शाह साहब जोश भर गए – नीरज Maurya News18

0
363

वैशाली में अमित शाह की रैली के बाद मौर्य न्यूज18 से भाजपा कार्यकर्ताओं से खास बातचीत

पटना, मौर्य न्यूज18 ।  

बिहार की वैशाली की धरती पर गृहमंत्री अमित शाह का आना और पब्लिक के साथ भाजपाइ कार्यकर्ताओं में सीएए को लेकर जोश भरना कैसा रहा। ये जाना बहुत ही जरूरी है। मौर्य न्यूज18 ने इसी मसले पर भाजपा के कार्यकर्ता से बात की और जानने की कोशिश की आखिर शाह का बिहार दौरा कैसा रहा।

कहने की बात नहीं कि कोई भी भाजपा कार्यकर्ता अपने दिग्गज लीडर के आगमन को लेकर खुशियां जाहिर नहीं करेगा ऐसा तो हो नहीं सकता लेकिन आखिर उनकी क्या सोंच बनी। वो इसे किस रूप में लिए ये जानना दिलचस्प है। इसी बात को टलोलने की कोशिश हमने की औऱ चुना उन इलाके के भाजपाई कार्यकर्ता को जो बेगूसराय लोक सभा चुनाव के दौरान देशभक्त बनाम देशद्रोही के नारे के साथ चुनाव मैदान में सक्रिय रहे। नाम कुमार नीरज जो भाजपा के बिहार भाजपा वाणिज्य प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक भी हैं।

नीरज कहते है कि वो आये और जोश भर गये। वो आये तो अब बिहार भाजपा के कार्यकर्ताओं में जान फूंक दी। हमने नीतीश कुमार के एलान पर जब सवाल किया तो कहने लगे उनका संदेश साफ था कि अब नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही एनडीए बिहार में चुनाव ल़ड़ेगी। सो, अब तैयारी पूरी तरह से कंस्ट्रेट करके नीतीश कुमार के नेतृत्व को लेकर ही जनता के बीच जाएंगे।

प्रशांत किशोर के बयान का कुछ यूं दिया जवाब

फिर सवाल ये कि नीतीश कुमार की पार्टी के ही एक सदस्य जो अहम रोल अदा करते रहे हैं उनका भाजपा की नीति से अलग बयान देना कहीं भाजपा कार्यकर्ताओं को चोट तो नहीं पहुंचा रहा…सवाल जदयू के प्रशांत किशोर को लेकर किया गया जो सीएए का औऱ एनपीआर व एनआरसी का भी विरोध कर रहे। तो नीरज कहते हैं जब शीर्ष नेता कुछ कहते हैं तो हम कार्यकर्ता उसी को फॉलो करते हैं बांकी कौन क्या कह रहा इससे हम कार्यकर्ताओं पर कोई फर्क नहीं पड़ता। ऐसे कार्यकर्ताओं की लंबी फौज है जो व्यक्तिगत ब्यान देकर सुर्खियों में बने रहना चाहते हैं। जहां तक प्रशांत किशोर का सवाल है तो वो एक बिजनेस मैन हैं और उनकी बिजनेस राजनीतिक दलों की लाइजनिंग करने में ही है। ऐसे में भाजपा के विरोध में बयान देकर वो अन्य दलों में अपनी पैठ जमाना चाहते हैं ताकि वहां से उन्हें और उनकी बिजनेस कंपनी को काम मिल सके। लेकिन वास्तव में बिहार में जदयू औऱ भाजपा की दोस्ती कोई प्रशांत किशोर जैसे व्यक्तियों की वजह से ना बनी है और ना टूटेगी। ऐसे में भाजपा हो या जदयू हो कोई कार्यकर्ता अपने शीर्ष नेतृत्व की बातों को लेकर ही आगे बढ़ेगा। इसमें प्रतिक्रिया देने जैसी कोई बात नहीं है पब्लिक सब समझती है। कौन किस मकसद से बोलता है।

अल्पसंखयक समुदाय के बीच क्या जा रही है भाजपा

सवाल ये भी उठा कि क्या अल्पसंख्य समुदाय के बीच भाजपा अपनी बात रख पा रही है। क्या अल्पसंख्य समुदाय अमित शाह की रैली में हिस्सा लेने आये। तो नीरज कहते हैं कि बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भी अमित शाह को सुनने आये थे। हर अल्पसंख्यक समुदाय सीएए को लेकर नासमझी वाला बर्ताव कर रहे हैं ऐसा नहीं हैं। जिन्हें बरगलाया गया है उनतक हम जैसे कार्यकर्ता जा रहे औऱ समझाने की कोशिश कर रहे औऱ भाजपा को इसमें कामयाबी भी मिल रही है।

मौर्य न्यूज18 ने ये भी सवाल किया कि आये तो थे सीएए समझाने लेकिन लगे नीतीश कुमार का नाम लेने। क्या इसे आने वाले चुनावी विधानसभा की बिगूल फूंकने की रैली भी कही जा सकती तो नीरज कहते है कि जब कोई शीर्ष नेता मंच से कोई ऐलान करता है तो उसके पीछे कई बात होती है। बात सीएए की हुई औऱ नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लड़ने की बात भी हुई तो जाहिर है कि कुछ महा बचे हैं चुनाव के तो इसमें वो भी बात कह दी गई ताकि तैयारी पुख्ता तरीके से हो। कन्फूजन में रह कर ना हो। ये तो अच्छी बात हुई।

बिहार विधानसभा चुनाव आते-आते सीएए कोई मुद्दा ही नहीं रह जाएगा – राजेश सिन्हा

वहीं पटना के भाजपाइ कार्यकर्ता औऱ बिहार भाजपा पर्यावरण प्रकोष्ठ के पूर्व संयोजक राजेश कुमार सिन्हा भी रैली में झंडा उठा सीएए के समर्थन में वैशाली पहुंचे। जब उनसे पूछा गया कि अबकी बार क्या मुकाबला सीएए बना नॉट सीएए होगा बिहार में। तो राजेश सिन्हा कहने लगे कि जबतक बिहार में चुनाव होगा सीएए कोई मुद्दा ही नहीं रह पाएगा। अभी से लोग इस कानून को लेकर बरगलाने वाले को पहचान गए हैं। ऐसे में विरोध करने वाले भी इस मुद्दे को लेकर नहीं चल पाएंगे। औऱ रही बात बिहार में मुद्दे की तो एनडीए सीएम नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी के नेतृत्व में इतना विकास कर चुकी है कि जनता किसी औऱ को चुनने की जरूरत ही नहीं है। कोई विकल्प इस जोड़ी का बिहार में है ही नहीं। जनता एकबार फिर मौका देगी। मौर्य न्यूज18 ने बिहार में बतौर गृहमंत्री अमित शाह के आगमन के बारे में पूछी तो कहने लगे इनके आने से एनडीए की ताकत औऱ बढ़ी है।

कह सकते हैं कि भाजपाइ इस रैली से पूरी तरह से जोश में हैं। महागठबंधन की चुनौतियों का सामना करने को तैयार हैं।

पटना से मौर्य न्यूज18 की खास रिपोर्ट ।