Google search engine
शनिवार, जून 19, 2021
Google search engine
होमजीवन मंत्रटूटते रिश्तों का गम ! ...

टूटते रिश्तों का गम ! Maurya NEWS 18

-

अपनी एक गलती पर राजेश खन्ना को गले लगाकर उनसे माफी मांगना चाहते थे शत्रुघ्न सिन्हा लेकिन उससे पहले ही दुनिया छोड़ गए थे काका

बॉलीवुड में स्टार्स के बीच मनमुटाव कोई नई बात नहीं है। ऐसा ही एक किस्सा शत्रुघ्न सिन्हा और राजेश खन्ना से भी जुड़ा है। दोनों के बीच एक समय इतना मनमुटाव हो गया था कि इनकी बातचीत ही बंद हो गई थी और शत्रुघ्न सिन्हा के मुताबिक उन्हें इसका मलाल जीवन भर रहेगा।

राजनीति ने तुड़वा दिए रिश्ते !

इस बात का खुलासा खुद शत्रुघ्न सिन्हा ने एक इंटरव्यू में किया है। उन्होंने बताया है कि राजनीति के चलते उनके और राजेश खन्ना के रिश्तों में दरार आ गई थी। दरअसल, 1992 में राजेश खन्ना ने कांग्रेस के टिकट पर नई दिल्ली सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा था।

वहीं, शत्रुघ्न सिन्हा उनके खिलाफ भारतीय जनता पार्टी की ओर से खड़े हो गए थे। बाद में शत्रुघ्न सिन्हा को 28,000 वोटों से हराकर राजेश खन्ना ने उस सीट पर 1996 तक कब्जा कर लिया था लेकिन शत्रुघ्न को अपने खिलाफ चुनाव लड़ता देख काका बेहद आहत हुए थे और उन्होंने शॉटगन से बातचीत बंद कर दी थी।

शत्रुघ्न मांगना चाहते थे माफी !

  • शत्रुघ्न इस बारे में बोले, ‘जब मैंने राजेश जी के खिलाफ चुनाव में खड़ा हुआ तो उन्हें इस बात का काफी बुरा लगा। ईमानदारी से बताऊं तो मैं भी ऐसा करना नहीं चाहता था लेकिन मैं लाल कृष्ण आडवाणी जी को इनकार नहीं कर पाया। मैंने यह बात राजेश खन्ना को भी समझाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मेरी एक ना सुनी और कई सालों तक हमने एक-दूसरे से बात नहीं की।जब राजेश जी अपने अंतिम दिनों में अस्पताल में भर्ती थे तो मैं उनके पास जाकर उन्हें गले लगाकर माफी मांगना चाहता था लेकिन दुर्भाग्यवश इससे पहले ही दुनिया से चल बसे।
  • राजेश खन्ना का 2012 में लिवर की बीमारी के चलते निधन हो गया था। उन्हें भारतीय सिनेमा का पहला सुपरस्टार भी माना जाता है। राजेश खन्ना ने अपने करियर में 180 फिल्मों में काम किया, जिनमें 163 फीचर फिल्में और 17 शॉर्ट फिल्में थीं। राजेश को उनके बेहतरीन अभिनय के लिए तीन बार फिल्मफेयर बेस्ट एक्टर अवार्ड मिला। वे इस पुरस्कार के लिए 14 बार नॉमिनेट भी हुए। इसके अलावा राजेश को भारतीय सिनेमा में योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।
ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में...

कोरोना की धीमी लहर के बाद राज्य निर्वाचन आयोग के काम करने की रफ्तार तेज अनुमान दो-तीन माह में चुनाव कराने पर चल रहा विचार बाढ़...

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।