जमुई क्राइम : छुट्टा घुम रहा जदयू के दलित नेता पर हमला करने वाला। एसपी बोले- जल्द सलाखों के पीछे होगा ! Maurya News18

0
979

पहले पिता की हत्या हुई अब बेटे पर भी जानलेवा हमला, खतरा कायम है।

पंचायत सरकार भवन बनाने के लिए मुखिया प्रतिनिधि से पहले रंगदारी मांगी, फिर हमला किया।

एसपी बोले- नामजद अभियुक्तों की गिरफ्तारी तय, डीएसपी कर रहे सुपरविजन।

नीतीश सरकार की ड्रीम योजना पंचायत सरकार भवन बनाने से कोई रोक नहीं सकता, प्रशासन हर संभव मदद करेगा

नयन, पटना/जमुई, मौर्य न्यूज18

29 अगस्त , शनिवार का दिन। समय करीब दो से ढाई के आसपास का रहा होगा। जमुई जिले का अगहरा बरूअट्टा पंचायत में एक जानलेवा हमले की खबर आग की तरह फैल जाती है। हमला इसी पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि औऱ जदयू के दलित नेता राकेश कुमार पासवान पर होता है। हमला ऐसा कि जान चली जाती लेकिन शुक्र कहिए की अपने एक्सयूभी पर सवार मुखिया प्रतिनिधि किसी तरह अपने को बचाने की कोशिश करता है। फिर भी लोहे की रॉड औऱ लाठी-डंडे चलाये जाते हैं। गाड़ी का शीशा चकनाचूर हो जाता है। गाड़ी में रखे बैग से 46000 रूपये लूट लिए जाते हैं और कहा जाता है कि 2 लाख रूपये दो नहीं तो यहां से बचकर नहीं निकल पाओगे। ये स्थिति तब है जब बिहार में नीतीश कुमार की सरकार है और कार्यकर्ता भी उन्हीं का है।

जमुई जदयू के जिला उपाध्यक्ष सह बिहार प्रेदश जदयू दलित प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष एवं अगहरा-बरूअट्टा पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि राकेश कुमार पासवान । जिनपर जानलेवा हमला हुआ। फाइल फोटो। मौर्य न्यूज18 ।

अब सवाल है कि हमला हुआ क्यों और किसने किया …तो ये भी जान लीजिए। अभी दो दिन पहले ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वर्चुअल रैली के जरिए ग्रामीण पंचायत प्रतिनिधियों को संबोधित किया था और कहा था कि जिस तरह से मैं बिहार का मुखिया हूं उसी तरह गांव के मुखिया भी वहां की सरकार है। इसलिए हमने ड्रीम प्रोजेक्ट के तौर पर हर पंचायत में पंचायत सरकार भवन बनाने का फैसला किया है और हर मुखिया को इसके लिए 1 करोड़ रूपये दिए हैं और कहा है कि आप खुद बनबाइए।

अब यही 1 करोड़ वाली, पंचायत सरकार भवन बनाने की मुख्यमंत्री की ड्रीम योजना को साकार करने निकले थे मुखिया प्रतिनिधि राकेश पासवान। राकेश जो मुख्ममंत्री नीतीश कुमार की पार्टी के सिपाही हैं। उन्हीं के पार्टी जदयू के दलित नेता हैं।  जो पंचायत सरकार भवन बनावाने के लिए अपनी पंचायत में ही कुछ इंजीनियर और अपने पंचायत कर्मियों के साथ साइड पर नापी करा रहे थे, बस फिर क्या था, पंचायत सरकार भवन बनाने वास्ते गए मुखिया प्रतिनिधि के दुश्मनों औऱ जदयू विरोधियों को इसकी खबर लग गई। एक तो जदयू नेता उपर से दलित दोनों का खामियाजा राकेश पासवान को जान लेवा हमले के रूप में भुगतना पड़ा। जिस तरह से अपराधियों ने…जदयू विरोधियों ने मुखिया प्रतिनिधि की गाड़ी को घेर कर हमला किया है, बस ये समझ लीजिए कि भगवान की कृपा से वो व्यक्ति जिंदा है। और न्याय की गुहार लगा रहा है।

