शेयर बाज़ार का क, ख, ग जानिए विशाल श्रीवास्तव से…। Maurya News18

0
370

SHARE MARKET SPECIAL REPORT

दिल्ली में शेयर मार्केट के एक्सपर्ट हैं विशाल….!

बबली सिंह, बिजनेस रिपोर्टर, नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 ।

क्या है मिजाज़ शेयर बाज़ार का, कैसे अपनी पूंजी निवेश करें बाज़ार में आइए जानते है इस फिल्ड के जाने-माने विशेषज्ञ विशाल श्रीवास्तव से । आपको बता दें कि ये दिल्ली के आईसी आईसी सिक्योरिटीज दिल्ली के अधिकृत भी हैं। इनका खुद की एजेंसी है जो दुनियाभर के लोगों को स्टॉक बाजार में निवेश के लिए एक्सपर्रट राय देती रहती है। पेश है मौर्य न्यूज 18 के साथ खास बातचीत की पूरी रिपोर्ट ।

वर्तमान समय में सभी चाहते है कि उनके पास ढेर सारा पैसा हो

सभी छोटे छोटे सेविंग और इन्वेस्टमेंट करना चाहते है। जिससे कि आगे ज़िन्दगी आसान हो और वो एक समय के बाद अपनी इन्वेस्टमेंट और जमा पूंजी के द्वारा अपने जीवन को आसान बना सके ।उन्हें अपने प्रेजेंट से ज्यादा फ्यूचर का ख्याल होता है और यहीं वजह है की वो अपना सारा फोकस पैसे कमाने में लगा देते हैं ,लेकिन इस आपदा ने सीखा दिया कि ज़िन्दगी में सब कुछ खरीद सकते हैं, लेकिन नहीं खरीद सकते हैं ,तो वो है अच्छी सेहत और चैन सुकून।

मौर्य न्यूज 18 कि खास बातचीत में जानने की कोशिश की है कि शेयर में पैसे लगाना कितना सही है,और निवेश करने से पहले किन किन बातों का ध्यान रखना जाना चाहिए।

इसके बारे में मिस्टर श्रीवास्तव ने कहा कि शेयर मतलब कि हिस्सेदारी अगर हम किसी भी कंपनी का शेयर खरीदते है तो हमारी उस कंपनी में एक हिस्सेदारी हो जाती हैं ,शेयर में पैसे लगाने की एक प्रक्रिया होती है जो सिक्योरटी एंड एक्सचेंज बोर्ड के द्वारा गवर्न होती है,और कंपनी उसके बाद अपने शेयर मार्केट में लाती है ,फिर निवेशक उसमे अपना पूंजी लगाते है। उसके बाद जैसे जैसे कंपनी का मुनाफा बढ़ता है वैसे वैसे शेयर के दाम बढ़ते जाते है,और इसी के विपरित अगर कंपनी को घाटा हो रहा है तो शेयर के दाम कम हो जाते है।शेयर में पैसा लगाने के लिए दो प्लेटफॉर्म इंडिया में है।

1.नेशनल स्टॉकएक्सचेंज 2.बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज,

जब यहां पे शेयर लोग लगाते है तो उसकी लिस्टिंग होती है,तब वहां से लोग उसे खरीद फरोक कर सकते है।चुकीं निवेशक तो पूरे देश में है जो अपनी पूंजी बड़े बड़े कंपनियों में निवेश करती है, तो खरीद फरोख्त करने के लिए एक कॉमन प्लेटफॉर्म है नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज। उन्हें मार्केट की सही जानकारी अगर नहीं है जैसे पैसा कैसे लगाएं ,किस कंपनी में लगाए तो फायदा हो तो ये जानकारी उन्हें एक शेयर ब्रोकर ही दे सकता है ।सबसे पहले नए निवेशक को शेयर में इन्वेस्ट करने के लिए किसी भी शेयर ब्रोकर के अंडर अपना डीमेट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होता है,जिसके बाद आप शेयर खरीद-बेच कर सकते है।

अब जानते है कि डीमेट अकाउंट होता क्या है?

