अब सरोज खान को खो दिया बॉलीबुड ! Maurya News18

0
277

17 जून से ही मुम्बई के गुरूनानक हॉस्पिटल में भर्ती थीं

चारकोप कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा.

मुम्बई, मौर्य न्यूज18 डेस्क रिपोर्ट ।

मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का देर रात कार्डियक अरेस्ट के चलते मुंबई में निधन हो गया. सांस लेन में शिकायत के बाद उन्हें 17 जून से मुंबई के बांद्रा में स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में भर्ती थीं, जहां शुक्रवार देर रात 1.52 बजे कार्डियक अरेस्ट की वजह से उनकी मौत हो गई. सरोज खान 71 साल की थी. कुछ दिन पहले ही उनका कोरोना टेस्ट भी कराया गया था, जो नेगेटिव आया था. जानकारी के मुताबिक, मुंबई के चारकोप कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा.

सरोज खान ने बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक गाने दिए हैं. उनके सिखाए गए डांस के चलते बॉलीवुड में कई अदाकाराओं के करियर बन गए. उन्होंने साल 1983 में ‘हीरो’ फिल्म में कोरियोग्राफी की थी, जबकि बतौर कोरियोग्राफर उनकी आखिरी फिल्म ‘कलंक’ थी.

तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार

तीन बार की राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता रहीं सरोज खान ने कुछ यादगार गानों को कोरियोग्राफ किया है, जिसमें माधुरी दीक्षित-स्टारर फिल्म ‘तेजाब’, ‘ये इश्क है’ से 2007 में ‘जब वी मेट’ से लेकर संजय लीला भंसाली की ‘देवदास’ तक शामिल हैं.

सरोज खान ने सोहनलाल से की थी पहली शादी

सरोज खान का असली नाम निर्मला नागपाल था। और उन्होंने महज 13 साल की उम्र में अपने ही गुरू बी सोहनलाल से शादी की थी। सरोज ने इस शादी के लिए इस्लाम अपना लिया था। बी सोहन लाल सरोज से उम्र में 30 साल बड़े थे और यह उनकी दूसरी शादी थी। सोहनलाल पहले से ही शादीशुदा थे। सरोज को ये बात बच्चे पैदा होने के बाद पता चली। वहीं सोहनलाल ने बच्चों को अपना नाम देने से इनकार कर दिया इसके बाद दोनों अलग हो गए।सोहनलाल से अलग होने के बाद सरोज ने सरदार रोशन खान से शादी की।

कास्टिंग कॉउच पर भी उठाई थीं सवाल

2018 में सरोज खान ने कास्टिंग काउच को लेकर चौंकाने वाला बयान दिया था। एएनआई की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सरोज ने कहा था- ये तो चला आ रहा है बाबा आदम के जमाने से। हर लड़की के ऊपर कोई न कोई हाथ साफ करने की कोशिश करता है। गवर्नमेंट के लोग भी करते हैं। तुम फिल्म इंडस्ट्री के पीछे क्यों पड़े हो, वो कम से कम रोटी तो देती है। रेप करके छोड़ नहीं देती। ये लड़की के ऊपर है कि तुम क्या करना चाहती हो। तुम उसके हाथ में नहीं आना चाहती हो तो नहीं आओगी, तुम्हारे पास आर्ट है तो तुम क्यों बेचोगे अपने आपको। फिल्म इंडस्ट्री को कुछ मत कहना। वो हमारा माई बाप है

शाहरूख खान को जड़ा था थप्पड़

करियर के शुरुआती दिनों में शाहरुख खान जब एक के बाद एक तीन शिफ्टों में काम कर रहे थे, तब वे लगातार काम के चलते थक गए थे। एक दिन उन्होंने सरोज से कहा- सरोज जी, इतना काम है, थक गया हूं। तब सरोज खान ने उन्हें एक थप्पड़ मारते हुए बेहद प्यारी सलाह दी थी कि – कभी ये मत कहना कि ज्यादा काम है। इस फील्ड में काम कभी भी जयादा नहीं होता।

बॉलीबुड मुम्बई से मौर्य न्यूज18 की रिपोर्ट