फोर्ब्स टॉपर सुमंत परिमल का दावा नई पहल से भारत की अर्थव्यवस्था में उछाल ला सकते हैं ! Maurya News18

0
746

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी औऱ गृहमंत्री अमित शाह के साथ-साथ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार औऱ उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी दी बधाई

बिहार के रहने वाले हैं सुमंत परिमल, दुनियाभर में एकमात्र भारतीय रहे, वो भी टॉप किया

ऑनलाइन प्रतियोगिता में हिस्सा लिया, दो महीने तक चला

बिहार के हेल्थ मिनिस्टर मंगल पांडेय ने ट्वीट कर दी बधाई , बिहार आमंत्रित किया

नयन, मौर्य न्यूज18 ।

फोर्ब्स मैग्जिन की सूची में दुनियाभर में टॉप पोजिशन लाकर तहलका मचाने वाले भारतीय युवा सुमंत परिमल का दावा है कि वो भारत की अर्थव्यवस्था में काफी उछाल ला सकते हैं। जीडीपी का रोना देश रो रही है लेकिन सुमंत कहते हैं कि इसमें ग्रोथ लाना कोई मुश्किल काम नहीं। अभी कुछ बिगड़ा नहीं है। ये सब क्यों हो रहा है औऱ कैसे दुरूस्त किया जा सकता है।

इस संबंध में कहते हैं कि ये सब सरकार के साथ विशेषज्ञों की टीम के बीच डिस्कसन के बाद ही सामने लाना उचित होगा। इस तरह की चीजों को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता है। मौर्य न्यूज18 से खास बातचीत में सुमंत परिमल ने कहा कि नये दौर में देश के सामने बहुत बड़ी चुनौतियां हैं , इसलिए इन चुनौतियों को भी नये तौर तरीके से ही निपटा जाना चाहिए। औऱ ये सब कोई असंभव जैसी बातें नहीं है औऱ ना ही अर्थव्यवस्था को लेकर इतनी हाय तौबा मचाने की जरूरत है, बस ही प्लानिंग से काम करने की जरूरत है।

सुमंत कहते है अब कृत्रिम इंटेलिजेंश का जमाना है। इसको समझना होगा। साइंस जिस तरह से नये रिसर्च कर आगे बढ़ रहा है, उसी तरह देश को ग्रोथ में ले जाने के लिए भी नये तरह से रिसर्च करने औऱ कृत्रिम इंटेलिजेंस को अपनाने की जरूरत है।

आपको बता दें कि सुमंत परिमल को दुनियाभर में फोर्ब्स की लिस्ट में जो टॉप रैंक पर रखा गया है, उसके पीछे कृत्रिम इंटेलिजेंस पर गहरी पकड़ होना ही है। रिसर्च काफी तगड़ा रहा औऱ कई सालों से करते रहे, जो अब काम आ रहा ।

फोर्ब्स ने ऑनलाइन प्रतियोगिता रखा था जिसमें  से टेकनो इंटेलिजेंट युवा जुड़े और फिर सबको मात देते हुए टॉप पर रहे । करीब दो महीने तक चली ऑनलाइन प्रतियोगिता में सुमंत परिमल ने अमेरिका, यूरोप, एशिया और ऑस्ट्रेलिया के विख्यात आईटी और एआई विशेषज्ञों को पीछे छोड़ दिया है। सुमंत की रेटिंग सबसे ऊंची रही, जिससे उन्हें फोर्ब्स (Forbes) ने वैश्विक विशेषज्ञों के पैनल में टॉप पर रखा है।

सुमंत दिल्ली-एनसीआर में 5ज्वेलर्स रिसर्च चीफ एनालिस्ट के पद पर कार्यरत हैं और उन्होंने एआई और रोबोटिक्स पर पांच साल तक काम किया है। ग्रेटर नोएडा में रोबोटिक्स टेक्नो. पार्क के प्रस्ताव में अहम भूमिका निभाई है। बता दें कि दुनिया की प्रतिष्ठित टेक कंपनियां जैसे- आईबीएम, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, अमेज़न एआई पर काम कर रही हैं।