आपको ये भी बता दें कि अगहरा-बरूअट्टा पंचायत की मुखिया महिला हैं जिनका नाम है सिमरन प्रिया। जदयू नेता राकेश पासवान इनके पति हैं। और मुखिया प्रतिनिधि भी । इस नाते ग्रामवासियों के सारे सुख-दुख में शामिल होते हैं और अपने लोकप्रिय नेता और बिहार के मुखिया नीतीश कुमार के किए कार्यों को समय पर जल्द से जल्द पूरा करने के प्रति तत्पर रहते हैं, जो जदयू विरोधियों को पचता नहीं। राकेश पासवान कहते हैं कि मैं दलित हूं, इससे पहले भी हमारे शिक्षक पिता की कुछ साल पहले हत्या कर दी गई थी। शिक्षक भुवनेश्वर पासवान काफी लोकप्रिय टीचर थे, औऱ बिहार राज्य अराजपत्रित प्रारंभिक शिक्षक संघ, जमुई के जिला सचिव भी थे। जिनकी हत्या दिनदहाड़े करीब 11 बजे दिन में कर दी गई थी । सरेआम हत्या हुई थी। गोलियों से भून डाला गया था। अब पुत्र पर साजिशन हमला, क्या कहेंगे इसे। पुलिस प्रशासन को इसे हलके में नहीं लेना चाहिए।

ग्रामीणों के साथ राजगीर विधायक रवि ज्योति और मुखिया प्रतिनिधि राकेश पासवान । फाइल फोटो।

कहते हैं, मुझ पर हमला लोहे के रॉड से, लाठी-डंडे से किया गया। घेर कर किया गया। मैं इस बात से इनकार नहीं कर सकता कि अगर ऐसे अपराधियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर सख्त सजा नहीं दी गई तो कभी भी मेरी हत्या हो सकती है।

श्री पासवान कहते हैं कि प्रशासन से सारी बातें बता दी गई है। हमारे पास सुरक्षा का कोई साधन भी नहीं है। जमुई थाने में बरूअट्टा गांव के ही हमलावर तिलो गोस्वामी, रामानंद गोस्वामी, राहुल गोस्वामी, हरनारायण गोस्वामी, चंदन गोस्वामी सहित अन्य के खिलाफ नामजद मुकदमा दायर कर दिया है। लेकिन अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। सभी हमलावर छुट्टा घुम रहे हैं। जदयू नेता कहते हैं कि अगर जल्द गिरफ्तारी नहीं हुई तो घर पर भी हमला कर सकते हैं। ऐसी स्थिति में गांव में नीतीश सरकार की ड्रीम योजना पंचायत सरकार भवन का निर्माण करना भी मुश्किल हो जाएगा। उन्होंने स्थानीय पुलिस प्रशासन से हमलावरों को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है। कहा है कि ग्रामीणों में इस घटना को लेकर कर काफी रोष है।  

मौर्य न्यूज18 ने जमुई एसपी पीके मंडल से इस घटना के संबंध में बात की औऱ जानना चाहा कि अब तक हमलावरों की गिरफ्तारी क्यों नहीं हो पायी है। तो उन्होंने साफ कहा कि मामले को डीएमपी देख रहे हैं.. हमलावरों को ये भ्रम नहीं होना चाहिए कि वो बच कर निकल जाएंगे। वो जहां भी होंगे उन्हें खींच कर सलाखों में डाला जाएगा। कानून के तहत सख्त से सख्त सजा दी जाएगी। सरकारी योजना में बाधा डालना अपने आप में बहुत बड़ा क्राइम है। उन्होंने ये भी कहा कि जदयू नेता और मुखिया प्रतिनिधि राकेश पासवान पर हमला हुआ है ये सही है, इसमें कौन-कौन शामिल हैं इसके लिए डीएसपी के नेतृत्व में जांच की जा रही है। डरने की बात नहीं है। मुखिया और मुखिया प्रतिनिधि की सुरक्षा पुलिस करेगी।

