बिहार में नहीं गली ‘दाल’ तो अब असम और बंगाल में पकाएंगे खिचड़ी, नेता जी निकल पड़े। Maurya News18

0
218

Maurya News18, Patna

Atul Kumar, Special Correspondent

राजनीति भी अजब-गजब चीज है…कहीं भी कभी भी आप शुरू हो सकते हैं। चौक-चौराहों पर, गली-गलियारों में, ड्राइंग रूम में चाय की चुस्कियों के साथ या फिर बस ट्रेन में यात्रा के दौरान। चर्चा तक तो मामला ठीक है लेकिन जब आप वैसी जगह से चुनाव में उतरने की बात करते हैं, जहां आपका जनाधार नहीं है तब खुसुर-फुसुर तो होगा ही।

लेकिन अपना क्या जाता है चुनाव की बेला है, हाथ आजमा लेते हैं। सीट निकल गई तब भी ठीक नहीं निकली तब भी ठीक…प्रचार-प्रसार तो हो ही जाएगा। वाह ! री राजनीति…

सेवा के साथ मेवा खाने का पुराना है इतिहास

अब आप बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को ही ले लीजिए…बिहार में सरकार बनाते-बनाते रह गए तो निकल पड़े असम, बंगाल के लोगों की सेवा करने…आखिर सेवा करने का पुराना इतिहास जो उनका है…पहले उनके पिता लालू जी ने सेवा की फिर मां राबड़ी देवी और अब उनकी बारी…

खैर, आपको इससे क्या, उनका मन जो करे, राजनीति वो कर रहे हैं तो सेवा और मेवा पर भी तो उनका ही अधिकार है…

असम कांग्रेस अध्यक्ष से हो चुकी है बात

सियासत के गलियारे में चर्चा-ए-आम है कि तेजस्वी यादव असम चुनाव के लिए विभिन्न सहयोगी दलों से गठबंधन को लेकर बातचीत करेंगे। इसके लिए वे गुवाहाटी भी पहुंच गए हैं। वहां सीटों के तालमेल पर बात करने के बाद वे रविवार यानी 28 फरवरी को कोलकाता जाएंगे। वहां वे बंगाल चुनाव में अपना उम्मीदवार उतारने को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री नेता ममता बनर्जी से बातचीत भी कर सकते हैं। 26 फरवरी को उन्होंने असम कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद रुपेन बरुआ के साथ मुलाकात की थी।

राजद के राजकुमार बिछा रहे सियासत की बिसात

तेजस्वी ने बिसात बिछाने के लिए अब्दुलबारी सिद्दीकी और श्याम रजक को पहले ही असम भेज रखा है। कहा जा रहा है कि ये दोनों सबकुछ सजा कर रखेंगे और राजद के राजकुमार उसे फाइनल करेंगे। श्याम रजक ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष रुपेन बरुआ से बात हुई है। बदरुद्दीन अजमल से भी वार्ता चल रही है। पूर्वोत्तर हिंदी भाषी लोग भी मिलने के लिए आए थे। उन्होंने कहा कि हमारा मकसद वहां भाजपा को शिकस्त देना है और इसके लिए हम गठबंधन करेंगे। अभी गठबंधन और सीटों का तालमेल फाइनल नहीं हुआ है।

दिल्ली में भी हाथ आजमाएगा राजद


राजनीतिक सूत्रों के अनुसार, RJD ने पश्चिम बंगाल में TMC के साथ मिलकर 8 सीटों पर और असम में CPI, CPM और बदरुद्दीन अजमल की पार्टी के साथ मिलकर 10 सीटों पर चुनाव लड़ना तय किया है। सभी पार्टियों के साथ बातचीत के बाद राजद यह स्पष्ट करेगा कि वह कितनी सीटों पर लड़ेगा।

राजद दिल्ली नगर निगम के लिए भी चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए भी उसके नेता दिल्ली के नेताओं से साथ मिलकर रणनीति बना रहे हैं।