Google search engine
गुरूवार, जून 24, 2021
होमPOLITICSऐसा भी होता है : तेरी तालाक से दुनिया तकलीफ में !...

ऐसा भी होता है : तेरी तालाक से दुनिया तकलीफ में ! Maurya News18

-

दुनिया का चौथा सबसे अमीर इंसान, लॉकडाउन में घर पर रहा तो तालाक हो गई !

दुनिया पर असर : बिल-मेलिंडा के तलाक भारत समेत कई देश प्रभावित होंगे

बिल गेट्स का फाउंडेशन सेहत और समाज के लिए अरबों रुपए की मदद करता है

नयन, नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18

ऐसा भी होता है । दुनिया का अमीर इंसान । जो इंसानियत के लिए पूरी दुनिया में घूम-घूम कर काम करता है । जिस पर दुनिया के कई देश जिन पर निर्भर रहता है । आज वो इंसान पारिवारिक कष्ट में है । तकलीफ कोरोना के कारण लॉकडाउन ने पैदा की है । कोरोना तो कुछ बिगाड़ नहीं पाया लेकिन कोरोना काल में घर बैठ कर काम करना । दरअसल, घर में कोरेंटाइन होकर काम करना ही काल बन गया है…बात तालाक तक पहुंच गई । मैं बात दुनिया के अमीर व्यक्ति बिल गेट्स की कर रहा हूं । बिल गेट्स और मेलिंडा के बीच तालाक की फाइल हो गई है । कहा जा रहा है कि इससे दुनिया के कई देश प्रभावित होंगे । दुनिया के लिए ये चिंता का विषय बना हुआ है यदि इतना मददगार इंसान मानिसक स्तिथि से बुलंद नहीं होगा तो असर पड़ेगा ही । इस घटना को पूरे विस्तार से समझते है…पढ़िए मौर्य न्यूज18 की पूरी रिपोर्ट ।

दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति की तालाक की याचिका फाइल

वैवाहिक जीवन के 27 साल बाद एक मोड़ ये आया है । आपको बता दें कि दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बिल गेट्स ने वॉशिंगटन के किंग काउंटी कोर्ट में 27 साल तक दांपत्य जीवन बिताने के बाद तलाक की याचिका दायर कर दी है । 65 साल के बिल गेट्स और 56 साल की मेलिंडा के बीच सब कुछ ठीक नहीं है, इसका पता पिछले साल की एक घटना से भी चला। तब बिल ने माइक्रोसॉफ्ट और दुनिया के मशहूर निवेशक वॉरेन बफेट की कंपनी बर्कशायर हैथवे के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स से इस्तीफा दे दिया था। वह अपने परिवार के साथ ज्यादा वक्त गुजारना चाहते थे।


अमेजन के जेफ बेजोस और मैकेंजी स्कॉट की तालाक से इसकी तुलना की जा रही…लेकिन ये जरा हट के है …

बिल गेट्स औऱ मेलिंडा की तालाक को कई ऐंगल से देखा जा रहा है । अब स्थिति ये है कि कई मीडिया हाउस ने अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस और मैकेंजी स्कॉट के तलाक के साथ इनकी तुलना की, लेकिन बिल और मेलिंडा का मामला अलग है। उनके बीच तलाक का असर सिर्फ माइक्रोसॉफ्ट, गेट्स परिवार की निजी कंपनियों और उनकी मिल्कियत तक ही सीमित नहीं होगा। इसका असर भारत सहित दुनिया के कई देशों में चल रहे स्वास्थ्य कार्यक्रमों, क्लाइमेट चेंज पॉलिसी और सामाजिक मामलों पर भी पड़ सकता है। इसका कारण बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन है, जो इन क्षेत्रों में दुनियाभर में काम कर रहा है। वे अब तक 50 अरब डॉलर यानी साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए से अधिक रकम ऐसी पहल पर खर्च कर चुके हैं।


दान देने के मामले से सबसे अव्वल हैं…37 हजार करोड़ हर साल दान करते हैं ….।


बिल गेट्स की बात करें तो इनका फाउंडेशन दुनियाभर में विभिन्न मानवीय पहलुओं को देखते हुए दान करने में भी बड़ा दिल रखता है । खुलकर दान करते हैं । इस मामले में दुनियाभर में टॉप लेवल पर हैं । कितना कुछ दान करते हैं इसे समझिए …। आपको बात दें कि फाउंडेशन हर साल 37 हजार करोड़ रुपए परोपकार के काम में लगाता है। कोरोना महामारी से लड़ने में भी फाउंडेशन ने करीब 8 हजार करोड़ रुपए की मदद की। कोविड-19 वायरस पिछले साल जब दुनिया में फैला तो उसे खत्म करने के लिए वैक्सीन बनाने की पहल में बिल गेट्स ने अहम भूमिका निभाई।


इन दिनों भी कई गरीब देशों के लिए मदद की नई पहल शुरू की।


बिल गेट्स कितने मददगार इंसान हैं ,…इस बात से अंदाजा आप लगा लीजिए कि हाल में एक टीम बनाकर मदद करने के लिए दुनियाभर के गरीब देशों की सूची बनाई और मदद के लिए आगे बढ़ चले । आपको जानकर खुशी होगी कि इस इंसान ने 92 गरीब देशों और दर्जन भर अन्य मुल्कों के लिए कोवैक्स नाम से एक अंतरराष्ट्रीय पहल शुरू हुई है, जिसमें यह संस्था अहम रोल अदा कर रही है। स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी के पॉलिटिकल साइंस के प्रोफेसर रॉब राइख कहते हैं कि इस तलाक से फाउंडेशन और दुनिया में उसके कामकाज पर काफी असर पड़ सकता है।