राजगीर के जदयू विधायक रवि ज्योति बोले – मैं मुख्यमंत्री से बात करूंगा, कोई बच नहीं पाएगा

राजगीर विधायक और जदयू के दलित नेता रवि ज्योति ।

राजगीर विधायक और जदयू के दलित प्रकोष्ट के प्रेदश अध्यक्ष रवि ज्योति ने इस घटना पर काफी रोष व्यक्त किया है औऱ साफ कहा है कि इस संबंध में मैं सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात करूंगा। और जमुई जाकर खुद इस मामले में डीएम औऱ एसपी से बात करूंगा। उन्होंने कहा कि प्रशासन को समझना होगा कि जिस जदयू दलित नेता और मुखिया प्रतिनिधि पर जान लेवा हमला हुआ है। उनके पिता को भी सरेआम अपराधियों की गोलियों ने भून डाला था। वो शिक्षक थे । दलित थे। उनकी प्रगति देखी नहीं गई। फिर भी उनका परिवार जनता की सेवा में लगा है। ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हमारे नेता ही पहल करेंगे तभी सब सुधरेंगे । मैं जानता हूं कि दलित पर हमला करने वालों को बचाया जाता रहा है। उन्होंने कहा कि पंचायत सरकार भवन का निर्माँण हमारे नेता का सपना है उसे हर हाल में पूरा किया जाएगा। विधायक रवि ज्योति ने कहा कि आखिर क्या कारण है कि घटना के तीन दिनों बाद भी हमलावरों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि प्रशासन भी ये बात समझ ले कि यदि किसी को बचाने की कोशिश हुई तो खतरानक संदेश जाएगा।

पूर्व मंत्री दामोदर राउत ने कहा – काफी खतरनाक है ये घटना, कोई बख्से नहीं जाएंगे

बिहार सरकार के पूर्व मंत्री दामोदर राउत । जो जमुई जिला जदयू के जिलाध्यक्ष भी हैं।

पूर्व मंत्री व जमुई जदयू के जिला अध्यक्ष दामोदर राउत ने कहा कि ऐसी घटना काफी खतरनाक है। हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए हमने जमुई एसपी से बात की है। उन्होंने शीघ्र गिरफ्तारी की बात कही है। घटना के तीन दिन हो गए हैं। हमलावर शीघ्र सलाखों के पीछे होगा। कानून से कोई बच नहीं सकता।

हरिजन एक्ट है, कबतक जांच करेंगे एसपी साहब ! जब जान चली जाएगी – मुखिया सिमरन प्रिया

अगहरा-बरूअट्टा पंचायत की मुखिया सिमरन प्रिया। फाइल फोटो ।

जदयू समाज सुधार वाहिनी, जमुई की जिलाध्यक्ष व अगहरा-बरूअट्टा पंचायत की मुखिया सिमरन प्रिया कहती हैं कि मेरे पति राकेश कुमार पासवान जो मुखिया प्रतिनिधि भी हैं। सामाजिक कार्यों की जिम्मेदारी उनपर रहती है। पंचायत सरकार भवन का निर्माण होने से पूरे ग्रामवासियों को फायदा होगा, विकास भी होगा। ऐसे कार्य के लिए ईष्या करना, विरोध करना और जान लेवा हमला करना काफी डरावना है। उन्होंने कहा कि मैं एसपी साहब से पूछना चाहती हूं कि जब प्राथमिकी हरिजन एक्ट के तहत है फिर नामजद हमलावरों की गिरफ्तारी में इतनी देरी क्यों ? मुखिया कहती हैं…एसपी साहब ! मैंने अपने परिवार में अपने ससुर को भी इसी तरह की आपराधिक छवि वालों के कारण खोया है। कुछ करिए एसपी साहब। कब तक हमलावर छुट्टा घुमेंगे । मुखिया सिमरन ने ये भी कहा कि अगर आप से कुछ ना हो पाएगा तो मैं अपने नेता व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी पत्र लिखूंगी। और वस्तुस्थिति से अवगत कराउंगी। सुरक्षा की मांग करूंगी।

पटना/जमुई से मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की रिपोर्ट ।