बिहार में ना राज है…ना नीति… खुलकर बोले युवा योगी प्रकाशनाथ ! Maurya News18

0
2566

बिहार मेरी कर्म स्थली, यहां देश का प्रसिद्ध धार्मिक पार्क बनाने का सपना करेंगे पूरा

नयन, पटना, मौर्य न्यूज18


विकास हवा है । हवा में बिहार है। हवा-हवाई सरकार है। सरकार में नीतीश कुमार है। तो बिहार में बहार है। कोई विकल्प नहीं। यही सच्चाई है। नीतीश कुमार को आप भला बुरा कह भी लेंगे तो ये नहीं कह पाएंगे कि कुछ नहीं किया। हां, बिहार को इन पंद्रह सालों में और नई उंचाइयों को छू लेनी चाहिए थी, जो हो ना सका।

अब, जब फिर से एकबार सरकार बनाने या चुनने की बात है तो स्थिति क्या करूं क्या ना करूं वाली है। ऐसे में एक संत जो बिहार को अपनी पहली कर्म भूमि मानता है। युवा भी है। जोश भी है। होश भी है। अध्यात्म भी है। और धर्म-कर्म की उम्मदा समझ भी रखता है। जो अपने सनातनी विचारो को लेकर सर्वधर्म संभाव को लेकर चलता है। वो जो 37 साल की उम्र में खुद को कहने के लिए योगी प्रकाश नाथ के अलावा कुछ भी भंडार करके नहीं रखा हो। जिसके कदमों में सत्ताधारी राजनेताओं का सिर झुकता हो।

आइए जानते हैं। ऐसी युवा कर्म योगी, साधक प्रकाशनाथ से कि ये बिहार औऱ बिहार की राजनीति के बारे में क्या कहते हैं। और ये क्या कहते हैं….इस कोरोना काल में इंसानी व्यवहार कैसा हो । मौर्य न्यूज18 से फोन के जरिए राजस्थान से खास बातचीत की योगी प्रकाश नाथ ने।

योगीजी आपका मौर्य न्यूज18 में स्वागत है।

एक सवाल है आपसे । आप राजस्थान में हैं। और आपकी पहली कर्म भूमि बिहार रही है। देश के दिग्गज राजनेताओं का आपके दरबार में आना-जाना होता है। बिहार और बिहार की राजनीति के बारे में आप क्या सोंचते हैं।

योगी प्रकाश नाथ कहते हैं … बिहार में ना तो राज है और ना ही नीति। राजनीति गौन है। नतीजा, बिहार में विकास हवा है। सरकार नीतीश कुमार की है। विकल्प उनसे बेहतर नहीं है। इसलिए लाख कोसने के बाद भी नीतीश कुमार ही बिहार में बहार के प्रतीक हैं। जनता इसके लिए खुद दोषी है। क्योंकि जनता जातिवाद और राजनेताओं के बहकावे में आकर सत्ता सौंपती है। नतीजा सामने है। विकास चाहे हवा में हो या धरती पर आपके सामने कोई विकल्प नहीं है। विकल्पहीन स्थिति कभी भी बेहतर नहीं कही जा सकती है।

योगी प्रकाश नाथ से जब ये पूछा गया कि क्या नीतीश कुमार औऱ लालू पुत्र को चुनने की बात होगी तो क्या होगा।

इसपर उन्होंने साफ कहा कि लालू प्रसाद ने नीतीश कुमार के सामने अपने पुत्र को विकल्प के तौर पर दिया। जनता क्या करेगी। कभी भी लालू पुत्र को नहीं चुन पाएगी। क्योंकि ये बेमेल विकल्प है। टक्कर नहीं दे सकती। वर्तमान स्थिति तो ऐसी ही है। नीतीश कुमार बिहार के लिए कभी सौभाग्य थे, अब दुर्भाग्य मानकर भी क्या करेंगे।

एक युवा योगी जो बिहार की राजनीति को इतनी गहराई से समझता है। ऐसे में एक सवाल ये भी कि अब क्या देखते हैं बिहार के भविष्य को।

कहते हैं…बिहार का भविष्य हमेशा पीड़ा सहकर भी उभरते रहने का रहा है। ये धरती बहुत ही धार्मिक है। धर्म को जन्म देने वाली धरती है। जहां बुद्ध हुए। जहां महावीर हुए । जहां नालंदा जैसा विश्वविद्यालय विश्व को शिक्षा देने वाली स्थली हो। ऐसे धरती बिहार है। इसके भविष्य को कोई बिगाड़ नहीं सकता है। हां, जिस रफ्तार से इसे आगे बढ़ना चाहिए, ना जाने क्यों अबतक ऐसा हो नहीं पाया। नीतीश कुमार ने जिस हद तक करने की सोंच बनाई उसे स्थिति इतनी जरूर बनी कि दुनिया कहने लगी, यहां भी कुछ बेहतर करने वाली सरकार है। लेकिन प्रश्न कई हैं। जो डराती भी है। चिंतित करती है। थोड़े में ही बहुत ज्यादा ढूंढने की आदत बना दी गई है। यानि जो करेंगे उतने को ही बहुत मानकर चलना होगा। यही है डरावनी सच्चाई है। विकल्पहीन डरावनी सच्चाई।

