अपनाइए हड्डियों को स्वस्थ रखने के 5 तरीके ! Maurya news18

0
382

जाड़े  में जोड़ों के दर्द से बचने के लिए क्या-क्या करें बता रहे डॉ निषिकांत कुमार, ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जन, पारस हॉस्पिटल, पटना।

पटना, मौर्य न्यूज18 ।

पारस एचएमआरआई के ज्वायंट रिप्लेसमेन्ट सर्जन डा0 निषिकान्त कुमार ने जाड़े में जोड़ों के दर्द से बचने के लिए अपनी हड्डियों को हेल्दी रखने के लिए 5 उपाय बताए हैं। उन्होंने बताया कि हमारी अपनी जीवनशैली हड्डी की खराब सेहत के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक है। तेजी से भागती दुनिया ने लोगों को खुद के लिए समय निकालना मुश्किल बना दिया है। वे शायद ही व्यायाम करना पसंद करते हैं और ज्यादातर डेस्क वर्क में लगे रहते हैं। इनकी सक्रियता से मांसपेशियों में कमी होती है और अंततः हड्डियों के घनत्व में कमी आती है। यहां 5 तरीके बताए गए हैं, जिनसे हम अपनी हड्डियों के स्वास्थ्य को बनाए रख सकते हैं-

1. नियमित रूप से विशेषज्ञों के साथ हड्डी की जाँच करें

गठिया और ऑस्टियोपोरोसिस, हड्डी के सबसे आम विकार हैं। इन स्थितियों के बारे में पहले सोचा गया था कि वृद्धावस्था समूह को प्रभावित करने वाली यह प्रमुख चिंता अब युवा पीढ़ी को प्रभावित कर रही है। गठिया जोडों के आसपास कार्टिलेज के धीरे-धीरे घिसने के कारण होता है और ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी स्थिति है जहां हड्डी फ्रैजाइल हो जाती है।विशेषज्ञ के साथ अपनी हड्डियों की जांच करवाएं ताकि इसका जल्दी पता चल सके और इलाज जल्दी शुरू हो सके। प्रारंभिक अवस्था में परंपरागत तरीके से कुछ दवाओं सहित  इलाज किया जा सकता है, जबकि यदि नजरअंदाज किया जाता है तो दर्द और विकृति गंभीर हो जाती है , ऐसे में दैनिक गतिविधियां प्रभावित होती हैं और ज्र्वाइंट रिप्लेसमेंट  एकमात्र विकल्प बचता है। ऑस्टियोपोरोसिस के लिए बोन डेंसिटी  की जाँच  करायें ताकि लक्षण दिखाई दें क्योंकि  हड्डियों के घनत्व में कम से कम 30 प्रतिषत की कमी से पहले एक्सरे पर दिखाई नहीं दे सकता है।

2. हेल्दी फुड और एक्सरसाइज करें

अच्छे भोजन से स्वस्थ हड्डियों की शुरुआत होती है। डेयरी उत्पाद, ड्राई फ्रूट्स और हरी पत्तेदार सब्जियों को अपने आहार का हिस्सा बनाएं। जंक फूड से बचें। अच्छा हड्डी स्टॉक बनाए रखने के लिए व्यायाम सबसे महत्वपूर्ण कारक माना जाता है। अपने दैनिक दिनचर्या में से कम से कम 30 मिनट अपने आप को व्यायाम करने के लिए दें। ब्रिस्क वॉकिंग सबसे अच्छी एक्सरसाइज है जो आप खुद को दे सकते हैं।

3. धूम्रपान और शराब से बचें

धूम्रपान और शराब से हड्डी का क्षय होता है। इन आदतों से फेमोरल हेड का वैस्कुलर नेक्रोसिस  हो सकता  है जिन्हें बाद में ज्र्वाइंट रिप्लेसमेंट  की आवश्यकता हो सकती है।यहां तक कि अगर आप छोड़ नहीं सकते हैं, तो आपको इसे न्यूनतम तक सीमित करना चाहिए जैसे कि प्रति दिन 50 मिलीलीटर से अधिक शराब और प्रति दिन 3 सिगरेट से अधिक नहीं।

4. उचित विटामिन डी सप्लीमेंट

विटामिन डी प्राकृतिक रूप से उपलब्ध विटामिन है और धूप की उपस्थिति में हमारी त्वचा में संश्लेषित होता है। सूर्य के प्रकाश के संपर्क में नहीं रहने से जीवनशैली में विटामिन डी की कमी होती है। पर्याप्त विटामिन डी कैल्शियम के अवशोषण और हड्डियों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है।  विटामिन डी के स्तर की नियमित जांच करवानी चाहिए और पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी मिलता है, तो विटामिन डी न केवल हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है, बल्कि यह कोरोनरी धमनी की बीमारी को भी रोक सकता है और मधुमेह को भी रोक सकता है।

5. स्टेरॉयड युक्त सप्लीमेंट से बचें

किसी भी रूप में स्टेरॉयड के उपयोग से बचें। आज आपके मांसपेशियों के निर्माण के लिए बाजार में कई प्रोटीन सप्लीमेन्ट  उपलब्ध हैं। हर जिम ट्रेनिंग सेंटर में प्रोटीन सप्लीमेंट बेचा जाता है, यह कहकर  कि यह मांसपेशियों में तेजी से वृद्धि करता है। प्रोटीन का सेवन आवश्यक है लेकिन प्राकृतिक रूप से उपलब्ध पदार्थों जैसे अंडे, सोयाबीन आदि से इसका सेवन करने की कोशिश करें।  बाजार में उपलब्ध सप्लीमेंट में स्टेरॉयड हो सकते हैं जो आपकी मांसपेशियों को बढ़ा सकते हैं लेकिन लंबे समय में आपकी हड्डियों के स्वास्थ्य को कम कर सकते हैं जिससे हड्डियों का घनत्व और नाजुकता भंग हो सकती है। स्टेरॉयड आपके लिवर और किडनी को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

डा0 निषिकान्त कुमार, ज्वायंट रिप्लेसमेन्ट सर्जन , पारस एचएमआरआई, पटना, बिहार।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए गेस्ट रिपोर्ट