होम्योपैथी उपचार कारगर है, यकीन करिए : डॉ श्वेता ! MauryaNews18

0
295

कोरोना औऱ होम्योपैथ पर दिल्ली की डॉ श्वेता की मौर्य न्यूज18 से खास बातचीत , पूरी खबर खास आपके लिए ।

बबली सिंह, बिजनेस संवाददाता. मौर्य न्यूज18, नई दिल्ली ।

वैकल्पिक इलाज की पद्धतियों और दवाओं को बढ़ावा देने वाले सरकारी आयुष मंत्रालय ने कहा है कि उन्होंने कभी भी ये दावा नहीं किया कि होम्योपैथी में कोरोना वायरस कोविड 19 का “इलाज” है. लेकिन इसके बावजूद भारत में इंटरनेट के ज़रिए ऐसे संदेश लगातार फैल रहे हैं जिनमें दावा किया जा रहा है कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए वैकल्पिक दवाएँ कारगर हैं.

डॉ श्लेता, होम्योपैथ चिकित्सक, नई दिल्ली। मौर्य न्यूज18 ।

इस संदर्भ में मौर्य न्यूज 18 की खास मुलाकात डॉ स्वेता से हुई ,जो दिल्ली की मशहूर होम्योपैथिक डॉ में से एक है।

सवाल: बहुत सारी अटकलें लगाई जा रहीं है कि होम्योपैथ में कोरोना वायरस को ख़त्म करने की दवा है, इसमें कितनी सच्चाई है ?

डॉ श्वेता :

अब तक कोई दवा नहीं है जो कि इस वायरस को ख़त्म कर सके लेकिन जैसा कि चिकित्सा जगत में सबका कहना है कि वायरस से बचने के लिए इम्यून को मजबूत करना होगा, ऐसे में कुछ दवाइयां हैं जो होम्योपैथी में उपलब्ध है, जैसे कि आर्सेनिक एलबम , ट्यूब्रोकोलाइन्नम इन सारी दवा के सेवन से इम्यून बढ़ता है और किसी भी बीमारी से लडने की क्षमता अधिक हो जाती है। लेकिन ये सब डॉक्टर की सलाह के बिना लेना ठीक नहीं। हर इंसान के लिए डोज अलग-अलग होते हैं। इसलिए यहां नाम बता देने से आप इसे खरीद कर अपने मन से यूज ना करें। चिकित्सकीय सलाह लेकर खाएंगे तो होम्योपैथ आपको कोरोना ले लड़ने में भरपूर मदद करेगा। औऱ ये बहुत कारगर है। यकीन करना होगा।

सवाल:. डॉ श्वेता आपने होम्योपैथ को ही क्यों चुना ?

डॉ. श्वेता :

कहती हैं कि किसी बीमारी को बिना ऑपरेशन या इंजेक्शन के ठीक किया जा सकता है तो वो है होम्योपैथ चिकित्सा पद्धति । और यही मेरे लिए आकर्षण का विषय रहा । और इसमें रूचि बढ़ती गई। एक तो जब कोई बीमार होता है तो खुद पीड़ा में रहता है, ऐसे में इलाज ही शारीरिक पीड़ा और मानसिक पीड़ा देने वाली हो तो ये मुझे पसंद नहीं रहा कभी से। इसमें सबको पता है कि खुराक देकर बिना किसी शारीरिक औऱ मानसिक पीड़ा दिए चिकित्सा की जा सकती है। खर्चे भी कम हैं। आम लोगों की बजट में बीमारी दूर हो जाती है। इस तरह सेवा करने का सुनहरा अवसर भी मिल जाता है।

डॉ श्वेता अपने डॉ पति बी कुमार के साथ । मौर्य न्यूज18, नई दिल्ली ।

सवाल: होम्योपैथिक के बारे में लोगो के मन में ये धारणा है कि ये बहुत धीरे असर करता है अगर जल्दी ठीक होना है तो अंग्रेज़ी दवा का ही सहारा लेना पड़ेगा ?

डॉ श्वेता : ये धारणा लोगो के मन में ये जरूर है लेकिन ये सही नहीं है। ऐसी धारणा नहीं बनानी चाहिए। साइंस ने हर फिल्ड में तरक्की की है। और होम्योपैथ साइंस को भी देखें तो इसपर कई रिसर्च हुए । और आये दिन हो भी रहे। बेहतर परिणाम दुनिया के सामने है। कई कठिन बीमारियों का निदान यहां आसानी से उपलब्ध है। लेकिन कहते हैं ना मन का विश्वास, सबसे बड़ी दवा है। वो जब होगा तो होम्योपैथ, अंग्रेजी दवा से भी ज्यादा असर करेगा। लोगों को ये नहीं भूलना चाहिए कि अंग्रेजी दवा से इलाज करा लाखों रूपये खर्च कर बीमारी से तत्काल राहत तो पा लेते हैं लेकिन जड़ से खत्म नहीं होता। होम्योपैथ किसी भी बीमारी को जड़ से उखाड़ फेंके वाली पद्धति है। यहां ऐसी कई बीमारियों की दवा है। ये भी सच है कि अब होम्योपैथ के प्रति लोगों का दिन प्रतिदिन विश्वास बढ़ता जा रहा है। बड़ी तादाद में लोग होम्योपैथ को पहले महत्व देते हैं फिर कोई और पद्धति चुनते हैं।

सवाल : अमूमन होम्योपैथ में महिला चिकित्सक ना के बराबर देखे जाते हैं, ऐसे में अपने काम की शुरुआत कहा से की !

डॉ श्वेता : कहती हैं मैंने शुरुआत एक चैरिटी हॉस्पिटल से की , जिसमें उनके साथ और भी डॉ थे जिनके साथ मिलकर लोगो का मुफ्त में इलाज करती थीं और ऐसा करते-करते सीखती चली गईं। डॉ श्वेता कहती हैं कि जहां तक महिलाओं का होम्योपैथ चिकित्सा पद्दति में आने का सवाल है तो ये जरूर है कि महिला चिकित्सक कम हैं लेकिन रूझान इतने बढ़ गए हैं कि आने वाले समय में आपको देश की कई बेटियां इस चिकित्सा पद्दति में भी शिक्षा लेते हुए देखेंगी । आने वाले समय में महिला चिकित्सकों की तादाद बढ़ने वाली है।

सवाल . कोरोना या अन्य किसी भी वायरस से बचने के लिए अपना इम्यून सिस्टम कैसे मजबूत करे?

डॉ श्वेता : हेल्दी खाएं और अपने आसपास साफ सफ़ाई का खास ख्याल रखें, बाहर के खाने का सेवन करने से बच्चे , कहती हैं, फ्लू पहले भी था और कोरोना वायरस भी एक फ्लू ही है, लेकिन इससे बचने का एक ही उपाय है अपने इम्यून सिस्टम को बढ़ाना होगा जिसके लिए हमें गर्म पानी पीना चाहिए , काढ़ा का सेवन करना चाहिए, हमारे रसोई में ही उपचार उपलब्ध है हल्दी वाला दूध,अदरक ,अश्वगंधा ,तुलसी वाली चाय और भी बहुत कुछ फ्रिज का पानी बिल्कल ना पिए।

डॉ श्वेता, होम्योपैथ चिकित्सा पद्धति, नई दिल्ली । मौर्य न्यूज 18

नई दिल्ली से मौर्य न्यूज18 की खास रिपोर्ट ।