अगर आप किसी भी ब्रोकर के यहां अपना अकाउंट खोलते है तो इसके दो पार्ट होते है 1.ट्रेडिंग अकाउंट 2.डीमैट अकाउंट।ट्रेडिंग अकाउंट होता है जिससे हम लेन देन करते है।और ये एक तरह से चालू खाते कि तरह होता है ,जैसा कि बैंकों में भी होता है ।और दूसरी तरफ डीमैट अकाउंट ये एक सेविंग अकाउंट की तरह होता है,जहां की आपके शेयर इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में रखे होते, जैसे कि आप अपने बैंक में पैसे जमा करने जाते है और जो पैसा आप वहां जमा करते है वो एक अंक में आपके खाते में जुड़ जाता है,ठीक उसी प्रकार डीमैट एकाउंट भी होता है,जिसमें हम शेयर में पैसे लगाने के लिए अपनी पूंजी जमा करवाते है।अगर कोई सेवी में रजिस्टर करवाना चाहता है तो सबसे पहले किसी शेयर ब्रोकर के यहां अपना डीमैट अकाउंट खुलवा ले।उसके बाद वो शेयर में पैसे लगा सकता है।

अगर आम जनता अपनी खून पसीने की कमाई शेयर में लगाते है कि उनका पैसा दोगुना हो जाए तो आप उन्हें क्या सलाह देंगे कि उनका पैसा डूबे नहीं?

इस प्रश्न के जवाब में विशाल बतातें हैं कि यहां पर कोई भी रातों रात लखपति और करोड़पति बनने के सपने देखते हैं वो कृपया यहां अपने पैसे ना निवेश करें, क्यूंकि शेयर मार्केट में उतार चढाव होते रहते हैं , अगर आप लंबे समय तक निवेश करते हैं तो आपके पैसे बढ़ने कि संभावना ज्यादा है, कहते है कि जिन्होंने भी लंबे समय तक अपना निवेश किया है उनको हमेशा फायदा मिला है।उनका ये भी कहना था कि कोई भी कंपनी हो वो रातों रात बड़ी और सफल नहीं बनी है। फिर चाहे वो रिलायंस हो या इंडिया के बाहर की माइक्रोसॉफ्ट हो, ये सभी एक दिन में करोड़पति ,अरबपति नहीं बन गई इन्होंने भी शुरुआत एक छोटी सी कंपनी से कि थी और आज सालो बाद सफलता की उचाईयो को छू रहीं है,इसलिए धैर्य रखेंगे तभी सफल होंगे। हां ये जरूर है कि शेयर में निवेश करने पर एक छोटे समय में अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।क्यूंकि ऐसे बहुत सारी कंपनियां है जिन्होंने कम समय में अपनी पूंजी को कई गुना बढ़ाया है।जैसे कि इन्फोसेंस, हैवेल्स एलएनटी जैसे उदहारण बहुत मिल जाएंगे,बहुत सारी ऐसी भी कंपनी है जो बंद भी हुई है और लोगो ने अपने पैसे भी खोए है जैसे कि जेट एयरवेज ,किंग फिशर एयरलाइन,सत्यम टेक्नोलॉजी जैसे बहुत सारी कंपनी है जिसमें निवेशकों ने अपने पैसे खो दिए।इसलिए आपको शेयर में निवेश करने से पहले जागरूक रहना होगा ये देखना होगा कि जहां आप निवेश कर रहे है वो कंपनी कितना ग्रो कर रहा है ।

कैसे पता लगता है कि शेयर खरीदने के फायदे हुए हैं या नुकसान आइए जानते है मिस्टर श्रीवास्तव से?

उन्होंने उदहारण स्वरूप हमें बताया कि आज रिलाइंस इंडस्ट्री के शेयर का भाव 1900 रूपए है, तो अगर आपने उन्नीस हजार रुपए लगाए और दस शेयर खरीद लिए,लेकिन अगर कल का भाव रिलाइंस का नीचे गिरता है और 1700 हो जाता है तो आप फिर सत्रह हजार रुपए लगा कर दस शेयर खरीद सकते है तो इससे ये हुआ कि जो आपने 1900 में खरीदा और जो आपने 1700 में खरीदा तो अगर आपका एवरेज परचेज प्राइस 1800 हो गया और जो खरीद का रेट है वो नीचे आता गया।अगर रिलाइंस के शेयर फिर बढ़ते है 1900 वापस जाते है तो आप प्रॉफिटेबल हो गए।एवरेज अगर 1800 का आ गया तो आपको प्रॉफिट हो रहा है।इसलिए अगर हमें इन चीजो को जानना है तो किसी फाइनेंशियल एडवाइजर से ही मार्गदर्शन हो सकता है।

क्या शेयर में इन्वेस्ट किए पैसे हम जब चाहे निकाल सकते है ,आइए जानते है?

