Google search engine
मंगलवार, जून 22, 2021
Google search engine
होमBIHAR NEWSबिहार सरकार के मंत्री सम्राट को आया गुस्सा...बोले, मौत-मौत मत खेलो...विपक्षियों !...

बिहार सरकार के मंत्री सम्राट को आया गुस्सा…बोले, मौत-मौत मत खेलो…विपक्षियों ! Maurya News18

-

नयन, पटना, मौर्य न्यूज18 ।

कोरोना आपदा में राजनीति

भाजपा के युवा सम्राट । मंत्री सम्राट चौधरी । कोरोना संकट में स्वास्थ्य व्यवस्था और मौत के आंकड़ों को लेकर देश में चल रही राजनीति । सम्राट को नहीं सुहा रही । गुस्सा उतारते हैं …कहते हैं..संकट और आपदा में राजनीति । कहते हैं विपक्षियों हद कर दी आपने । दिल्ली के केजरीवाल हों या महाराष्ट्र के ठाकरे या इन सबके अगुआ कांग्रेस के राहुल गांधी । सबको राजनीति की पड़ी है । सबको पीएम मोदी के काम पर उंगली उठाने और अनापशनाप बोलने की पड़ी है । क्या ये वक्त है ये सब करने का…लेकिन लाख समझाने के बाद भी आये दिन रोज दिन में दो-दो, तीन-तीन बार प्रेस कांफ्रेंस करके मोदी सरकार को कोसते नहीं थकते । काश ! इतना वक्त देशहित में कोरोना से जनता को सुविधा देने और उनकी जान बचाने में सरकार के साथ मिलकर काम करने में दिए होते । खैर,


बात यही रूकती तो एक बात थी…देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश की सरकार को भी पानी-पी पीकर कोस रहे । मैं अपने सूबे बिहार की बात करूं तो…यहां भी विपक्ष का रवैया भी सिर्फ सोशल मीडिया पर भ्रम फैलाने और जनता को बड़गलाने वाला ही है । ऐसे में अपनी जनता से मुझे भी कुछ कहना है…मुझे भी उन विपक्षियों को कहना है जो ऐसी बेला में जनता को गुमराह कर रहे….मौत पर राजनीति कर रहे …विपक्षियों ने मजबूर किया है ये बताने के लिए कि मैं भी ये कहूं कि आप जहां सरकार में हैं वहां कुछ नहीं कर रहे…मौत दर मौत हो रही है और उसका ठीकरा पीएम मोदी पर फोड़ रहे । अरे विपक्ष में बैठे राजनीति करने वालों …मौत की गिनती गिनने से पहले ये भी सोंच लिया होता कि मौत चाहे जिसकी भी हो,,,दुखद, अत्यंत दुखद है…सब अपने देश की जनता है । किसी की मौत पर राजनीति करने से घिनौना कुछ नहीं होता ।


भाजपा के युवा सम्राट यहीं नहीं थमते…कहते हैं जब आप मौत पर राजनीति करोगे तब बोलना ही पड़ेगा…आंखें खोलनी ही पड़ेगी कि जहां आप जहां सत्ता में हो वहां झांक कर देखो…! देखो…और जवाब दो…कि कौन कितना दोषी है । यदि मैं बोलूं या ना बोलूं…पर आंकड़ा तो बोलेगा । क्या आप आंकड़े को भी झुठला देंगे ।

अब जरा आंकड़ो को देख लें ….बिहार की आबादी लगभग 12 करोड़ और यहां हमारी एनडीए की सरकार है । यहां 12 करोड़ की आबादी पर मई 2021 तक 4548 मौतें बताई जा रही । जबकि महाराष्ट्र की आबादी भी लगभग 12 करोड़ ही है । लेकिन मौत के आंकड़े देखे तो….91,341 (एक्इयानवें हजार तीन सौ इकतालीस) यानि नब्वे हजार से ज्यादा मौतें, अकेले महाराष्ट्र में । और यहां सरकार किसकी है…कांग्रेस और शिवसेना की । अब क्या बोलोगे आप ….।


