बिहार में सुशासन लू सर्वे- हवा के बाद जलमार्ग से सर्वे! मौत का सुहाना सफर!

0
561

नयन की नजर से – बात-बे-बात !

साहब का हवा में उड़ना अच्छा लगता है!

140 की मौत का सुहाना सफर !

धरती, हवा के बाद जलमार्ग से सर्वें ही रह गया बांकी !    

  नयन, मौर्य न्यूज18                                          

लू को चीरती हेलीकॉप्टर जब गया पहुँची तो समझ में आ गया कि ये अपना सुशासन बाबू ही हो सकते। आसमान से आग बरसती रही और हेलीकॉप्टर उसे भी चीरती जब गया पहुँची , तो समझ में आ गया कि ये अपने क़ानून का राज वाले बाबू कुमार ही हैं!

हवा तो हवा धरती चीरती हुई जब गाड़ियों का क़ाफ़िला 20 दिनों से बिलबिला के मर रहे  दर्जनों बच्चों के शमशान घाट पहुँची , तो समझ में आ गया कि ये न्याय के साथ विकास वाले अपने सुशासन बाबू ही होंगे। अब एक ही चिंता है जलमार्ग से लू की स्थिति को कैसे देखा जाए। अगर जल्द कोई प्रोग्राम नहीं बनाया गया तो न्याय के साथ सुशासन नहीं हो पाएगा।

फ़िलहाल तैयारी उसी की चल रही है। लेकिन इस गर्मी में जल ही सूख चुका है फिर मार्ग कहा से ढूँढा जाए! इसी चिंता में प्रेस के सामने चिंतित हैं अपने सुशासन बाबू। जनता को पूरी उम्मीद है कि सुशासन लू सर्वेक्षण में जल्द ही जलमार्ग ढूँढ लिया जाएगा। जानकारी के लिए आपको बता दूँ कि अपने सुशासन बाबू बहुत ही सुंदर और टिकाउ आदमी हैं।

इनपर ना बुलडोज़र का असर पड़ता है ना आग और पानी का। जंक भी नहीं लगता। इतना ठोस और टिकाउ । यानि बुलंद स्टेट की बुलंद सरकार !  आपको शायद ! पता नहीं कि बच्चों की मौत पर अपने सुशासन बाबू कितने सदमे में हैं! कुछ बोल भी नहीं पा रहे हैं। उनके तरफ़ से हमहीं माफ़ी माँग लेते हैं। कुर्सी बचा के रखिएगा प्लीज़! अगले साल आठवाँ निश्चय में हेल्थ डालेंगे और घरे-घरे हॉस्पिटल खुलवाएंगे। आप देख रहे हैं नयन की नजर से सारी दुनिया।