Google search engine
शुक्रवार, जून 18, 2021
Google search engine
होमSTATEBIHAR : घर बैठे डॉक्टर-इंजीनियर बनाएगा “इन्वेंटर्स जीनोम” ! Maurya News18

BIHAR : घर बैठे डॉक्टर-इंजीनियर बनाएगा “इन्वेंटर्स जीनोम” ! Maurya News18

-

इन्वेंटर्स एडुकेयर व इन्वेंटर्स जीनोम एप लांच

पहली बार बिहार के छात्रों के लिए अपना एडुकेयर एप 

गाइंडेंस के लिए अब प्रदेश से बाहर जाने की जरूरत नहीं

बिजनेस न्यूज, मौर्य न्यूज18 ।

पटना 13 जून

डॉक्टर-इंजीनियर बनने के लिए डीजिटल दुनिया में आपका स्वागत है। बिहार के छात्र जो मेडिकल या इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहे हैं, उनके लिए ये खबर है। खबर ये कि अब वो घर बैठे इसकी तैयारी कर सकते है। फिलिंग कोचिंग वाली ही आएगी। वजह, बिहार पढ़ेगा तो आगे बढ़ेगा कि तर्ज पर “इन्वेंटर्स जीनोम” एप आपके लिए पूरी तरह से तैयार है। बिहार की राजधानी पटना में इसे लॉच कर दिया गया है। जानकारी के लिए पढ़िए पूरी रिपोर्ट ….।

अब खबरें विस्तार से   

कोविड-19 महामारी में पिछले तीन माह से पढ़ाई से वंचित छात्रों एवं शिक्षकों की परेशानी को बहुत हद तक कम करने के लिए इन्वेंटर्स एडुकेयर ने इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए इन्वेंटर्स एडुकेयर और मेडिकल की तैयारी में जुटे छात्रों के लिए इन्वेंटर्स जीनोम एप लांच करने की  घोषणा की। एसके पुरी पार्क स्थित इन्वेंटर्स ऑफिस में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में इन्वेंटर्स के फाउंडर फैकल्टी राजेश रंजन ने बताया कि पहली बार बिहार के छात्रों के हित में यह एप लांच किया गया है, जिसका लाभ उन्हें  अपनी सारी जिज्ञासा शांत करने में मिलेगी। लॉकडाउन में काफी पीड़ा हुई, जिसके वजह से बिहार के छात्रों के लिए ये एडुकेयर एप लांच करनी पड़ी। 

ये एप औरों से अलग कैसे है  

इन्वेंटर्स एडूकेयर का मोबाइल एप बाकी एप से बिलकुल अलग है। इस एप के माध्यम से स्टुडेंट लाइव क्लासेस ,रिकार्डेड वीडियो लेक्चर्स ,टीचर नोट्स ,टेस्ट्स एवं असाइनमेंट्स का  लाभ एक ही एप के माध्यम से उठा सकते हैं। संस्था के प्रमुख राजेश रंजन का कहना है कि हमें पूरी उम्मीद है इस संकट के दौरान स्टुडेंट को घरों में रहते हुए एप के माध्यम से इंजीनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करने वाले छात्रों को कोई परेशानी नहीं होगी। पूरी टीम स्टूडेंट्स के सपनो को साकार करने के लिए पूरी तरह से समर्पित है।

मेडिकल एवं इंजीनियरिंग की तैयारी में लगे छात्रों के बीच एमभीएस, एमआरएस, पीकेपी, पीआरआर, सीवीके, सीपीकेआर, सीएसकेभी, बीकेके, पीएसएम, पीएटी, सीडीडी काफी लोकप्रिय नाम हैं और संस्था की टीम में उपरोक्त सभी नाम शामिल हैं।

थोड़ा इन्वेंटर्सको भी जानिए

मालूम हो कि इन्वेंटर्स की स्थापना  1 जून को हुई। स्थापना शिक्षकों के ऐसे समूह के द्वारा की गयी जो शहर के संस्थान में पिछले 6-8 सालों से छात्रों को इंजीनियरिंग और मेडिकल की तैयारी करवा रहे थे। स्थापना का एक मात्र  उद्देश्य है कि जब पढ़ने वाले अधिकतर छात्र बिहार से, पढ़ाने वाले अधिकतर शिक्षक बिहार से हैं तो क्यों न उन दोनों के लिए एक ऐसा प्लेटफार्म तैयार किया जाए जो केवल और केवल स्टूडेंट्स की पढ़ाई को प्राथमिकता दे। आज इस महामारी के दौरान जिस तरह से कोटा में पढ़ रहे छात्रों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा तो लगा कि छात्रों को एक बेहतर विकल्प उपलब्ध कराया जाये। 

पटना से मौर्य न्यूज18 की बिजनेस रिपोर्ट ।

ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर
ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।

तिहाड़ जेल से नताशा, देवांगना और आसिफ बाहर आए नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 । स्टूडेंट एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल को आखिरकार 17...