महाराष्ट्र में तो शहरीकरण भी बड़े पैमाने पर हुआ हुआ है । सुविधाओं की उतनी किल्लत नहीं होगी जितनी बिहार जैसे पिछड़े प्रदेश में है । आपके यहां बड़ी-बड़ी कंपनियां है…बिजनेस हब है । सुविधाएं पर्याप्त है …फिर भी इतनी मौत । आखिर क्यों ….खुद में झांकिए विपक्षियों…। पीएम मोदी को कोसने से पहले खुद कितना कर पा रहे ये तो देख लीजिए । लेकिन बिहार में सीमित संसाधन होते हुए भी इतनी बड़ी आबादी को हर संभव सुविधा देने में लगी है सरकार ।

कोरोना फेज 2 जिस तरह से एकाएक आया, हम उतने तैयार नहीं थे । फिर भी हमारी एनडीए की सरकार हर संभव सहायता देने में जुटी है । और यहां की जनता भी कोरोना की लड़ाई में सरकार का साथ दे रहे । सरकार जनता से जब जैसा कही…जनता सरकार के साथ खड़ी दिखी और विपक्षी गाल बजाते रहे…लेकिन दाल गली नहीं । अब तो बिहार में लॉकडाउन के बाद आंकड़े ये बताते हैं कि बहुत हद तक स्थिति नियंत्रण में है, फिर भी सरकार स्वास्थ्य व्यवस्था दुरूस्त करने में पूरी ताकत झोंक रखी है ताकि अब आगे किसी भी लहर का सामना कर सकें ।

अब बात थोड़ी दिल्ली की सरकार अरविंद केजरीवाल की कर लेते हैं । ये वही केजरीवाल हैं…जो देश में दिल्ली जैसी हर तरह की सुविधा वाले सूबे के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन रवैया ऐसा कि देश जब आतंकवादियों को मार गिराता है तो कहते हैं लाश दिखाओ । लाश पर राजनीति करने में माहिर केजरीवाल की सरकार का आंकड़ा देखेंगे तो चौंक जाएंगे ।


मंत्री सम्राट चौधरी कहते हैं, जनता को गुमराह कैसे किया जाता है….कोई दिल्ली सरकार से सीखे….! खुलेआम …सरासर झूठ बोलना कोई इनसे सीखे…झूठ बोल-बोल कर पीएम मोदी…केन्द्र सरकार को चिल्ला-चिल्ला कर कोसना कोई इनसे सीखे…।
लेकिन आंकड़े देखिए दिल्ली की…। दिल्ली की आबादी लगभग 2 करोड़ के आसपास है । इतनी कम आबादी में मौत के आंकड़े हैं ..23695, जी हां…सही पढ़ा आपने अबतक के आंकड़े हैं …तइस हजार छह सौ पंचानवे । बताइए ….2 करोड़ की आबादी पर 23,695 मौत । क्या कहेंगे इसे ।


बिहार से दिल्ली की तुलना करें तो दिल्ली से 6 गुणा ज्यादा आबादी बिहार की है और लोगों की मौत…बिहार की आबादी का 16 प्रतिशत है । जबकि केजरीवाल जबसे दिल्ली के सीएम बने हैं ..अपनी सबसे बड़ी उपलब्धियों में इंटरनेशलनल टाइप मोहल्ला क्लीनिक की बात करते हैं । ढ़िंढोरा पीट-पीटकर बताते हैं कि दिल्ली की जनता के लिए हमने कितनी शानदार स्वास्थ्य व्यवस्था कर रखी है । अरे, केजरीवालजी, बोलने का क्या ?.. कुछ भी बोल लीजिए…इतनी ही शानदार व्यवस्था जब आपकी पहले से ही थी तो…इतने बड़े पैमाने पर सिर्फ दिल्ली में मौत क्यों हुई ? वजह, साफ है कि आप सही होते तो, लगभग 24 हजार लोगों की जान नहीं जाती । प्रेस कांफ्रेंस करके रोज पीएम मोदी को कोसना, हर रोज मदद के नाम पर बखेड़ा खड़ा करना ये सब आदत आपकी जा नहीं रही । छोड़िए ये सब करना और देश की सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर काम करिए ।