पीएम मोदी के साथ देश दुनिया से मिल रही बधाई

ट्वीट के जरिए बिहार के हेल्थ मिनिस्टर मंगल पांडेय ने दी बधाई

आपको बता दें कि सुमंत परिमल की इस सफलता से तमाम भारतीय गौर्वांवित हैं। पीएम नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने भी इस सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। वहीं सुमंत परिमल के बिहारी होने की खबर के बाद बिहार के सीएम नीतीश कुमार औऱ उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी बधाई दी। औऱ कहा कि बिहार के लिए गर्व का विषय है। वहीं हेल्थ मिनिस्टर मंगल पांडेय ने अपने ट्वीटर के जरिए सुमंत परिमल की तस्वीर लगाकर बधाई दी औऱ ढेरों शुभकामनाएं दी है। औऱ बिहार आने का निमंत्रण दिया है। ताकि उन्हें सम्मानित किया जा सके।

देश दुनिया से मिल रहे काम का ऑफर

सुमंत परिमल की इस सफलता के बाद दुनियाभर से काम का ऑफर मिल रहा। देश-विदेश की बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने यहां बड़े पैकेज पर ज्वाइन करने का ऑफर दे रही। वहीं देश की तरक्की के लिए पीएमओ से भी जुड़कर देश के विकास के लिए काम करने का निवेदन सुमंत से किया गया है, वहीं जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने भी राज्य के विकास के लिए अपना योगदान देने का निवेदन किया है. इधर बिहार सरकार ने भी भूमि विकास के लिए सुमंत को बड़ी जिम्मेदारी सौंपने का ऑफर दिया है। इस तरह से कई बड़े ऑफर हैं लेकिन अब तक सुमंत परिमल ने किसी निर्णय पर नहीं पहुंचे हैं। फिलहाल वो चाहते हैं कि देश की अर्थव्यवस्था को बेहतर करने में अपना योगदान दें।

जानकारी के लिए बता दें कि सुमंत परिमल बिहार के हैं। औऱ गोपालगंज जिले में इनका जन्म हुआ औऱ फिर अपनी पढ़ाई पटना में की औऱ पटना के रहने वाले भी हैं। गोपालगंज जिले के बैकुण्ठपुर प्रखण्ड जन्मस्थली है, वहीं स्थायी रूप से पटना के राजा बाजार के रहने वाले सुमंत ने मैसूर विश्वविद्यालय से एम.टेक और जेवियर लेबर रिसर्च इंस्टीट्यूट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट (XLRI), जमशेदपुर से एमबीए किया है और इसके बाद वो कई वर्षों तक बोकारो स्टील प्लांट में अधिकारी के पद पर कार्यरत रहे। इसके बाद उन्होंने पांच वर्षों तक अमेरिका में रिसर्च किया है।


आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को समझिए क्या है

ये एक तरह का नया रिसर्च है। इसी इंटेलिजेंस तकनीक के जरिए सुमंत परिमल टॉपर बने। अब जानते हैं ये क्या है , दरअसल, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मानव और अन्य जंतुओं द्वारा प्रदर्शित प्राकृतिक बुद्धि के विपरीत मशीनों द्वारा प्रदर्शित बुद्धि है। कृत्रिम बुद्धि कोई भी ऐसा संयंत्र हो सकता है जो अपने पर्यावरण को देखकर, अपने लक्ष्य को प्राप्त करने की कोशिश करता है। यानि मशीन इंसानों के कार्यों की नकल करती है। बता दें कि अभी हाल ही में बिहार के कटिहार जिले के रिवम राज ने करीब 200 देशों के 2000 से अधिक स्कूली छात्र-छात्राओं के लिए आयोजित स्कॉलिस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट (Scholastic Aptitude Test) में पहला स्थान प्राप्त किया था।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए नयन कुमार की रिपोर्ट