धार्मिक लोग । धार्मिक भूमि । धार्मिक सोंच औऱ धर्म के नाम पर खुद को समर्पित करने वाली जनता बिहार की जनता है। इसका भला हर हाल में होगा। ऐसा मैं एक धार्मिक और वैज्ञानिक सोंच के आधार पर कह सकता हूं।

योगी प्रकाश नाथ से जब हमनें ये बातें पूछीं कि कोरोना काल के बारे में धर्म क्या कहता है। और धर्म कर क्या रहा है। धर्म इस महामारी की वजह औऱ इसकी उम्र के बारे में क्या कहता है।

इस सवाल पर युवा योगी प्रकाश नाथ कहते हैं। धर्म वही कहता है जो सब दिन से कहता रहा है। प्रकृति प्रेम, प्रकृति में ही पार्वति और शिव हैं। इनके साथ छेड़छाड़ का नतीजा है ये सब। 20वें साल का अपना एक इतिहास भी रहा है। हर सौ साल पर ये सब देखा गया है। विभिन्न रूपों में आपदा इंसानों पर अटैक करती ही है। ऐसे में प्रकृति के साथ जुड़े रहना ही विकल्प है। रही बात कोरोना के उम्र की तो ये इंसानी सोंच तक सीमित है। सोंच से कोरोना जिस दिन मिटा देंगे वो उसी दिन मर जाएगा।

कानून का भय । धर्म का भय। होना चाहिए ।

आप 37 की उम्र को जी रहे। सुना आप 24 की उम्र में ही साधक बन गये। क्या करते हैं साधना।

कहते हैं करना क्या है। सत्य के मार्ग पर चलना। सत्य को समझना। उसे आत्मसात करना। किसी से कोई शिकायत नहीं। प्रभू से कोई चाहत नहीं। कोई डिमांड नहीं। जैसे वो बहने को कहते। उसी परिस्थिति में बहता चला जाता हूं। हां एक लक्ष्य है कि हर पल को जिया जाए। यही सबसे कहता हूं। सत्य ही मेरी ताकत है। कठोर संकल्प पर चलते रहना। सनातन धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए खुद को झोंक रखा है।

चलते-चलते ये भी बता दें कि धर्म औऱ राजनीति को आप कैसे देखते हैं। और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में आपकी क्या राय है।

PM MODI

योगी प्रकाश नाथ कहते है—राजनीति में कोई रूचि नहीं रखता। राजनेता मिलने जरूर आते हैं। राज पाट चलाने वाले मेरे जैसे योगी संत के पास जरूर आते हैं। उनके किये कर्मों के आधार पर कह सकता हूं कि सदा-सदा ही धर्म के आधार पर राजनीति या राजपाट चलती रही है। राजनीति औऱ राजपाट का भी अपना धर्म होता है। लेकिन अब राजनेता औऱ राजनीति का कोई धर्म नहीं रह गया है । रही बात प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की तो मैं तो उन्हें एक साधक के रूप में देखता हूं। आपको बता दूं कि ये वो राजनेता हैं जो केदारनाथ में भोलेनाथ की जिस तरह से साधना करके उनकी स्तुति की है कोई साधक ही समझ सकता है कि वो क्या हैं। इससे ज्यादा यही कह सकता हूं कि राष्ट्र को कभी-कभी ही ऐसे राजनेता मिलते हैं।

देश की युवा जनता के लिए कोई संदेश….

युवा हों या किसी भी उम्र के प्रत्येक मनुष्य को सोंचना चाहिए को जीवन को कैसे बेहतर से बेहतर तरीके से जिया जाए।

महाराष्ट्र में संतों की हत्या आहत कर गई, सत्ता सुख वालों को सजा मिलेगी

महाराष्ट्र में संतों की जिस तरह से हत्या हुई है। ये बहुत ही दुखद है। इसके लिए सता सुख भोगने वाले जरूर दंडित होंगे। उन्होंने ये भी कहा कि मिशनरी के नाम पर आदिवासियों को जिसतरह से सनातन धर्म से अलग किया जा रहा है ये विस्फोटक स्थिति है। मेरे जैसे संतों पर भी सनातन के प्रचार-प्रसार के लिए मिशनरी की ओर से हमले होते रहे हैं जो भारतवर्ष के लिए बहुत दुखद स्थिति है। इसपर सबको विचार करना होगा। हर इलाके हर क्षेत्र में सबको सजग रहना होगा। इसके लिए हमारी रूद्र वाहिनी संघ काम कर रही है। इससे जुड़े सभी लोग सनातन धर्म की रक्षा में अपना योगदान दे रहे हैं।

बिहार में बनेगा देश का प्रसिद्ध धार्मिक पार्क

योगी प्रकाशनाथ ने इस खास बातचीत के लिए मौर्य न्यूज18 को शुक्रिया कहा। और उन्होंने ये भी कहा कि बिहार मेरी ह्दय स्थली रही है, मेरे ह्दय में ये संकल्प है कि बिहार में भी बेहतर जीवन के लिए देश का प्रसिद्ध धार्मिक पार्क बनाया जाएगा।  

मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की खास रिपोर्ट ।