Google search engine
शुक्रवार, जून 18, 2021
Google search engine
होमSTATEवकील के ड्रेस में कोर्ट पहुंचे पूर्व सांसद, हाथ मलती रह गई...

वकील के ड्रेस में कोर्ट पहुंचे पूर्व सांसद, हाथ मलती रह गई पुलिस। Maurya News18

-

Maurya News18, Lucknow

Crime Desk

यूपी में पूर्व सांसद ने पुलिस को काफी छकाया। पुलिस गिरफ्तार करने के लिए जाल बिछाकर बैठी थी, उधर पूर्व सांसद महोदय वकील के ड्रेस में कोर्ट पहुंचे और बिल्कुल फिल्मी स्टाइल में सरेंडर किया। कुछ ऐसा ही सीन अपहरण फिल्म में देखने को मिला था।

बहरहाल, मऊ के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड के आरोपी पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने शुक्रवार को प्रयागराज में MP/MLA कोर्ट में सरेंडर किया। पुलिस ने पूर्व सांसद पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था। 15 फरवरी को गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद से ही पुलिस धनंजय की तलाश कर रही थी।

सूत्रों के मुताबिक, धनंजय सिंह कोर्ट परिसर में वकील के ड्रेस में पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने सरेंडर किया। कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में उन्हें जेल भेज दिया है।

गिरफ्तारी से बचने के लिए धनंजय सिंह ने चार साल पुराने मामले में बेल बांड कैंसिल कराया। कहा जा रहा है कि वे कोर्ट में वकील के ड्रेस में पहुंचे थे। हालांकि जब वे बाहर निकले तो सफेद शर्ट व नीली जींस में थे।

साल 2017 में धनंजय सिंह के खिलाफ जौनपुर के खुटहन में केस दर्ज हुआ था। उसी प्रकरण में बेल बांड कैंसिल कराया गया। बेल बांड कैंसिल होने के बाद कोर्ट ने हिरासत में लेने का आदेश दिया। उन्हें कड़ी सुरक्षा के बीच नैनी सेंट्रल जेल भेज दिया गया। अब मामले की सुनवाई एक अप्रैल को होगी।

कोर्ट के बाहर सुरक्षा का कड़ा इंतजाम था।

लखनऊ के DCP पूर्वी संजीव सुमन ने बताया कि 15 फरवरी को पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में पुलिस ने पूर्व सांसद व बाहुबली नेता धनंजय सिंह को हत्या की साजिश रचने का आरोपी बनाया था। CJM लखनऊ की कोर्ट ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। अलग-अलग राज्यों व शहरों में उनकी कई संपत्तियों का पता चला है। वहीं इस हत्याकांड में तीन शूटरों रवि यादव, राजेश तोमर, शिवेंद्र सिंह उर्फ अंकुर की तलाश की जा रही है।

अजीत के साथ मौजूद मोहर सिंह ने FIR कराई थी कि आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह और अखण्ड सिंह ने गिरधारी के जरिए हत्या करवाई है। गिरधारी ने पांच शूटरों के साथ अजीत की हत्या की थी। गिरधारी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था। इसके बाद ही पुलिस ने सांसद धनंजय सिंह को गिरधारी के बयान के आधार पर हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोपी बनाया था।

बीते 5 जनवरी 2021 को राजधानी के विभूति खंड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दौरान अजीत का साथी मोहर सिंह व एक फूड डिलीवरी कंपनी का कर्मचारी घायल हुआ था।

इस प्रकरण में आजमगढ़ के बाहुबली कुंटू सिंह, अखंड सिंह के अलावा गिरधारी के खिलाफ नामजद FIR दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस शूटआउट में तीन मददगारों को दबोचा था। जबकि शूटर संदीप सिंह को भी पकड़ा जा चुका है।

ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।

तिहाड़ जेल से नताशा, देवांगना और आसिफ बाहर आए नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 । स्टूडेंट एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल को आखिरकार 17...