बीजेपी कोटे से एमएलसी के नाम तय, मोदी और शाह लगाएंगे मुहर। Maurya News18

0
25

Maurya News18, Patna

Political Desk

बिहार के भाजपा नेता हर रोज दिल्ली की दौड़ लगा रहे हैं। दिल्ली दरबार में अपनी पैठ बढ़ाने के लिए हाजिरी भी लगा रहे हैं। कोई अमित शाह तक अपनी पहुंच बना रहा है तो कोई अपना बायोडाटा जेपी नड्डा के कार्यालय में जमा कर एमएलसी बनने का ख्वाब देख रहा है।  

बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार के बाद भाजपा और जदयू के नेताओं ने एक बार फिर सियासत के गलियारों में अपनी सरगर्मी बढ़ा दी है। बता दें कि बिहार विधान परिषद के लिए 12 लोगों का राज्यपाल कोटे से मनोनयन होना है। 6 सीटें भाजपा के खाते में गई हैं। पार्टी से मिल रही अंदरूनी खबरों के मुताबिक इन 6 सीटों पर भाजपा ने नाम लगभग तय कर लिए हैं लेकिन नामों की इस लिस्ट पर पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने अब तक नजर नहीं डाली है।

माना जा रहा है कि 21 फरवरी को भाजपा के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की होने वाली बैठक में इन नामों पर मुहर लग जाएगी। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मौजूद रहेंगे।

इससे पहले 20 फरवरी को भाजपा के देशभर के संगठन मंत्रियों की बैठक हो रही है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा की अध्यक्षता में हो रही इस बैठक में सभी संगठन मंत्रियों से संगठनात्मक गतिविधियों से जुड़ी जानकारी ली जानी है। इसमें बिहार से संगठन मंत्री नागेन्द्र नाथ और सह संगठन मंत्री शिवनारायण हिस्सा ले रहे हैं। इस बैठक के बाद 21 फरवरी को राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक होनी है।

21 फरवरी को होने वाली बैठक में भाजपा के देशभर के प्रदेश अध्यक्षों के साथ ही प्रदेश प्रभारी और संगठन महामंत्री मौजूद रहेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा के साथ ही भाजपा के सभी प्रमुख पदाधिकारी और पार्लियामेंट्री बोर्ड के सदस्य इसमें शामिल होंगे। बिहार से इसमें प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल और भूपेन्द्र यादव के साथ ही संगठन मंत्री नागेन्द्र नाथ मौजूद रहेंगे।

यह बैठक दिल्ली के NDMC कन्वेंशन सेंटर में सुबह 10 बजे से शुरू होगी। माना जा रहा है कि बैठक में पार्टी संगठन को लेकर मंथन करेगी। साथ ही बिहार से संबंधित राज्यपाल मनोनयन मामले पर भी फैसला लिया जाएगा।

पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में विधानसभा चुनाव होने हैं। उससे पहले पार्टी की यह बैठक बेहद महत्वपूर्ण मानी जा रही है। इससे पहले यह बैठक 14 फरवरी को होनी थी जिसकी तारीख बाद में बढ़ाकर 21 फरवरी कर दी गई थी।