राजद में खलबली, पार्टी के विधायक घुटन महसूस कर रहे…पक रही सियासी खिचड़ी। Maurya News18

0
152

Maurya News18, Patna

Political Desk

बिहार में चुनाव खत्म हो गया। नीतीश कुमार की सरकार भी बन गई और मंत्रिमंडल का विस्तार भी हो गया लेकिन राजनीति अब भी जारी है। सियासी हलकों में हर रोज कुछ-न-कुछ उथल-पुथल मचा रहता है। लगातार बयानों का दौर जारी है। हाल ही में राजद ऑफिस में जो कुछ हुआ उसको लेकर पार्टी में भले खामोशी छाई हो लेकिन जदयू और भाजपा के नेता लगातार लालू के लाल तेज प्रताप यादव पर हमला कर रहे हैं।  

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री व राज्य सभा सांसद सुशील कुमार मोदी सोशल मीडिया पर लालू प्रसाद के दोनों पुत्रों तेजस्वी यादव व तेजप्रताप यादव पर सीधा हमला बोला है। उन्होंने दावा किया कि राजद के अंदर की स्थिति ठीक नहीं है। विधायक खुद को असहज महसूस कर रहे हैं।

मोदी ने कहा कि मुख्य विपक्षी दल राजद में किसी बड़े भूकंप के आसार हैं। राजद को जिस सनकी और अलोकतांत्रिक तरीके से हांका जा रहा है, उससे दल में असंतोष और घुटन महसूस करने वाले विधायकों की संख्या बढ़ रही है। आने वाले समय में इसका परिणाम भी देखने को मिलेगा। मोदी ने कहा कि राजद अपने राजकुमारों से इस कदर परेशान है कि वह अपने संवैधानिक दायित्वों का निर्वाह नहीं कर पा रहा है।

दोनों राजकुमार एक तरफ एनडीए सरकार पर अनर्गल आरोप लगाते हैं, तो दूसरी तरफ एक-दूसरे की लकीर छोटी करने में अजीबोगरीब बयानबाजी करते हैं। बड़े राजकुमार कभी पीएम की दाढ़ी पर टिप्पणी करते हैं, तो कभी अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को अपमानित करते हैं। उनका इशारा हाल ही में राजद ऑफिस में घटी घटना की ओर था।

बता दें कि हाल ही में तेज प्रताप ने अपने ही दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह को काफी बुरा-भला कहा था। तेज प्रताप ने खुलकर कहा था कि जगदानंद जैसे लोगों के चलते ही लालू यादव बीमार पड़े हैं। जगदानंद बाबू पार्टी के कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए अप्वाइंटमेंट लेने की बात करते हैं। उनकी इस हरकत से पार्टी लगातार कमजोर हो रही है। राजद गरीबों व मजलूमों की पार्टी है। यहां कोई भी कभी भी किसी से मिल सकता है। मैं खुद विधायक हूं लेकिन पार्टी कार्यालय में मुझे रिसीव करने जगदानंद बाबू नहीं आए जबकि पूर्व अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे के वक्त ऐसा नहीं होता था।