आप आये दिन उत्तर प्रदेश की भाजपा शासित राज्य में योगी सरकार को कोसते हैं …कांग्रेस के राहुल गांधी हों या प्रियंका गांधी….रोज घेरते हैं …जनता के बीच भ्रम फैलाते रहते हैं ।

आप जैसे नेताओं को विपक्ष में मौका मिला है, जनता के लिए सही सोंचने का है, सोंचिएगा जरा…उत्तर प्रदेश की आबादी लगभग 23 करोड़ 15 लाख है । यहां अबतक 19,899 मौतें हुई हैं । इतने बड़े सूबे को संभालना कितना मुश्किल होगा जनता समझ रही है फिर भी महज 2 करोड़ वाली दिल्ली में 24 हजार मौतें क्या कहेंगे आप । कुल मिलाकर संभले नहीं संभर रही दिल्ली आपकी और बात करने चलें हैं पीएम मोदी के कामकाज की । वर्तमान में कोरोना से निपटना है तो, अब भी संभल जाइए, नहीं तो, ये आंकड़ें बताने के लिए पर्याप्त हैं कि किसकी सरकार कितनी संवेदनशील है ।


भाजपा के सम्राट कहते हैं …मंत्री रहते जवाबदेही समझता हूं । हमलोग उसी देश में हैं जहां पोलियो की वैक्सीन लगने में कई वर्ष लग गए …जबकि वर्तमान में देखें तो पीएम मोदी के लीडरशीप में तो कोरोना कहर के रहते वैक्सीन इजाद भी हुए औऱ लगभग 20 करोड़ देशवासियों को वैक्सीन के डोज लग भी गए । वहीं लगभग दो करोड़ वैक्सीन विभिन्न राज्यों के स्टॉक में हैं । और आने वाले समय में बच्चों को भी वैक्सीन पड़ जाए इसकी भी मुक्मल तैयारी की जा रही है ।

वक्त है सुधर जाइए ….

Rjd Leader Tejaswi Yadav / Cm Westbengal MamataBenarjee

लेकिन दुर्भाग्य है कि हमारे देश की राजनीतिक पार्टियों को जनता से ये सब बताने के लिए नहीं है । जनता के बीच सिर्फ मौत का आंकड़ा लेकर बैठ जाते हैं । और केन्द्र की पीएम मोदी की सरकार को जीभर कर कोसते रहते हैं ….क्या संकट की स्थिति में कोई भी देश ऐसा ही करता है । देश की विभिन्न पार्टियां ऐसा ही करती है । क्या इसी को देश की संकट की घड़ी में एक होना कहते हैं ।

———————————————————-

जनता के बीच आकर मुझे ये मौत के आंकड़े गिनाने का अफसोस है लेकिन क्या करूं विपक्ष की पार्टियां…, आप जैसी समझदार जनता को भी जिस तरह से बड़गलाने का काम कर रही है …कहते हैं ना…! सौ बार झूठ बोलो तो एक बार सच लगने ही लगता है । इसलिए आपसे आज ये सब कह दिया । आप जनता से उम्मीद है कि मेरी बातों को गंभीरता से लेंगे और केन्द्र की पीएम मोदी की सरकार के साथ-साथ भाजपा औऱ एनडीए शासित राज्यों की सरकार पर भरोसा करेंगे । बिहार की सरकार आपकी मदद के लिए हर संभव प्रयास में लगी है …। भरोसा रखिए । हमसब मिलकर कोरोना से जीतेंगे । जीत रहे हैं ।

सम्राट चौधरी, पंचायती राज मंत्री, बिहार सरकार ।

पटना से मौर्य न्यूज18 के लिए नयन की रिपोर्ट ।

ALSO READ  कोरोना का रोना, बिहार में कई प्राइवेट स्कूल बंद !
ALSO READ  देशद्रोह मामला : आज पुलिस के सामने पेश होंगी मॉडल आयशा सुल्ताना

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली : उद्योग विहार की जूता फैक्टरी में लगी आग

दमकल की दर्जनों गाड़ियां मौके पर, छह कर्मचारी लापता बबली सिंह, नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 दिल्ली के उद्योग विहार स्थित एक जूता फैक्टरी और आसपास...