‘दीदी’ के भतीजे लपेटे में…सीबीआई का मिला नोटिस। Maurya News18

0
95

Maurya News18, Kolkata

Political Desk

कोयला घोटाले की आंच अब बंगाल चुनाव पर पड़ती दिख रही है। सीबीआई जांच के घेरे में दीदी यानी पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के भतीजे के आने के बाद सियासत तेज हो गई है।  

रविवार को ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर सीबीआई की टीम पहुंची और उनकी पत्नी रुजिरा को नोटिस थमा दिया। साथ ही अभिषेके की साली मेनका गंभीर को भी समन जारी किया गया है। मेनका से सोमवार को सीबीआई पूछताछ कर सकती है।

चुनाव के वक्त नोटिस को लेकर उठ रहे सवाल

अब पूरा मामला राजनीतिक रूप लेते जा रहा है। तृणमूल कांग्रेस नोटिस की टाइमिंग को लेकर सवाल खड़े कर रही है। इससे पहले भी ममता सरकार कई बार केंद्र पर सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप लगा चुकी है। उधर, भाजपा ने कहा कि ये मामला काफी पहले से चल रहा है। सीबीआई ने इस मामले में पहली बार जांच शुरू नहीं की है।

हमें कानून पर भरोसा है – अभिषेक

अभिषेक ने सोशल मीडिया के जरिए कहा कि सीबीआई की टीम ने मेरी पत्नी के नाम से नोटिस दिया है। हमें कानून पर पूरा भरोसा है। केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि अगर उन्हें लगता है कि इस तरह से वे हमें डराने में कामयाब हो जाएंगे, तो यह उनकी बहुत बड़ी भूल है। हम उनमें से नहीं, जिन्हें झुकाया जा सके।

कई और नेताओं के ठिकानों पर भी हुई छापेमारी

इसी मामले में सीबीआई ने शुक्रवार को राज्य के पुरुलिया, बांकुरा, बर्दवान और कोलकाता में 13 जगहों पर छापेमारी की थी। ये छापेमारी युवा तृणमूल कांग्रेस के नेता विनय मिश्रा, व्यवसायी अमित सिंह और नीरज सिंह के ठिकानों पर हुई थी। छापे के दौरान कोई भी घर पर मौजूद नहीं था। इसके पहले 11 जनवरी को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने हुगली, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, आसनसोल, दुर्गापुर, बर्धमान में छापेमारी की थी।

रैकेट के जरिए कोयले को ब्लैक मार्केट में बेचा गया

कोयला घोटाले में तृणमूल कांग्रेस के नेताओं पर आरोप है कि बंगाल में अवैध रूप से कई हजार करोड़ के कोयले का खनन किया गया और एक रैकेट के जरिए इसे ब्लैक मार्केट में बेचा गया। इसमें अभिषेक का नाम भी शामिल है। इस मामले में दिसंबर में भी कोलकाता के चार्टर्ड अकाउंटेंटे गणेश बगारिया के दफ्तर में छापा मारा गया था।

बीजेपी नेताओं का गंभीर आरोप

पिछले साल सितंबर में कोयला घोटाले की जांच शुरू हुई थी। बीजेपी नेताओं का आरोप है कि कोयला घोटाले से मिली ब्लैक मनी को तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने शेल कंपनियों के जरिए व्हाइट मनी में बदला। इसमें सबसे ज्यादा फायदा ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी को हुआ।

अभिषेक पार्टी के युवा विंग के अध्यक्ष हैं

बता दें कि अभिषेक बनर्जी तृणमूल कांग्रेस की युवा विंग के अध्यक्ष हैं। उन्होंने अपनी पार्टी में विनय मिश्रा समेत 15 युवाओं को महासचिव बनाया था। विनय मिश्रा शुरू से ही कोयला घोटाले के आरोपी हैं। तृणमूल कांग्रेस ने सीबीआई जांच पर रोक लगाने के लिए हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट ने नामंजूर कर दिया था।