डीजीपी साहब ! कहां छिपा है हत्यारा, गिरफ्तार करिए : सम्राट चौधरी ! Maurya News18

0
1418

गोपालगंज : SIT गठित करिए, घर ध्वस्त करिए, संपत्ति कुर्क करिए, सालभर हो गए रामाश्रय सिंह कुशवाहा हत्याकांड के

पटना, मौर्य न्यूज18 ।

भाजपा नेता विधान परिषद सदस्य सम्राट चौधरी । मौर्य न्यूज18 ।

बिहार में अपराध कंट्रोल करिए डीजीपी साहब। आप से बहुत उम्मीद है इसलिए कह रहा हूं। बहुत हो गया। अपराधियों का मनोबल बढ़ गया है। त्वरित कार्रवाई करिए। एसआईटी गठित करिए। हत्यारे को गिरफ्तार करिए। जल्द पकड़ में ना आए तो उसके घर को ध्वस्त करिए। संपत्ति जप्त करिए। ऐसा करना जरूरी है। पीड़ित परिवार की सुरक्षा करिए। नहीं तो और भी भयावह स्थिति होगी। परिवार बुरी तरह से अपराधियों के डर के साए में जी रहा है ।

ये कोई और नहीं बिहार भाजपा के नेता और विधान परिषद के सदस्य सम्राट चौधरी कह रहे हैं। सम्राट ने एक पत्र बिहार के डीजीपी को लिखकर ये सब कहा है।

भाजपा के सम्राट चौधरी डीजीपी को गोपालगंज में रामाश्रय सिंह कुशवाहा की हत्या की याद दिलाते हैं। कहते हैं…गोपालगंज कांड संख्या- 205/19  को याद करिए। पटना हाई कोर्ट CWJC NO- 1823/2019 में कोर्ट ने गोपालगंज के पुलिस अधीक्षक से साफ कहा है कि केस को स्वयं हाथ में लीजिए और जल्द से जल्द विशेष टीम गठित कर हत्यारे को गिरफ्तार करिए । और कुर्की जब्ती भी करिए।


मामले को समझिए….

गोपालगंज जिले में ही पड़ने वाले भोरे थाने का ये मामला है। जब 13 जून 2019 को रामाश्रय सिंह कुशवाहा की हत्या कर दी गई। ये उस इलाके के चर्चित व्यवसायी थे। कुशवाहा की पेट्रोल पंप पर सरेआम हत्या कर दी गई थी। परिवार वालों ने नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई। जिसमें कुल नौ नामजद अभियुक्त हैं। इन अभियुक्तों की गिरफ्तारी ना होने पर परिजनों ने शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की ।  स्थानीय लोगों ने व्यापक आंदलोन किया। कुशवाहा की पत्नी सुनीता सिंह ने जलसत्या ग्रह किया, बेटी भी सत्याग्रह की। दोनों मां-बेटी जल सत्याग्रह के दौरान गले तक पानी में डूबकर तालाब में घंटों ख़ड़ी रही। बाजार तक बंद हुए। लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई।

कितने नामजद हैं….

इसमें कुल नौ नामजद अभियुक्त हैं। छह लोगों पर नामजद हत्या का आरोप है औऱ तीन नामजद पर साजिश करने का आरोप है। कहा जाता है कि ये सभी नामजद काफी रसूक वाले हैं। बाहूबली लोग हैं। और एक जमाने से पूरे गैंग की आपराधिक हिस्ट्री रही है। सालभर हो गए लेकिन पुलिस हत्यारे को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। मृत्तक की पत्नी सुनीता सिंह हत्यारे की ओर से धमकी दिए जाने की बात भी पुलिस से कह चुकी है। फिर भी कुछ हो नहीं पाया है। मामला सालभर से लटका पड़ा है। हाल में पीड़ित परिवार ने आमरण अनशन भी किया।

भाजपा के सम्राट कहते हैं पूरी जानकारी मिलने के बाद मुझे बहुत दुख के साथ ये कहना पड़ रहा है कि अब तक गोपालगंज पुलिस नाकाम साबित हुई है। बहुत दुखद स्थिति है। कोर्ट के आदेश के बाद भी पुलिस मुजरिमों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। औऱ ना ही कोई दबिश बना पाई है। क्या कारण है ये पुलिस ही जाने। कांड के सालभर हो चुके हैं। अब तो पानी सर से उपर बहने लगा है। परिवार के लोग हताश हैं। डरे हुए हैं।

कानून से बड़ा कोई कैसे हो सकता है। इसलिए डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को पत्र लिखकर पुलिस महाननिरीक्षक या पुलिस उपमहानिरीक्षक के नेतृत्व में एसआईटी गठित कर अतिशीघ्र गिरफ्तारी की मांग उठाई है। बिहार के डीजीपी से उम्मीद है, इस पत्र को गंभीरता से लेंगे और जल्द हत्यारों को सलाखों में डालेंगे।

 

पटना से मौर्य न्यूज18 की रिपोर्ट।