हंगामा है कि तुझे राम सूरत कहूं या बदसूरत ! बीजेपी बोली- खबरदार ! मंत्रीजी, खानदान वाले हैं। Maurya News18

0
134

बिहार में राजनीति गरमायी, विपक्ष कर रहा हमला, गुस्से में लाल हैं सत्ताधारी

क्या सचमुच फंस गए हैं मंत्री या फिर ये सिर्फ विपक्ष के लिए हंगामाभर है

मामले में कितना है दम, क्यों मचा है शोर

Maurya News18, Patna

Political Desk

बिहार की राजनीति में हंगामा बरपा है। हंगामा है कि मंत्री जी को लेकर। मंत्रीजी का नाम है राम सूरत । विपक्ष कह रहा कि तूझे राम सूरत कहूं या बदसूरत । तेरे किए पर हंगामा बरपूंगा। और विधानसभा सत्र में भी विपक्ष हंगामा करता रहा कि तूही तो है…वो। ये बात सत्ता पक्ष को ठीक नहीं लग रहा। सो, मंत्रीजी बीजेपी से हैं तो बीजेपी ने स्टैंड लिया औऱ कह डाला कि सुनों विपक्ष वालों। मेरे मंत्रीजी को ऐसा-वैसा मत समझों – वो बहुत नेक हैं…खानदानी है…बड़े खानदान वाले है….। समझे। फिर क्या था शनिवार को तो जैसे प्रेस-कॉफ्रेंस का खेल चलता रहा। मामले को समझिए औऱ पॉलिटिक्स के रंग को भी ।

मंत्री रामसूरत राय का मामला गरमाता जा रहा है। राजद समेत विपक्षी पार्टियां उनके इस्तीफे पर अड़ी हैं। दरअसल, एक स्कूल के परिसर से भारी मात्रा में शराब की बोतलें मिली थीं। बाद में पता चला कि ये स्कूल मंत्री रामसूरत राय और उनके भाई की देखरेख में चलता है। इसके बाद ही मंत्री के इस्तीफे को लेकर तेजस्वी यादव हमलावर हो गए और शनिवार को विधानसभा का बायकॉट करते हुए राजभवन के सामने धरने पर बैठ गए।

वहीं दूसरी ओर, बीजेपी ने अपने मंत्री का बचाव करते हुए कहा कि यह आरोप निराधार है और मंत्री के सात पुश्तों में कोई खोट नहीं है। बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉ० निखिल आनंद ने तेजस्वी यादव पर मंत्री के चरित्रहनन का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि “एक चोर ने रची है एक शरीफ को चोर घोषित करने की साजिश।”

डॉ० निखिल आनंद ने तेजस्वी यादव पर मंत्री रामसूरत राय के चरित्रहनन का आरोप लगाते हुए मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी दी है। निखिल आनंद ने कहा कि राजनीति में सुर्खियां बटोरने के लिए बदहवास तेजस्वी यादव ने यादव समाज के एक शरीफ मंत्री को सॉफ्ट और आसान निशाना बनाया है। निखिल ने तेजस्वी पर गंभीर टिप्पणी करते हुए कहा कि एक चोर भीड़ में खड़े होकर चोर- चोर चिल्लाकर एक शरीफ आदमी को चोर घोषित करना चाह रहा है। रामसूरत राय के सात पुश्तों में कोई दाग नहीं है। तेजस्वी अपने गिरेबान में झांकें।

बिहार बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद

निखिल आनंद ने कहा कि जिस आधार पर तेजस्वी जबरन मंत्री जी को आरोपी बताना चाह रहे हैं,  उस आधार पर लालू जी का पूरा परिवार सजायाफ्ता हो जाएगा। मंत्री जी के भाई कि लीज/रेंट आउट की हुई जमीन पर अगर कुछ होता है तो किरायेदार जिम्मेदार है। लेकिन अव्वल तो यह कि तेजस्वी मकान मालिक तो दूर, पारिवारिक तौर पर 2012  में अलग हो चुके व्यक्ति के भाई पर आरोप लगा रहे हैं जिसका मामले से दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं है।

दिलचस्प है कि मंत्री जी का भाई से बंटवारा 2012  में हो चुका था और उक्त जमीन 2014  में खरीदी गई है। तेजस्वी की पूरी प्लॉटिंग का निष्कर्ष यह है कि एक चोर भीड़ में खड़े होकर एक शरीफ के खिलाफ चोर-चोर चिल्ला रहा है।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए पॉलिटिकल डेस्क की रिपोर्ट ।