Global Statistics

All countries
243,598,260
Confirmed
Updated on Saturday, 23 October 2021, 01:39:48 IST 1:39 am
All countries
218,997,624
Recovered
Updated on Saturday, 23 October 2021, 01:39:48 IST 1:39 am
All countries
4,950,791
Deaths
Updated on Saturday, 23 October 2021, 01:39:48 IST 1:39 am
होमBIHAR NEWSडीएम का किताब दान अभियान बच्चों में भर रही हौसलों की उड़ान

डीएम का किताब दान अभियान बच्चों में भर रही हौसलों की उड़ान

-

सितंबर महीने से अभियान में आएगी गति : डीएम

कुमार गौरव, पूर्णिया, मौर्य न्यूज18 ।

“हम तो अकेले ही चले थे जानिबे मंजिल लोग आते गए और कारवां बनता गया…”। ये पंक्तियां हौसलों के उड़ान को दर्शा रहीं हैं। जब इरादा नेक और सोच अच्छी हो तो वह कामयाब हो जाता है। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है जिले के ऊर्जावान जिलाधिकारी राहुल कुमार ने। साल भर पहले डीएम ने जिस संकल्प के साथ किताब दान अभियान के तहत ज्ञान का अलख जगाने का जो दीप जलाया था आज वह निखर कर सामने आ रहा है। इसके माध्यम से लोग नि:स्वार्थ भाव से पुस्तक दान कर रहे हैं। जो आने वाली पीढ़ी के भविष्य निर्माण में मील का पत्थर साबित होगा।

रंग ला रहा अभियान


डीएम राहुल कुमार के द्वारा शुरू किया गया किताब दान अभियान अब रंग ला रहा है। हर जगह सराहना हो रही है। डीएम की अपील के बाद लोगों में जागृति आई तथा अपने घरों में बेकार पड़े पुस्तकों का लोगों ने दान करना शुरू कर दिया। इस अभियान ने रंग लाया और साल भर में ही जिले में एक लाख पुस्तकें इकट्ठा हो गईं। इन पुस्तकों से डीएम ने सूदूर ग्रामीण ईलाकों में 152 पुस्तकालय खुलवाने में बड़ी भूमिका निभाई। पुस्तक से वंचित रहने वाले बच्चों को इससे लाभ मिल रहा है।

file photo

जन सहयोग पर निर्भर है अभियान


डीएम ने कहा कि यह अभियान पूरी तरह जन सहयोग पर निर्भर है। हर व्यक्ति पुस्तक पढ़ने के बाद उसे घरों में इधर उधर रख देते हैं। उनके लिए वह बेकार हो जाता है। डीएम ने इसी को देखते हुए आमलोगों से अपील की थी कि वे ऐसी पुस्तकों को स्वेच्छा से दान करें ताकि उसे दूसरे लोग भी ज्ञान अर्जित कर सके। इसके मद्देनजर डीएम ने जिले में किताब दान अभियान चलाया। पंचायत तक इसका असर हुआ। पिछले एक साल में इस अभियान ने रफ्तार पकड़ी। हर तबके के लोगों ने खुलकर पुस्तक दान किया। इन पुस्तकों के संग्रह के बाद हर पंचायत में पुस्तकालय खोला जा रहा है।

सेवानिवृत्त टीचर, नेहरु युवा केंद्र समेत अन्य संस्थाओं की मदद ले रहे

डीएम ने बताया कि उनका उद्देश्य सिर्फ पुस्तकालय खोलना नहीं है बल्कि इन पाठ्य पुस्तकों को बच्चे पढ़े इसके लिए भी वे प्ररित कर रहे हैं। ताकि शिक्षा के बूते अपना भविष्य संवार सके। इसके लिए सेवानिवृत्त टीचर, नेहरु युवा केंद्र समेत अन्य संस्थाओं की मदद ले रहे हैं। डीएम ने बताया कि आने वाले सितम्बर महीने से इस अभियान को गति दी जाएगी। इससे संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए। डीएम ने कहा कि 5 सितम्बर शिक्षक दिवस के दिन इस पर विशेष कार्यक्रम करने की योजना है। जल्द ही जिले में 30 और पुस्तकालय खोले जा रहे हैं। इससे ग्रामीण इलाके के लोगों को काफी सुविधा मिलेगी। सरकारी स्कूलों में भी ये पुस्तकें दी जा रही है ताकि वहां के छात्र भी अच्छी पुस्तकें पढ़ कर बेहतर करने की प्रेरणा लेते हुए अपना भविष्य संवार सके।

पूर्णिया ने मौर्य न्यूज18 के लिए कुमार गौरव की रिपोर्ट ।

KUMAR GAURAVhttp://www.mauryanews18.com
Bureau Correspondent Purnea, Simanchal, Bihar

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

Top rated Tips For Worker Development Programs

Use the annual performance appraisal as a regular opportunity to go over, track and document virtually any development needs for the upcoming season....

Info Room With regards to Startups – How to Use a Press Release to begin...

Employing IT Experts: How to Choose the ideal Profession

Tips on how to Disable Avast For Good – Uninstall inside the Shortest Period Possible

Evaluation Between CyberGhost Versus NordVPN

The Advantages of VPN Torrenting

Avast Review — A Comparison Between Avast Anti virus and Kaspersky Antivirus

Macintosh Tools

Keeping Your Business Safeguarded With Avast Business Alternatives

The right way to Hack Instagram Without Getting Caught