Google search engine
शनिवार, जून 19, 2021
Google search engine
होमSTATEउन्नाव के आगे क्या ?

उन्नाव के आगे क्या ?

-

यहां दुष्कर्म कांड में जो हुआ वो, आधुनिक भारत का शायद सबसे नृशंस और बर्बर परिदृश्य है…!

गेस्ट रिपोर्ट

उन्नाव के बलात्कार कांड में जो होता हुआ दिख रहा है, वह अपने आधुनिक भारत का शायद सबसे नृशंस और बर्बर परिदृश्य है। एक बच्ची एक दबंग विधायक और उसके गुर्गों के हाथों बलात्कार का शिकार होती है। थाने में अपनी रपट लिखाने के लिए उसे प्रदेश के मुख्यमंत्री के आवास के आगे आत्मदाह की कोशिश करनी पड़ती है। केस दर्ज होने के बाद न्यायालय के दबाव में विधायक की गिरफ्तारी तो हो जाती है, लेकिन पीड़िता के पिता को पुलिस हिरासत में मरना पड़ता है। केस की पैरवी करने वाले उसके चाचा को जेल में डाल दिया जाता है। अभी-अभी एक बेहद संदिग्ध दुर्घटना में कांड की दो गवाह-उसकी मौसी और चाची मारी जाती है और वह खुद तथा उसका वकील आई. सी. यू में जीवन की जंग लड़ रहे हैं।

इस जंगल राज की पुलिस क्या कर सकती है, यह हम देख चुके हैं। सी. बी. आई के पास करने के लिए कोई गवाह बचेगा, इसकी कोई संभावना नहीं। राजनेताओं के दोगले चरित्र तो हम परिचित हैं। ऐसे बलात्कारी हर दल में मौजूद हैं।

थोड़ी-बहुत उम्मीद देश की महिला सांसदों पर टिकी थी, लेकिन आज़म खान की अभद्र टिप्पणी पर गज़ब की एकजुटता दिखाने वाली महिला सांसदों की इस वीभत्स कांड को लेकर चुप्पी यह बताती हैकि राजनीति की सड़ांध किस स्तर तक पहुंच चुकी है।

आपने लिखा है-

डॉ ध्रुव गुप्त

आप बिहार से है । आप आईपीएस हैं। आपने देश में पुलिस प्रशानिक के तौर में अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन किया है। अब साहित्य के जरिए समाज के बीच अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। आपनी लेखनी विश्वसनीयता का प्रतीक मानी जाती है। आपनी रचनाएं देश के प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही है। साहित्य की दुनिया में आप उम्दा रचनाकार के रूप में अपनी पहचान बनाई है।

ALSO READ  बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में लग गया है।
ALSO READ  बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में लग गया है।

बिहार से मौर्य न्यूज18 की गेस्ट रिपोर्ट ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में...

कोरोना की धीमी लहर के बाद राज्य निर्वाचन आयोग के काम करने की रफ्तार तेज अनुमान दो-तीन माह में चुनाव कराने पर चल रहा विचार बाढ़...

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।