दिल्ली का एक बिजनेसमैन क्या कह रहा ! Maurya News18

0
436

बिजनेसमैन और समाजसेवी के एल गुप्ता से मौर्य न्यूज18 की खास बातचीत

बबली सिंह, बिजनेस रिपोर्टर, नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 ।

03 जून 2020 । बुधवार ।

देश कोरोना संकट से गुजर रहा है। पूरी दुनिया में अर्थव्यवस्था भी चौपट हुई है। अपने देश में बड़ी आबादी को कोरोना से बचाना औऱ अर्थव्यवस्था को भी बेहतर करना चुनौती हो गई है। बड़ी आबादी की जान इसपर अटकी है। ऐसे दौर में मौर्य न्यूज18 ने देशभर के बिजनेसमैन औऱ अन्य वो व्यक्ति जो अर्थव्यवस्था और स्वास्थ्य से डायरेक्ट जु़ड़े रहे हैं औऱ देश में अपना योगदान देते रहे हैं , उसने निरंतर बातचीत करेगी और उनके जरिए समाज में अनुभव शेयर करेगी । ताकि समाज के विभिन्न वर्गों को इसका सीधा लाभ मिल सके। औऱ देश को आर्थिक तंगी से उबारा जा सके। इसी कड़ी में हमने चुना है दिल्ली के बिजनेसमैन औऱ समाजसेवी के एल गुप्ता को।

नमस्कार !

आपको बता दें कि के. एल.गुप्ता, इंस्टैंट लॉजिस्टिक्स और कैरियर मिशन के महाप्रबंधक हैं । श्री गुप्ता से खास बातचीत में कोरोना संकट से लेकर अर्थव्यवस्था तक पर बातचीत हुई औऱ उन्होंने इस संबंध में बहुत ही महत्वपूर्ण बातें कहीं हैं। औऱ नये रोजगार करने वाले या फिर रोजगार की दिशा में कदम बढ़ाने वालों को इस समय क्या करना चाहिए इसपर भी अपनी राय रखी है। पेशे से बिजनेसमैंन लेकिन समाज की सेवा में भी अपना योगदान देने वाले के एल गुप्ता की एक अपनी पहचान है जो संकट की गहरी में लोगों के काम आ रही है। तो आइए जानते है क्या कुछ कहना है दिल्ली के इस बिजनेसमैन का।

covid 19 में उनके व्यापार पर कितना असर पड़ा है, क्या स्थिति है। इस सवाल के जवाब में श्री गुप्ता कहते है कि कोरोना संकट में उनके कार्य पर आर्थिक असर तो बहुत पड़ा है। लेकिन जब पूरे देश में लॉकडाउन है तो ये स्वभाविक है। लेकिन अब जब स्थिति समान्य होने की दिशा में बढ़ रही है तो काम में गति लाई जा रही है। औऱ निश्चितौर पर व्यापार आगे की ओर तेजी से बढ़ेगा। बस थोड़ी सी धैर्य रखने की जरूरत है।

श्री गुप्ता का कहना है कि देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में वक्त लग सकता है लेकिन पटरी पर लाने के लिए सबको मिलकर इसपर काम करना होगा। जनता हो, बिजनेसमैन हो औऱ सरकार हो सबको ईमानदारी से काम करनी ही पड़ेगा।

सवाल- क्या आप प्रधानमंत्री मोदी के आर्थिक पैकेज को मानते हैं कि ये अर्थव्यवस्था में सुधार ला सकता है ।

श्रीगुप्ता कहते हैं कि दूसरा कोई रास्ता नहीं है। अर्थव्यवस्था से तुरंत निकलने का। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से जो आर्थिक पैकेज दिए गये हैं वो बिजनेसमैन को लाभ जरूर देगा औऱ इसका फायदा अर्थव्यवस्था के सुधार में जरूर दिखेगा, ऐसा मुझे लगता है। लेकिन इतना जरूर है कि इसका लाभ दुरगामी है। तत्काल सबको एकजुट होकर मेहनत करनी ही पड़ेगी। अर्थिक मदद का लाभ भी आप तभी उठा पाएंगे जब आप में कुछ करने की ललक हो, औऱ मेहनत करने का ठोस इरादा हो। और जो ऐसा करेंगे उन्हें कभी दिक्कत नहीं होगी। रही बात अर्थव्यवस्था की तो हर हाथ को काम मिले इसके लिए सबको सोंचना होगा।

सवाल – एक बिजनेसमैन के तौर पर शुरूआत किस चीज से की औऱ कारोबार शुरू कैसे किया जाए ।