तालाक के बाद भी साथ काम करते रहेंगे


यहां कह सकते हैं कि सुकून इस बात से है कि तालाक हो जाने के बाद भी दोनों में से कोई भी मदद के कामों को प्रभावित ना होने देने के लिए साथ काम करते रहने की बात कही है । इस बारे में बिल और मेलिंडा की ओर से सिर्फ इतना बताया गया है कि वे परोपकार के काम को लेकर आपस में सहयोग करते रहेंगे। बफेट ने भी गेट्स फाउंडेशन को अरबों डॉलर का दान दिया है। दुनिया में नहीं रहने पर भी उनकी संपत्ति का बड़ा हिस्सा इसे मिलेगा।

इससे पहले 2010 में बफेट और बिल ने ‘गिविंग प्लेज’ नाम की पहल शुरू की थी, ताकि अमीर लोग अपनी संपत्ति का बड़ा हिस्सा चैरिटी के लिए दें। महत्वपूर्ण बात यह भी है कि गेट्स परिवार के पास अमेरिका में सबसे अधिक जमीन है। इसलिए दुनिया की दिलचस्पी यह जानने में होगी कि इस तलाक में किसके हिस्से में कितनी रकम आती है?


एक्सपर्ट क्या कह रहे …तालाक की वजह क्याा बता रहे …।


तालाक के बारे में एक्सपर्ट की राय ही कुछ अलग है । वो इसे किसी और एंगल से देख रहे हैं । क्या सोंचते हैं दुनियाभर के एक्सपर्ट इसे समझिए । बिल गेट्स के तलाक का एक कारण बाइडेन प्रशासन की अमीरों पर अतिरिक्त टैक्स की नीति को भी माना जा रहा है। इसके तहत शादीशुदा और बेतहाशा कमाई करने वालों को मैरिज पेनल्टी टैक्स (4%) भरने का प्रावधान है।

तालाक होने पर पेनाल्टी टैक्स के रूप में 30 हजार करोड़ रूपए बता सकते हैं….

मनी मैनेजमेंट एक्सपर्ट एलविना लो कहते हैं कि तलाक के कई आधार हो सकते हैं, लेकिन पेनल्टी टैक्स से बचने की बात करें तो गेट्स 4 बिलियन डॉलर यानी करीब 30 हजार करोड़ रुपए बचा लेंगे ।

बेटी भी एक कारण बताया जा रहा है…….

NEW YORK, NY – SEPTEMBER 20: (L-R) Phoebe Adele Gates, Bill Gates, and Melinda Gates attend the Goalkeepers 2017, at Jazz at Lincoln Center on September 20, 2017 in New York City. Goalkeepers is organized by the Bill & Melinda Gates Foundation to highlight progress against global poverty and disease, showcase solutions to help advance the Sustainable Development Goals (or Global Goals) and foster bold leadership to help accelerate the path to a more prosperous, healthy and just future. (Photo by Jamie McCarthy/Getty Images for Bill & Melinda Gates Foundation)

एक कारण यह भी माना जा रहा है कि उनकी सबसे छोटी बेटी फोएब एडले गेट्स सितंबर में 18 साल की हो गई है। अब वह बालिग की श्रेणी में आ चुकी है। दो अन्य बच्चे जेनिफर और रोरी पहले ही बालिग हैं, इसलिए संपत्ति बंटवारे में उन्हें किसी भी प्रकार की कानूनी अड़चन नहीं आएगी।
कुल मिलाकर वास्तविकता क्या है इसे समझना होगा । और बिल गेट्स खुद इस संबंध में जबतक कुछ नहीं कह देते तबतक बहुत सारी बातें होती रहेंगी । फिलहाल तो ये खबर पूरी दुनिया में लोगों को तकलीफ पहुंचा रहा है । दुनिया के कई देश चिंतित हैं जिन्हें बिल गेट्स से भरपूर मदद मिलती है । ऐसे में एक्सपर्ट क्या कह है या दुनिया क्या कह रही उसपर किसी की नज़र नहीं है । बस सबकी नज़र बिल गेट्स के बयान पर टिकी हुई है कि वो क्या बोलते हैं । जो भी अच्छा हो….बस सबकी चाहत इतनी ही है ।

नई दिल्ली से मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की रिपोर्ट ।

ALSO READ  बिहार पंचायती राज : जिनका क्षेत्र नगर निकाय में चला गया वो अब पंचायत प्रतिनिधि नहीं माने जाएंगे । प्रमुख पद भी उसी दिन से समाप्त : मंत्री सम्राट चौधरी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here
ALSO READ  क्या होगा चिराग का लॉलीपॉप, धर्म संकट से मुक्त नहीं हुई है भाजपा !

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

राजद से TEJ बोले – CHIRAG तय करें कि संविधान के...

तेजस्वी ने चिराग पासवान को साथ आने का दिया न्योता राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद जल्द होंगे पटना में, शुरू होगी राजनीति पॉलिटिकल ब्यूरो, पटना, मौर्य...