18 साल से शिक्षा का अलख जगा रहे

0
450

जेनिथ कामर्स एकादमी का 18वां स्थापना दिवस मनाया

समाज में बेहतर योगदान के लिए 15 को सम्मानित किया

पटना, मौर्य न्यूज18 ।  

बिहार में शिक्षा को लेकर बहुत सारी संस्थाएं अपने-अपने तरीके से योगदान दे रही है। कुछ तो खुलते ही बिखर जाते हैं लेकिन कई संस्थाओं ने बेहतर योगदान कर लंबी पारी खेली है। उसी में से कामर्स के क्षेत्र में पटना में जेनिथ कामर्स एकादमी का भी नाम आता है जो बच्चों को कामर्स के क्षेत्र में संवार रही है। इसकी संस्थापना के 18 साल हो चुके है। लाजमि है कि इतने सालों से टिके रहना कोई साधारण बात नहीं है। अच्छे योगदान की निशानी मानी जा सकती है। और यहां से छात्रों को बेहतर मंजिलें भी मिलीं हैं। ऐसे में 18 वर्ष होने पर संस्थान जश्न मना रहा है। जश्न की पूरी रिपोर्ट पेश है।    

जेनिथ कॉमर्श एकादमी के 18वें स्थापना दिवस पर उपस्थि मुख्यअतिथि औऱ अतिथिगण । मौर्य न्यूज18 ।

राजधानी पटना के मोती महल डीलक्स में जेनिथ कामर्स एकादमी का 18वां स्थापना दिवस धूमधाम के साथ मनाया गया। इस अवसर पर  भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. जिसमें इंस्टीच्यूट के बच्चों ने डांस एवंबेहतरीन गीत-संगीत पेश कर उपस्थित अभिभावक एवं अतिथियों का मन मोह लिया। इस अवसर पर मुख्य अतिथी के तौर पर एआई जी अरविंद ठाकुर तथा विशिष्टअतिथी के तौर पर समाज सेवी मधु मंजरी , आकांक्षा चित्रांश  उपस्थित थी। कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलन के साथ की गयी।इसके बाद आगंतुक अतिथियों को सम्मानित किया गया।

देश को आगे बढ़ाने को उल्लेखनीय योगदान दे रहे – सुनील सिंह      

जेनिथ के प्रबंध निदेशक सुनील कुमार सिंह ने बताया कि उनके इंस्टीच्यूट के स्थापना के 18 साल पूरे हो गये हैं। उन्होने बताया किबिहार में विभिन्न हिस्सों एवं क्षेत्रों में कई लोग अपने स्तर पर निस्वार्थ भाव से निरंतर देश को आगे बढ़ाने में उल्लेखनीय योगदान दे रहे हैं। उन्हीं लोगों को प्रोत्साहित करने के लिये उनकी संस्था की ओर से 15लोगों को सम्मानित किया गया है। सम्मानित किये गये प्रमुख लोगों में मोहम्मद शमशुद्दीन (शिक्षाविद), ब्रजेश वर्मा (समाजसेवी) ,  जॉनी सिंह मिस्टर इंडिया, अभिषेक मिश्रा (संगीतज्ञ) ,कुमार संभव (गायक), सपना गोयल मिस पटना 2017 , मास्टर उज्जवल(कोरियोग्राफर) ,  मिस पटना अनुष्का समेत अन्य शामिल हैं। 

मुख्यअथिति के तौर पर शिरकत करने आये अरविंद ठाकुर ने सुनील कुमारसिंह को उनके इंस्टीच्यूट के 18 साल पूरे होने की बधाई दी।उन्होंनेछात्रों से शिक्षक और शिक्षा के महत्व को रेखांकित करते हुये कहा कि समाजको यदि अच्छा बनाना है तो समाज को अध्यापकों को सम्मान देना चाहिए।वास्तव में अध्यापकों को सम्मान देकर अपने आपको सम्मानित करना है। 

“गुरू-शिष्य परंपरा हमारी संस्कृति रही है”

एकअध्यापक की गरिमा को शब्दो  में बंधना कठिन है। उन्होंने कहा गुरु-शिष्य परंपरा भारत की संस्कृति का एक अहम और पवित्र हिस्सा है। जीवन में माता-पिता की कोई जगह नहीं ले सकता क्योंकि हमारे जीवन के सबसे पहले गुरु हमारे माता पिता होते हैं लेकिन सही मार्ग पर चलने का रास्ता शिक्षक हीसिखाते हैं। प्राचीन काल से ही भारत में गुरु और शिक्षक की परंपरा चली आरही है।   

जेनिथ कॉमर्स एकादमी के 18वें स्थापन दिवस पर मौजद छात्र-छात्राएं। मौर्य न्यूज18 ।

कार्यक्रम में विशिट अतिथि के तौर पर शिरकत करने आयी मधु मंजरी आकांक्षा चित्रांश ने भी सुनील कुमार सिंह को बधाई एवंशुभकामनायें दी। उन्होने कहा कि हमें प्रगतिशील और जिम्मेदार व्यक्तिबनाने में हमारे शिक्षकों के प्रयासों को स्वीकारने और कड़ी मेहनत की सराहना करना चाहिए। शिक्षक का भी दायित्व है कि वे बच्चों को ईमानदारी सेभविष्य संवारने का काम करे. अच्छी शिक्षा देकर एक जिम्मेदार नागरिकबनाये।उन्होंने छात्रों को कड़ी मेहनत करके आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

माता-पिता बच्चों की देखभाल करते औऱ शिक्षक जीवन का मार्ग बताते हैं

शिक्षकों एवं विद्याíथयों को उनके आदर्श को आत्मसात कर स्वंय का व्यक्तित्व निर्माण करना चाहिए। शिक्षकों को हमेशा सम्मान और प्रेम देना चाहिए क्योंकि शिक्षक हमें सफलता के रास्ते पर भेजने की कोशिश करते हैं। माता- पिता अपने बच्चों को प्यार करते हैं और देखभाल करते हैं लेकिन शिक्षक हमें सफलता के मार्ग पर भेजने की पूरी कोशिश करते हैं ताकि वहअच्छी नौकारी प्राप्त कर सकें।    कायक्रम के दौरान कुमार संभव ने अपनी मधुर आवाज सेदर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। मंच का सफल संचालन मास्टर उज्जवल औरकुमार संभव ने किया।

पटना से मौर्य न्यूज18 की रिपोर्ट ।