जवाब- श्रीगुप्ता ने मौर्य न्यूज 18 से बातचीत में कहा कि एक छोटे से कुरियर कंपनी से बिजनेस की शुरूआत की। धीरे-धीरे जब बिजनेस सीखता गया औऱ इससे होने वाली परेशानियों से निकलना आ गया तो लगा बिजनेस को और आगे बढ़ाया जाय़। शुरूआती दौर में थोड़े से मुनाफे के लिए काम किया, ना की खूब कमाने के लिए। बस. काम मिलता रहे, यही लक्ष्य रखा। फिर निरंतर काम होता रहे ये लक्ष्य रखा, फिर काम का विस्तार हो ये लक्ष्य रखा। इस तरह से चीजें आगे बढ़ी । ना कि मुनाफे औऱ घाटे को ध्यान में ऱखकर काम शुरू किया।

कारोबार के लिए पैसे से ज्यादा धैर्य बड़ी पूंजी – केएल गुप्ता

श्री गु्प्ता बताते हैं कि आप चाहे जो भी रोजगार शुरू करें उसे गति देते रहें , रुके नहीं । ऐसा करेंगे तो आपका बिजनेस चलना ही चलना है। अपनी बात करें तो अब तो हमारे पास तीन और कंपनियां है। कई युवाओं को मैंने रोजगार से जुड़ा हुआ । कई परिवारों की जिंदगी बेहतर तरीके से चल रही है। अब तो एक बड़ा बिजनेस परिवार है।

रही बात, नये रोजगार करने वालों के लिए तो, उपर जो बातें मैंने कही है, वही मेरा पहला मूल मंत्र होगा । हां, बिजनेस के लिए थोड़े से पैसे की जरूरत है पर उससे भी ज्यादा बुलंद इरादे औऱ कड़ी मेहनत की जरूरत है। वो भी निरंतर होनी चाहिए। और रही पूंजी की बात तो मेरा मानना है कि बिजनेस शुरू करने के लिए पैसे से बड़ा धर्य पूंजी होती है। ऐसा कर लिया तो समझिए आप भी सफल बिजनेसमैन हो गए।

समाज सेवा को लेकर भी चर्चा में रहते हैं

श्रीगुप्ता कहते हैं कि बिजनेसमैन के साथ-साथ शुरू से समाज सेवा भी करता रहा हूं। मेरा मानना है कि जब आपको समाज से कुछ मिल रहा है, तो समाज को लौटाना भी फर्ज है। इसी नाते मैने वीर अब्दुल हमीद फाउंडेशन के नाम से एनजीओ की शुरूआत की। गरीबों के लिए इसमें काफी काम होता रहा है। कोरोना संकट में भी जरूरतमंदों के लिए हर रोज खाने का इंतजाम होता है। आर्थिक मदद की जाती है।

भाजपा नेता रामकृपाल यादव के साथ बिजनेसमैन के एल गुप्त। फाइल फोटो। मौर्य न्यूज18

प्रवासी मजदूरों की जब दिल्ली से बाहर पैदल जाने वाली स्थिति देखी तो वहां भी लोगों की आर्थिक मदद फाउंडेशन की ओर से की गई है। अभी सेवा निरंतर जारी है। उन्होंने कहा कि समाज सेवा का एक अलग सुख मिलता है। उन्होंने बताया कि राजनीति से जुड़े कई हस्तियों से इस काम के लिए प्रोत्साहित भी किया जाता रहा है। उन्होंने बताया कि जब भाजपा के नेता औऱ तत्कालीन केन्द्रीय राज्यमंत्री रहे रामकृपाल यादव जैसे लीडर कामों को देखकर प्रोत्साहित किया तो बहुत खुशी हुई। इसी तरह से विभिन्न दलों के शीर्ष नेता मान-सम्मान देते रहे हैं। उन्होंने कहा कि समाज सेवा करने से आत्मसंतुष्टि भी मिलती है।

आप एजुकेशन की दिशा में भी काम करते हैं। तो वो क्या है।

श्री गुप्ता कहते हैं कि एजुकेशन किसी काम को दक्षता करने के लिए बहुत ही आवश्यक पहलू है। इसके बिना किसी काम को बड़ा अंजाम देना बड़ी चुनौती पूर्ण है। और दूसरी बात ये भी कि हर कोई बिजनेस मैन ही क्यों बने। कोई डॉक्टर, इंजीनियर , बैंक प्रबंधक, कलर्क, कैशियर, चार्टरएकाउंटेैंट, वकील, जज, आईएएस, आईपीएस, सिपाही, फौजी रह फिल्ड में लोगों का रूझान होना चाहिए। और सबके लिए एजुकेशन जरूरी है। कहते हैं, देश यूं ही आगे नहीं बढ़ता। एजुकेट होना पड़ता है। इसलिए एजुकेशन में भी हमने काम शुरू किया औऱ कैरियर संबंधित संस्था की स्थापना की। इसे भी आप एक बिजनेस औऱ समाज सेवा कह सकते हैं।

तो ये रही हमारी खास-बातचीत। आपको कैसा लगा आप हमें जरूर लिखें। लिंक जरूर शेयर करें। अगली कड़ी में फिर मिलेंगे किसी और शख्सियत से। धन्यवाद।

नई दिल्ली से मौर्य न्यूज18 की विशेष रिपोर्ट