बंगाल में चुनाव नहीं फुटबॉल का मैच हो रहा, BJP के गोल को रोकने के लिए गोलकीपर भी तैयार…! Maurya News18

0
45

Maurya News18, Kolkata

Political Desk

ममता दीदी भाषण देते वक्त भूल जाती हैं कि नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री भी हैं। भाषा की गरिमा का ख्याल तो उन्हें रखना ही चाहिए क्योंकि वे भी एक राज्य की मुख्यमंत्री हैं। दोनों ही संवैधानिक पदों पर विराजमान हैं फिर भी सियासी बयानबाजी में हदें पार हो जा रही हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को हुगली में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ विवादित बयान दिया। उन्होंने मोदी को देश का सबसे बड़ा दंगाबाज कह डाला। ममता ने कहा कि जैसा अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ हुआ, मोदी के साथ उससे भी बुरा होगा। हिंसा से कुछ हासिल नहीं हो सकता।

उन्होंने कहा कि बंगाल पर बंगाल का शासन होगा। मोदी बंगाल पर राज नहीं करेंगे। गुंडे बंगाल पर शासन नहीं करेंगे। ममता ने अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी की पत्नी से CBI की पूछताछ पर कहा कि यह बंगाल की महिलाओं का अपमान है।

ममता ने कहा कि हर बार भाजपा तृणमूल कांग्रेस को टोलाबाज कहकर बुलाती है, लेकिन मैं कहती हूं कि भाजपा दंगाबाज और धंधाबाज है। उन्‍होंने कहा कि विधानसभा चुनावों में मैं गोलकीपर रहूंगी और भाजपा एक भी गोल नहीं कर पाएगी। ममता ने गृह मंत्री अमित शाह पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी के साथ शाह भी देश में झूठ और नफरत फैला रहे हैं।

मंच पर ममता बनर्जी के साथ क्रिकेटर मनोज तिवारी

तृणमूल कांग्रेस लगातार दो बार से बंगाल की सत्ता पर काबिज है। 2011 में तृणमूल ने 184 सीटें जीती थीं, जबकि 2016 में उसके खाते में 211 सीटें आईं। इस बार तृणमूल की बड़ी लड़ाई भाजपा से है। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में मिली सफलता के बाद भाजपा विधानसभा चुनाव में भी उसी प्रदर्शन को दोहराने की उम्मीद कर रही है।

चुनावी उठापटक के बीच भारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी बुधवार को तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। माना जा रहा है कि मनोज को विधानसभा चुनाव में हावड़ा सीट से टिकट दिया जा सकता है। 35 साल के मनोज तिवारी का जन्म हावड़ा में ही हुआ। 2008 में उन्होंने टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया था।