BIG BREAKIG ! बिहार डीजीपी ने किया इस्तीफे का खंडन, कहा न्यूज गलत है Maurya News18

0
27287

नयन, पटना, मौर्य न्यूज18 ।

गुरूवार 20 अगस्त 2020 को मौर्य न्यूज18 से खास मुलाकात की ये तस्वीर है। ये तस्वीर डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के सरकारी आवास पर ली गई। मौर्य न्यूज18 ।

नीचे दिए खबर को आप पढ़ेंगे जो मौर्य न्यूज18 ने लिखा है कि डीजीपी बिहार ने इस्तीफा दिया है। लेकिन डीजीपी ने इस खबर को पढने के बाद इसका खंडन किया है। औऱ कहा है कि पूरी तरह से भ्रामक और अफवाह फैलाने वाली खबर है। उन्होंने कहा कि इस तरह की खबर का मैं खंडन करता हूं।

खबर का डिटेल नीचे दिया हुआ है इसी खबर की डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने खंडन किया है। अगर चुनाव से पहले इस्तीफा देते हैं तो इस खबर की पुष्टि हो पायेगी। तब तक के लिए मौर्य न्यूज18 खेद व्यक्त करता है।

नयन, मौर्य न्यूज18 ।

आपको बता दें कि बहुत ही ताजी खबर है। पूरे देश के लिए बड़ी खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने नौकरी से ही रिजाइन कर दिया है। वो नौकरी छोड़ रहे हैं।

दिल्ली के सूत्रों से पता चला है कि इसके लिए डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने बिहार सरकार के माध्यम से केन्द्रीय गृह मंत्रालय को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। ये सब हुआ है शनिवार यानि 22 अगस्त 2020 को ही । यानि 22 अगस्त को डीजीपी की ओर से इस्तीफा लिख कर भेज दिया गया। अब सिर्फ सरकारी औपचारिकता भर बची है।

आपको पता है कि सुशांत सिंह राजपूत केस में सुप्रीम कोर्ट के सीबीआई जांच के फैसले के बाद पूरे देश में डीजीपी बिहार गुप्तेश्वर पांडेय सुर्खियों में आ गए थे। काफी तारीफ हो रही थी। ऐसे वक्त में नौकरी छोड़ना आश्चर्य का विषय लगता है।

लेकिन हम बताते हैं …कि इस तारीख को नौकरी छोड़ने के लिए क्यों चुना गया। क्या कारण है जो देश भर से तारीफ मिलने के बाद इस्तीफा दे दिया , जबकि इनकी नौकरी अभी फरवरी 2021 तक बची हुई थी।

इस्तीफे के गणित को समझिए । फरवरी 2021 तक नौकरी का मतलब मात्र छह माह ही नौकरी बची है। और इसी बीच विधान सभा चुनाव होना है। और इन दिनों डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय सुशांत केस में हीरो बनकर उभरे हैं। यानि छवि के मामले में पब्लिक के बीच हीरो वाले स्टेज में है। ऐसी स्थिति में विधानसभा में जाने औऱ विधायक बनने का सपना पूरा करने का सटीक वक्त है।

ये सपना लंबे समय से पाले हुए थे। एकबार इसी सपने को पूरा करने के लिए नौकरी छोड़ भी चुके थे । लेकिन उस समय किसी कारण से पूरी गोटी नहीं बैठ पाई और चुनाव लड़ने की कसक रह गई थी। फिर नौकरी में लौटे लेकिन वो सपना मरा नहीं था। जिंदा है। सो, इस समय वक्त भी और मौका भी है। सो, पूरी तरह भंजा लेना चाहते हैं। यानि मत चूको चौव्हान….सोच लिए कूद पड़े हैं तैयारी में।एनडीए सरकार में इनकी पकड़ भी है। भाजपा से नजदीकी जग जाहिर भी है। सो, इस बार निशाना लगता है सटिक है। पब्लिक भी जय-जय कर ही रही है।

आपको बता दें कि मौर्य न्यूज18 इसी 20 अगस्त को बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय से सरकारी आवास पर सुशांत केस में सीबीआई जांच के आदेश के बाद इंटरव्यू किया था। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि मौर्य न्यूज18 ने ही डीजीपी पद संभालते ही ऑफिस में पहला इंटरव्यू लिया था जो ऑन रिकार्ड है। और शायद बतौर डीजीपी अंतिम भी ।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की खास रिपोर्ट ।