बिहार…यहां बुलंद स्टेट की बुलंद सरकार है ! Maurya News18

0
337

ठोस टिकाऊ, पूरी गारंटी वाली सरकार।

कॉलम : बात-बे-बात । मिरची लगी।

नयन, पटना, मौर्य न्यूज18 ।

मौर्य न्यूज18 बात-बे-बात…मिरची लगी कॉलम के तहत बिहार में फैलते कोरोना और सरकार के नुमाइंदों से सवाल करने पर उनकी तमताहट औऱ गुस्सा जग जाहिर है। लोग मर रहे हैं…पीड़ित हैं…चिल्ला रहे हैं लेकिन सबको चुनाव और वोट की पड़ी है। जनता भगवान भरोसे है। बीमार पड़े तो गए ऐसी हालत है… कुछ इसी पर व्यंगवान का मजा आप भी लीजिए।

आपको कोई दिक्कत हो तो फोन लगाइए ….!

ठोस टिकाउ, पूरी गारंटी के साथ टिक के रहने वाली सरकार। ये राजस्थान, मध्यप्रदेश, कर्नाटका नहीं है ये बिहार है । यहां सुशासन की सरकार है। कुमार साहब हमारे कप्तान हैं। आपको कोई दिक्कत हो तो फोन लगाइए, डायरेक्ट बतियाइए । सारा प्रॉबलेम दूर हो जाएगा। अब क्या चाहिए महाराज। पलायन करने वालों को सुविधा दी जाती है। जो पलायन करके लौटते हैं उन्हें तो और भी भरपूर सुविधा दी जाती है। जो कुछ नहीं कर पाते हैं उन्हें पार्टी का काम सौंप दिया जाता है।

हमारे बिहार में जो फैसलिटि उपलब्ध है वो पूरे भारत में कहीं उपलब्ध नहीं है। किस क्षेत्र की बात करते हैं आप….बोलिए जिस क्षेत्र की बात करेंगे अपने कुमार साहब देश में उससे आगे चल रहे हैं।

बोलिए बिजली है कि नहीं, पानी है कि नहीं, रोड है कि नहीं, खेती होती है कि नहीं, पशुपालन होता है कि नहीं, सब्जी उगाई जाती है कि नहीं, लड़की पढ़ने जाती है कि नहीं, बेटी के मां बनने पर  उसको रूपया मिलता है कि नहीं । अरे  क्या नहीं है…अपने बिहार में।

सर फैक्ट्री नहीं है, शिक्षा चौपट है, बेरोजगारी बढ़ रही है…लूट-हत्या-बलात्कार…सेल्टर होम में गैंगरेप। जो हो रहा है सो…।

करोगे नौटंकी जी। दिखावें तुमको फैक्ट्री। चलिए फुटिए यहां से कैमरे लेके औऱ एगे डंडा लेके चले आते हैं। फालतू बात सब पूछने। हम पूछने लगेंगे त दांते चियार दीजिएगा। फैक्ट्री खोज रहे हैं। सेल्टर होम में गैंगरेप का रिपोर्ट चाहिए इनको। दू लात देंगे सीधे लालू यादव के बॉन्ड्रीवाल में जाके गिरोगे समझे कि नहीं।  

सुन लो कान खोल के …. बिहार में अपने सुशासन बाबू हैं । कुमार साहब हैं। ठोस दिमाग के हैं।

“अच्छा तब तो कोरोना कुछ नहीं बिगाड़ रहा होगा बिहार को। “

करिएगा बकवास। देंगे माइक सहित उठा के गंडक में फेंक। कोरोना-कोरोना क्या है जी। हम पैदा किए हैं कोरोना को…, हमारे कुमार साहब पैदा किए हैं..जो उसे रोक दें।

आपको बुझाता नहीं है कि घर में सुत के रहने से कोरोना भागल रहता है। रोड पर बौखिएगा औऱ कहिएगा बाप रे बाप कोरोना हो गया। अस्पातल में कौनों इंतजामे नहीं है। खुद त स्वस्थ्य रहने आता नहीं औऱ अस्पताल में सुविधा खोजते हैं। जब आप खुद को ठीक नहीं रख सकते त हम अस्पताल को ठीक रखेंगे इ कैसे आपको समझ में आया जी। कान के जड़ में अइसन देंगे ना कि सब माइक लेके पूछना भूल जाओगे बाबू।

तुम जो बकवास कर रहे हो… अब तुमही बताओ, हम वहां इलाज, सुइया देंवेंगे। कुमार साहब सिंरिंज लेके घुमेंगे कि कौन कोरोना है जी आओ हम ठीक कर देंगे। बुरबक कहीं का कौन थमा दिया जी तुमरे हांथ में माइक और कैमरा। मालिक को लगाएं फोन ….अरे हमरे कुमार साहब के देल विज्ञापन पर तुम लोग का रोजी-रोटी चलता है जी। दू मिनट में रोकवा देंगे सब। लगावें तुमरे मालिक के दो मिनट में फन-फना के दौड़ल आवेगा औऱ तुमरा नौकरियो खा जाएगा।

चलो फुटो यहां से…अस्पताल में जो सब बढियां दिखे उसको दिखाओ। पसेंट रोने- चिल्लाने त अस्पताल में ही ना आएगा कि अपने घर में रहकर चिल्लाएगा। कौनों चिल्लाता है त चिल्लाने दो। हमारा इंतजाम पूरा टाइट है। कागज देखे हो। सारी तैयारी फुल टायट है। कोविड हॉस्पिटल का भरमार है। बेड औऱ वेंटिलेटर त इतना है कि अगले पांच बरिस तक सबका इलाज करते रहेंगे तभीयो वेंटिलेटर बचले रह जाएगा। कौनों इ सब के जरूरत है जी। ऑक्सिजन सिलिंडर त मारे गोडाउन में सर रहा है। कौनों काम ही नहीं मरीजे नहीं उतना। घरे-घरे जांच हो ही रहा है…घरे में इलाज कर देते हैं। इतना भारी सुविधा पूरे देश में कहीं मिलेगा जी।

लेकिन कुछ लोग मर रहे हैं  सो…

अरे बुरबक मरेगा नहीं जी…सब जिंदे रहेगा त धरती पर रहने का जगह मिलेगा बुरबक कहीं का। इ लालूजी के सरकार है क्या जी…जो सब ठायं-ठायं गोली से मरता था…हमारे कुमार साहब के राज में लोग कोरोना से मर रहा है। कौनों मामूली बात है। अखबारों में नाम हो रहा है मरेवाले का,  पहले कभी सुने थे कि मरने वाला का संख्या और नाम अखबार में छपता था। हमारे कुमार साहब के राज में मरने के बाद भी सम्मान मिल रहा है। समझे। चलो अब फुट लो माइक औऱ कैमरा लेके। कोरोना मत फैलाव। जनता बहुत गदगद है कुमार साहब से। अपने बुलंद बिहार की बुलंद सरकार का मथा गरम मत करो। नहीं त स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी नियर कुटा जाओगे फोनवे पर ।

बोलो…। जय बिहार, जय सरकार। नीतीशे कुमार।