जानिए – क्यों चला मीठापुर बस स्टैंड के पास नगर निगम का बुलडोजर !

0
522

बनना है अत्याधुनिक रैनबसेरा . निगम की सख्ती से बौखलाए अतिक्रमणकारी पर अधिकारी ने एक ना सुनी

पटना, 16 अगस्त । मौर्य न्यूज18 ।

पूरे लाउ-लस्कर के साथ पहुंते निगम अधिकारी अजीत कुमार नयन औऱ शुरू हो गए…!

अभी पिछले दिन स्वतंत्रता दिवस मना कर शुकून मे थे कि इसी बीच शुक्रवार 16 अगस्त को पटना नगर निगम के अधिकारी इफ्रास्टैक्चर एक्सपर्ट अजीत कुमार नयन बुलडोजर के साथ लाउ-लस्कर लेकर पहुंच गए राजधानी के मीठापुर बस स्टैंड के पास। जहां अतिक्रमण कारियों ने अपनी धौंस से कई वर्षों से झुग्गी झोपड़ी डाल रखे थे। बस मालिकों ने अपन गाड़ियों को पार्क कर रखा था। धौंस ऐसी कि किसी की चलने नहीं देते। हंगामा खड़ा करना इनकी आदत बन गई थी। दो माह से करीब 1.90 करोड़ से बनने वाले अत्याधुनिक रैन बसेरे जैसे सरकारी प्रोजक्ट का काम भी रूकवा रखा था। जिसकी खबर कंस्ट्रक्शन कंपनी टाटा ने निगम को दे रखी थी। फिर भी अतिक्रमण कारी डटे थे।

नगर आयुक्त अनुपम कुमार सुमन ने सौंपी जिम्मेदारी

अतिक्रमण कारी निगम को हल्के मे ले रहे थे। यही सब देखते हुए नगर आयुक्त अनुपम कुमार सुमन ने इस काम को अंजाम देने के लिए प्रोजेक्ट डेवलपमेंट मैनेजमैंट कन्सल्टैंट व पटना स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के इंफ्रास्ट्रेक्चर एक्सपर्ट अजीत कुमार नयन को इसकी जिम्मेदारी सौंप दी।

हैल्मेट पहने अतिक्रमण स्थल पर नगर निगम के अधिकारी इफ्रास्ट्रेक्चर एक्सपर्ट अजीत कुमार नयन

फिर क्या था निगम के इस अधिकारी ने 16 की तारीख चुनी और धमक गए बुलडोजर लेकर। निगम का बुलडोजर देखते ही वहां अतिक्रमणकारियों में हड़कम्प मच गया। लेकिन अधिकारी अजीत नयन ने किसी की एक ना सुनी और झुग्गी-झोपड़ी को उखाड़ फेंकना शुरू कर दिया। उस परिसर में कई बस पार्क की हुई थी। उसे भी क्रेन के जरिए उठाकर फेंका जाने लगा।


अधिकारी का एक्शन देख तिलमिला उठे अतिक्रमणकारी

ये सब देख कर बस एसोसिएशन के लोग भी तिलमिला उठे औऱ विरोध के स्वर बुलंद करने लगे। लेकिन अधिकारी अजीत कुमार नयन निगम के किसी भी कार्य को हाथ में ले लेते हैं तो फिर किसी की नहीं सुनते औऱ अपनी जिम्मेदारी को सख्ती से अंजाम देते हैं। इसके लिए वो अपने डिपार्टमेंट भी जाने जाते हैं। सो, उन्होंने किसी की नहीं सुनी। औऱ विरोध करने वालों से साफ कर दिया कि यहां कुछ भी वाधा डालेंगे तो गैर-कानूनी होगा औऱ सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में सब पर कार्रवाई की जाएगी। इस सख्ती के बाद भी विरोध में गोलबंदी की जाती रही और इधर निगम का बुलडोजर चलता रहा। अतिक्रमण अभियान जारी रहा।

अतिक्रमणकारियों ने ठप कर रखा था काम

इधर, निगम के अधिकारी अजीत कुमार नयन ने बातचीत में कहा कि यहां 90फिट बाय 45 फिट के दो प्लाट पर रैन बसेरा बनना है। स्मार्ट सिटी के तहत अत्याधुनिक रैन बसेरा सरकार बनाने जा रही है जिसकी लागत करीब 1.90 करोड़ है। इसमें आम नागरिक काफी सस्ते दर पर अत्याधुनिक होटलों जैसी सुविधा पा सकेंगे। इतने बेहतर प्रोजेक्ट के लिए यहां पिछले दो महीने से काम को इन अतिक्रमण कारियों ने ठप कर रखा है। जबकि इसे छह माह के अंदर तैयार कर देना है।

एक दिन और लगेंगे सारा साफ हो जाएगा !

इसकी सूचना प्रोजेक्ट को तैयार करने वाली कंस्ट्रक्सन कंपनी टाटा के अधिकारियों ने कार्य में बाधा डालने की खबर दे रखी थी। निगम इसी सिलसिले में ये सब कार्रवाई कर रहा है। यहां किसी भी तरह के अतिक्रमण को बर्दास्त नही किया जाएगा। निगम अधिकारी ने कहा कि एक दिन औऱ कार्रवाई की जानी है। फिर सारी अतिक्रमण साफ कर दिया जाएगा।

इस तरह देर शाम तक अतिक्रमणकारियों के विरोध के बाद भी निगम का बुलडोजर चलता रहा।


ऐसा होगा अत्याधुनिक रैन बसेरा…

ये है अत्याधुनिक रैन बसेरा का डायग्राम व्यू

पटना से मौर्य न्यूज18 की खास रिपोर्ट