तेजस्वी ने दिए सबूत, मंत्री के दबाव में पुलिस ने संचालक को किया गिरफ्तार। Maurya News18

0
35

Maurya News18, Patna

Political Desk

मंत्री रामसूरत राय का मामला ठंडा होता नहीं दिख रहा है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पूरे रौ में हैं। उनका कहना है कि असली दोषी मंत्री और उनका परिवार है लेकिन संचालक को फंसाया जा रहा है। उनके परिवार को जान से मार देने का डर दिखाकर धमकाया जा रहा है।

तेजस्वी का कहना है कि बिहार सरकार के मंत्री के भाई के खिलाफ तमाम सबूतों के बावजूद बिहार सरकार ने न तो उन्हें गिरफ्तार किया और न ही उनकी जमीन जब्त की गई।

बता दें कि शराबबंदी कानून में यह नियम है कि जहां से शराब की बरामदगी होगी उस जमीन को जब्त कर वहां थाना खोला जाएगा। लेकिन मंत्री के मामले में ऐसा नहीं हो रहा।

वहीं मंत्री ने अपना बचाव करते हुए कहा है कि उस स्कूल को लीज पर दिया गया है। इस पर तेजस्वी ने कहा कि हम मांग करते हैं कि मंत्री लीज के कागजात पेश करें।

स्कूल को यदि लीज पर दिया गया था, उसका पेमेंट कैसे किया गया ? क्या पेमेंट का कोई हिसाब-किताब है ? किस खाते में पैसा आया, कितना पैसा आया और कैसे आया ?

जिस स्कूल से शराब की बरामदगी हुई है उसका नाम अर्जुन मेमोरियल स्कूल है। अर्जुन राय जी, मंत्री रामसूरत राय के पिता थे। मंत्री के दबाव में पुलिस ने सूचना देने वाले अमरेन्द्र कुशवाहा को ही शराब कारोबारी करार देकर जेल भेज दिया।

क्या नीतीश सरकार का कानून सिर्फ कमजोर-गरीब लोगों के लिए है ? मुख्यमंत्री अपने मंत्री को कब बर्खास्त करेंगे ?