रामविलास पासवान मरे नहीं बल्कि उन्हें मारा गया, कौन कह रहा है ! Maurya News18

0
23

Maurya News18, Patna

Political Desk

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद अगर किसी पार्टी को सबसे ज्यादा झटका लगा है तो वे है लोजपा यानी लोक जनशक्ति पार्टी। जहां पार्टी का विधानसभा में महज एक विधायक है वहीं गुरुवार को कई पुराने नेताओं ने भी चिराग को गुडबाय बोल दिया। इतना ही नहीं अब तो रामविलास की मौत पर सियासत भी होने लगी है।

गुरुवार को जदयू में शामिल होते ही पार्टी के प्रदेश महासचिव रहे रामनाथ रमन ने चिराग पासवान पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने चिराग के पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन पर सवाल उठाया। कहा कि वे मरे नही हैं, बल्कि उनकी जान ली गई है। उन्हें दो महीने तक हॉस्पिटल में कैद करके रखा गया। इसकी जांच होनी चाहिए। अगर सही तरीके से जांच हो जाए तो चिराग पासवान जेल में होंगे।

लोजपा छोड़ जदयू में शामिल हुए नेता केशव सिंह ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार ने बिहार का विकास किया है। हमलोगों ने कभी नहीं चाहा कि NDA से अलग होकर चुनाव लड़ें, लेकिन चिराग पासवान ने अपनी जिद में पार्टी का बेड़ा गर्क किया है। केशव सिंह के अनुसार विधानसभा चुनाव में पहले चिराग पासवान ने कहा था कि जो नेता अपने क्षेत्र में 25 हजार सदस्य बनाएंगे और दो-दो लाख रुपये पार्टी में जमा करेंगे, उन्हें चुनाव में टिकट दिया जाएगा। लेकिन, जब चुनाव की बारी आई तो BJP के नेताओं को टिकट दे दिया। ये सब कुछ चिराग पीके यानी प्रशांत किशोर के कहने पर कर रहे थे।

आपको बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नाम पर खड़े हुए जनता दल यूनाईटेड के 35 प्रत्याशियों को लोक जनशक्ति पार्टी के उम्मीदवार के कारण हार का सामना करना पड़ा था। गुरुवार को लोजपा के 18 जिलाध्यक्षों और 5 प्रदेश महासचिवों समेत 208 नेता जेडीयू में शामिल हो गए।

जदयू कार्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह ने सभी को पार्टी में शामिल कराने की औपचारिकता पूरी की। जदयू की ओर से प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा,  महेश्वर हजारी और गुलाम रसूल बलियावी भी मौजूद थे। लोजपा से जदयू में शामिल होनेवालों में केशव सिंह, दीनानाथ गांधी, रामनाथ रमन और पारसनाथ गुप्ता आदि प्रमुख हैं।