Global Statistics

All countries
200,027,139
Confirmed
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 01:46:35 IST 1:46 am
All countries
178,651,578
Recovered
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 01:46:35 IST 1:46 am
All countries
4,255,528
Deaths
Updated on Wednesday, 4 August 2021, 01:46:35 IST 1:46 am
होमPOLITICAL NEWSक्या होगा चिराग का लॉलीपॉप, धर्म संकट से मुक्त नहीं हुई है...

क्या होगा चिराग का लॉलीपॉप, धर्म संकट से मुक्त नहीं हुई है भाजपा !

-

पारस के मंत्री पद के लिए नीतीश का लगा है वीटो

पॉलिटिकल ब्यूरो, पटना, मौर्य न्यूज18

लोजपा में टूट के बाद भाजपा और जदयू के नए हनुमान (विभीषण)पशुपति पारस के मंत्री पद की कवायद निरंतर जारी है। उनका दावा भी मजबूत है। सूत्रों के मुताबिक उनके दावा को पुख्ता बनाने के लिए जदयू और स्वयं मुख्यमंत्री का दिल्ली दौरा भी हो गया है।
लेकिन अंदर खाने की खबर यह भी है कि भाजपा नेतृत्व अब भी अपने पुराने हनुमान चिराग पासवान को भूल नहीं पाया है । उसके पास अभी एक छोटा सा धर्म संकट बचा है।
पुराने हनुमान की वफादारी के अनुरूप उसको भी कोई आश्वासन या लॉलीपॉप देने की तैयारी चल रही है ताकि भविष्य में दलित राजनीति पर भाजपा का पकड़ बनी रहे ।

यूं भी वंशवाद की राजनीति के तहत रामविलास पासवान की विरासत पर उनके पुत्र चिराग पासवान का ही दावा बनता है। पिता के निधन के बाद पासवान समाज की सहानुभूति चिराग पासवान की ओर ही नजर आती है। ऐसे में भाजपा कोई रिस्क नहीं लेगी और वह नए हनुमान पशुपति पारस को पुरस्कृत तो करेगी ही लेकिन पुराने हनुमान चिराग पासवान को भी किन्हीं नए चाशनी में फंसा कर रखना चाहेगी।

इसके लिए ही दिल्ली दरबार में मंथन चल रहा है । देखना है कौन सा आश्वासन, कौन सा लॉलीपॉप पासवान के लिए आता है । वैसे चिराग पासवान के लिए कांग्रेस और राजद ने भी अपने दरवाजे खुले रखे हैं । लेकिन चिराग पासवान ने अपने वजूद को बनाए रखने का निर्णय लिया है। ऐसी स्थिति में उनके लिए भाजपा ने दोस्ती के दरवाजे बंद नहीं किए हैं ।

भाजपा औऱ चिराग क्या चल रहा अंदरखाने में


फिलहाल, चिराग भाजपा के लिए क्या कुछ करेगी , इसी बात पर विमर्श जारी है । इधर चिराग पासवान से भाजपा सहानुभूति को बढ़ाने का काम कर रही है। कभी अपना ठीकरा नीतीश कुमार और जदयू पर फोड़ते हैं तो कभी अपने लिए सहानुभूति वाला चिट्ठी जारी करते हैं ।
आम कार्यकर्ताओं से लेकर राजनेताओं के लिए ये पत्र जारी किए जा रहे है। पशुपति पारस को घर का भेदी लंका ढाए की तर्ज पर विभीषण की उपाधि दी जा रही है ।
ऐसे में देखना है कि क्या कुछ उनके लिए स्पेस भाजपा निकाल पाती है।

चिराग की चिट्ठी के मायने

मालूम हो कि लोजपा में टूट के बाद चिराग पासवान ने ट्विटर पर कल एक चिट्ठी शेयर करते हुए जदयू, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और अपने चाचा पशुपति पारस पर निशाना साधा व कई आरोप लगाये हैं।
कहा कि जदयू ने हमेशा लोजपा को तोड़ने का काम किया। चिट्ठी में चिराग ने लिखा है कि जदयू ने हमेशा लोजपा को तोड़ने का काम किया है। 2005 फरवरी के चुनाव में हमारे 29 विधायकों को तोड़ा गया। 2005 नवंबर में हुए चुनाव में हमारे जीते हुए सभी विधायकों को जदयू ने तोड़ा। इसके बाद 2020 में हमारी पार्टी से जीते हुए एक विधायक को तोड़ने का काम किया गया।
चिराग ने आगे लिखा कि अब हमारे पांच सांसदों को तोड़ जदयू ने बांटो और शासन करो की रणनीति को दोहराया है।

नीतीश कुमार ने राजनीतिक हत्या का प्रयास किया

वहीं चिराग ने अपनी चिट्ठी में सीएम नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए लिखा है कि कई बार नीतीश कुमार के द्वारा मेरे पिता और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान की राजनीतिक हत्या का प्रयास किया गया। दलित और महादलित में बंटवारा करवाना उसी का एक उदाहरण है। नीतीश जी ने मेरे पिता को और मुझे राजनीतिक तौर पर समाप्त करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। पापा ने कभी नीतीश कुमार के साथ कोई समझौता नहीं किया
चाचा ने मुझे सिर्फ अपना प्रतिस्पर्धी समझा। अंतिम समय में धोखा दिया।


चिराग पासवान फिलहाल इसी प्रकार सहानुभूति बटोरो अभियान में लगे हुए हैं और इस काम में उन्हें फिलहाल सफलता मिलती हुई दिखाई दे रही है।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए पॉलिटिकल ब्यूरो रिपोर्ट ।

mauryanews18
MAURYA NEWS18 DESK

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Must Read

दिल्ली में 9 साल की बच्ची का जबरन अंतिम संस्कार।रेप कर...

दिल्ली कैंट के नांगल गांव स्थित श्मशान भूमि में रविवार शाम नौ साल की बच्ची की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। अब इस...