Google search engine
शुक्रवार, जून 18, 2021
Google search engine
होमदेशगायिका देवी भोजपुरी में कभी अश्लील गाने नहीं गाई ! Maurya News18

गायिका देवी भोजपुरी में कभी अश्लील गाने नहीं गाई ! Maurya News18

-

पार्शव गायन में बना चुकी है विशिष्ट पहचान

पटना, मौर्य न्यूज18 ।

अपनी हिम्मत और लगन की बदौलत देवी संगीत के क्षेत्र में अपनी  विशिष्ट पहचान बनाने में कामयाब  हुयी हैं । इन्होंने अबतक कई भोजपुरी गाने गाये लेकिन एक भी गान अश्लील शब्दों वाले नहीं रहे। अश्लील गानों की घोर विरोधी रही देवी ने इसे कभी भी कमाई के लिए जरूरी नहीं समझा और प्रपोजल मिलने के बाद भी ठुकराती रहीं। इनकी भोजपुरी इंडस्ट्री में इस बात की खूब चर्चा भी होती है कि बिना किसी अश्लील गाने के इतनी फेमस भोजपुरी और फोक सिंगर बनीं, जो देवी के लिए बड़ी कामयाबी कही जाती है। लेकिन इन कामयाबियों को पाने के लिये उन्हें अथक परिश्रम का सामना भी करना पड़ा है।

बिहार के सिवान की हैं देवी

बिहार के सीवान जिले में जन्मी देवी के पिता प्रमोद कुमार और मां सावित्री वर्मा प्रोफेसर हैं।देवी की दो बहन और एक भाई है। देवी के परिवार वालों ने अपनी राह खुद चुनने की आजादी दे रखी थी। बचपन के दिनों से ही देवी की रूचि संगीत की ओर थी और वह इस क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। जब वह महज चार-पांच वर्ष की थी तभी से उन्होंने संगीत की साधना शुरू कर दी। देवी ने गुरू जवाहर राय से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।

ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

गायिका रेशमा को मानती है आदर्श

पार्श्वगायिका रेशमा और महान पार्श्वगायक मुकेश को आदर्श मानने वाली देवी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा छपरा से पूरी की। मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद वह दिल्ली चली गयी जहां उन्होंने गंधर्व संगीत महाविद्यालय से संगीत का छह वर्षीय कोर्स प्रभाकर पूरा किया। इस बीच उन्होंने जे पी यूनिवर्सिटी से स्नातक की पढ़ाई भी पूरी की। इसके साथ ही देवी ने श्रीराम भरतीय कला केन्द्र से शास्त्रीय संगीत और कत्थक की शिक्षा भी हासिल की। कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं। इस बात कोसाबित कर दिखाया है देवी ने।

ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव

2003 में पूर्वा ब्यार एलबेम से मिली पहचान

वर्ष 2003 में देवी के पहले अलबम पूर्वा बयार ने धूम मचा दी। इसके बाद देवी ने राजधानी पकड़ के आ जइवो , बावरिया ,यारा और अइवो मोरे आंगन समेत 100 से अधिक अलबम में अपनी जादुई आवाज से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। देवी को पहचान हालांकि छठ के गीतों से अधिक मिली। स्वर कोकिला शारदा सिन्हा के बाद देवी के गाये छठ गीतों को श्रोताओं ने बेहद पसंद किया। इसके बाद देवी को राज्यस्तरीय कार्यक्रम में आमंत्रित किया जाने लगा जहां उन्होंने अवनी विशिष्ट गायन शैली से लोगों का दिल जीत लिया। देवी की प्रतिभा अब सात समंदर पार भी सराही जाने लगी। दुबई में आयोजित एक कार्यकम में देवी को भोजपुरी फोक क्वीन सम्मान से अंलकृत किया गया। इस बीच देवी ने यूरोप ,मास्को , दोहा कतर ,थाइलैंड ,बैंकाक ,जर्मनी और मॉरीशस में अपनी शानदार प्रस्तुति से लोगों का दिल जीत लिया। देवी ने कई फिल्मों में भी पार्श्वगायन किया है।

ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव

अक्षय कुमार की फिल्म में रजिया गुंडो में फंस गई बॉलीबुड आइटम शॉग ने देवी को किया और पॉपुलर

अक्षय कुमार की मुख्य भूमिका वाली फिल्म थैक्यू में देवी ने आइटम नंबर रजिया गुडो में फंस गयी गीत को अपनी आवाज दी जिसे लोगों ने काफी पसंद किया। बहुमुखी प्रतिभा की धनी देवी ने फिल्म जलसाघर की देवी का निर्माण भी किया जिसमें उन्होंने मुख्य भूमिका निभायी है।देवी ने हाल ही में अपनी रचित किताब माई डायरी नोट्स 2 का विमोचन किया है। देवी आज संगीत  के क्षेत्र में अपनी विशिट पहचान बना चुकी है। वह अपनी सफलता का श्रेय कठिन परिश्रम के साथ ही अपने माता-पिता,गुरू और शुभचिंतको को भी देती है जिन्होंने उन्हें हर कदम सपोर्ट किया।

ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

मनोरंजन जगत के लिए पटना से मौर्य न्यूज18 की रिपोर्ट

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।

तिहाड़ जेल से नताशा, देवांगना और आसिफ बाहर आए नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 । स्टूडेंट एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल को आखिरकार 17...