलर और दुनियाभर में इसकी अलग पहचान है।
  • इस शो पर दुनियाभर की किड्स फैशन वाली कंपनियां नज़र रखती है ।
  • नेशनल और विभिन्न नामी टीवी चैनलों पर में बच्चों के प्रोग्राम के लिए एंकरिंग का मौका मिलता है।
  • ब्रांडे कंपनियां यहां से बच्चों को सलेक्ट कर टीवी एड या विजुअल एड के साथ-साथ प्रचार प्रसार के लिए ब्रांड एम्बेस्डर भी बनाती है।
  • ऐसी सर्टिफिकेट दिए जाते हैं जिसके आधार पर कई तरह के फैशन शो में डायरेक्ट इंट्री मिलती है।
  • बॉलीबुड में बाल कलाकार के तौर पर भी मौका मिलने का चांस बनता है।
  • इस तरह कई तरह के अवसर इसी उम्र से खुल जाते हैं।

मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की खास रिपोर्ट ।