इसके बारे में उन्होंने कहां की आप जब चाहें अपने पैसे निकाल सकते है अगर आपने आज शेयर में निवेश किया और कल उसको बेचना चाहते है तो बेच सकते है बशर्ते उसके कुछ नियम है,अगर आपने किसी कंपनी के शेयर खरीदे है तो उस कंपनी में आपकी एक हिस्सेदारी हो जाती हैं और जब आप अपने शेयर बेचना चाहते है तब एक टी प्लस टू सेटलमेंट प्रक्रिया होती है जिसके दी दिन बाद आप अपने शेयर बेच सकते है।

हमे कैसे कंपनियों के शेयर खरीदने चाहिए जिससे हमें लाभ हो?

किसी भी कंपनी के स्टॉक एक्सचेंज के बारे में या वो कितना ग्रो कर रहीं है ये सारी चीज़े आज कल इंटरनेट पे अवैलेबल है और अगर आपको ज्यादा जानकारी चाहिए तो आप शेयर के जानकार से मिल कर ले सकते है।आपने जिस भी कंपनी में अपना पूंजी इन्वेस्ट किया है उसके बारे में हर जानकारी रखनी होगी ,थोड़ा जागरूक रहना होगा अगर हमने अपने पैसे लगाए है तो हर कंपनी तीन महीने के बाद अपना फाइनेंशियल कंडीशन डिक्लेयर करती है ,हमे इन सब चीजों पे ध्यान देना होगा।

अगर कोई नए निवेशक है तो बहुत सारी पुरानी कंपनी है जो अच्छा ग्रो कर रही है जैसे एस बी आई ,रिलाइंस ,इंफोसिस,या फार्मा में देखे तो ग्लेनमार्क, और ग्लैक्सो जैसी बहुत सरी कंपनियां है जिनको मार्केट कैपिटलाइजेशन के हिसाब से तीन भागो में बांटा गया है। 1. लार्ज कैप,2. मिड कैप और 3. स्मॉल कैप ,तो अगर कोई नया निवेशक है तो हम उन्हें सलाह देते है कि वो लार्ज कैप के द्वारा इन्वेस्ट करे ,और अगर कोई निवेशक ज्यादा समय नहीं देना चाहता है तो उनके लिए mutual fund इनडायरेक्ट इन्वेस्टमेंट होता है ,स्टॉक मार्केट में और वहां पर एक फंड मैनेजर होता है जो बताता है कि फंड कैसे लगाना है और कब निकालना है, उसका ख्याल रखता है।

इस आपदा यानी क्रोना काल में शेयर खरीदना सही होगा ?

इसपर उनका कहना था कि मार्केट कभी एक दिशा में नहीं जाता है ,इसमें उतार चढाव आते रहते हैं, ये जरूरी नहीं कि मार्केट अगर उपर जा रहा है तो हमेशा उसमे उछाल ही रहेगा,लेकिन जहां तक बात की जाय इस क्रोना काल कि तो इसमें अच्छे अवसर भी है पूंजी निवेश करने की बहुत सारी अच्छी कंपनियां है जिनके शेयर कम पैसे में खरीद सकते है जैसे आज से छह आठ महीने पहले एसबीआई का शेयर का कीमत 350 से 370 रुपए था। लेकिन आज इसकी कीमत घट के 150 से 200 तक का हो गया है। तो अभी एक अच्छा अवसर हो सकता आपके निवेश का ।और उन्होंने ये भी कहां कि सारा पैसा एक बार में निवेश ना करके थोड़ा थोड़ा करके लगाए तभी आपके लिए सही रहेगा।

नई दिल्ली से मौर्य न्यूज18 की खास बिजनेस रिपोर्ट ।