‘दीदी’ को घेरने के लिए PM उतरे मैदान में, 30 दिन में तीसरी बार पहुंचे कोलकाता। Maurya News18

0
28

Maurya News18, Kolkata

Political Desk

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को महीने में तीसरी बार पश्चिम बंगाल पहुंचे। हुगली में उन्होंने कहा कि अब पश्चिम बंगाल पोरिबर्तन ( बदलाव ) का मन बना चुका है। तृणमूल कांग्रेस पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि मां, माटी, मानुष की बात करने वाले बंगाल के विकास के आगे दीवार बनकर खड़े हो गए हैं।

फ्रेट कॉरिडोर से बंगाल का होगा अभूतपूर्व विकास

मोदी बोले कि अब हमें देर नहीं करनी है। एक पल भी गंवाना नहीं है। अब इन्फ्रास्ट्रक्चर पर अभूतपूर्व जोर दिया जा रहा है। विकास के हर पहलू के लिए मूलभूत आवश्यकता होती है। बीते साल में हाईवे रेलवे, एयरवे, वाटरवे हर तरह की कनेक्टिविटी पर फोकस किया गया। बंगाल में हजारों करोड़ रुपए निवेश किए गए। रेल लाइनों के चौड़ीकरण और बिजलीकरण का काम तेजी से किया जा रहा है।

रेलवे को लेकर बंगाल में संभावनाओं के नये द्वार खुल रहे हैं। पूर्वी फ्रेट कॉरिडोर का बड़ा लाभ बंगाल को होने वाला है। इसका एक हिस्सा चालू भी हो चुका है। बहुत जल्द पूरा कॉरिडोर खुल जाएगा।

बंगाल के किसानों को नया बाजार मिला

विशेष किसान रेल का लाभ बंगाल के किसानों को मिल रहा है। हाल में 100वीं किसान रेल महाराष्ट्र से बंगाल तक चलाई गई। इससे यहां के फल, दूध, मछली से जुड़े किसानों को मुंबई, पुणे सहित देश के बड़े बाजारों तक सीधी पहुंच मिली है। आज हावड़ा-हुगली के लाखों स्टूडेंट्स और श्रमिकों के लिए बहुत बड़ा दिन है। मेट्रो का दक्षिणेश्वर तक विस्तार होने से हजारों यात्रियों को सुविधा होने वाली है। अब कोलकाता आने-जाने के लिए तेज पब्लिक ट्रांसपोर्ट मिल गया है‍।

बंगाल का नौजवान परिवर्तन चाह रहा

मोदी ने कहा कि बंगाल में कमल खिलाना इसलिए जरूरी है, ताकि पश्चिम बंगाल की स्थिति में परिवर्तन आ सके। इसकी उम्मीद में आज का नौजवान जी रहा है। हुगली इसका उदाहरण है। अव्यवस्था ने पश्चिम बंगाल को किस हालत में पहुंचा दिया है। हुगली तो उद्योग का हब था। दोनों किनारों पर जूट इंडस्ट्री थी। बड़े कारखाने थे। यहां से निर्यात होता था। आज इसकी क्या स्थिति है, यह आप जानते हैं।

मोदी ने कहा कि बंगाल में यहां आसोल पोरिबर्तन ( असली बदलाव ) लाना है, कमल खिलाना है। बंगाल का विकास तब तक संभव नहीं है, जब तक सिंडिकेट का राज रहेगा।

हुगली बना रैली का केंद्र बिंदु

हुगली में प्रधानमंत्री की रैली के पीछे कई वजहें हैं। सबसे बड़ी वजह यह है कि हुगली में पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन किया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में हुगली से भाजपा की लॉकेट चटर्जी ने जीत दर्ज की थी। ऐसे में इस जीत को बरकरार रखने की कोशिश में मोदी की जनसभा यहां रखी गई है।

इस मैदान का अपना इतिहास है। यह इलाका एक समय में एशिया की सबसे बड़ी टायर फैक्ट्री रही डनलप का है, लेकिन डनलप फैक्ट्री को बंद हुए सालों हो चुके हैं। प्रधानमंत्री की रैली के 2 दिन बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जनसभा भी इसी मैदान में होने वाली है।