Google search engine
शनिवार, जून 19, 2021
Google search engine
होमSTATEअनूठी पहल : बह्मभट्ट बिरादरी के बच्चे पढ़ें,आर्थिक तंगी नहीं होने देंगे...

अनूठी पहल : बह्मभट्ट बिरादरी के बच्चे पढ़ें,आर्थिक तंगी नहीं होने देंगे !

-

ब्रह्मभट्ट वेल्फ़ेयर सोसॉयटी और बह्मभट्ट बिरादरी के सहयोग से स्कॉलरशीप टेस्ट हुआ, 150 ने हिस्सा लिया

पटना, 15 अगस्त। मौर्य न्यूज18

आप बह्मभट्ट समाज से हैं। आपके घर में बच्चे हैं। वो पढ़ना चाहता है। मेधावी भी है। आप पढ़ाना चाहते हैं। लेकिन आपकी आर्थिक तंगी आपको बहुत कुछ करने से रोकती है। आप मजबूर होते हैं। बच्चे को शैक्षणिक सुविधा नहीं मिल पाती । वो कुंठित होते चले जाते हैं। मानसिक और शैक्षणिक विकास रूकता चला जाता है। औऱ बच्चे जो देश का भविष्य हैं, संवरने की जगह बिखर जाते हैं। जरा सोचिए हम कैसा भविष्य बना रहे। इसी सोंच ने बह्मभट्ट बिरादरी को झकझोरा। नतीजा, बह्मभट्ट बिरादरी अब अपने समाज के मेधावी बच्चों के साथ ऐसा नहीं होने देने की ठान ली।

नतीजा, पहल की शुरूआत इसी आजादी दिवस पर पाटलिपुत्रा की धरती से की गई। पटना के पाटलिपुत्रा कॉलोनी इलाके में अल्पना मार्केट में स्थित साई कमेस्ट्री कोचिंग इंस्टीच्यूट से की गई।

पटना के साईं कोचिंग इंस्टीच्यूट में स्कॉलरशीप टेस्ट

इंस्टीच्यूट में बच्चों के लिए स्कॉलरशीप परीक्षा का आयोजन किया गया। जिसमें बह्मभट्ट समाज के करीब 150 बच्चों ने हिस्सा लिया। और 15 मेधावी बच्चों को स्कॉलरशीप के लिए चुना गया। जिसपर प्रतिवर्ष 8000 हजार रूपये खर्च किए जाएंगे। ये व्यवस्था अभी 6th, 7th औऱ 8th क्लास के बच्चों के लिए की गई है। यहां स्कॉरशीप टेस्ट के दौरान बड़ी संख्यां में दूर-दराज से आये अभिभावकों की भीड़ रही। बड़ी संख्या में सुदूर गांव इलाके से भी बिरादरी के लोग बच्चों को लेकर पहुंचे थे। आयोजन 11 अगस्त को किया गया था।

ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव

पहल की समाज में खूब है चर्चा

आपको बता दें कि 15 अगस्त को देश स्वतंत्रता दिवस मना रहा था । सभी देशवासी आजादी के जश्न मनाने में जुटे रहे। सबने अपने-अपने अंदाज में खुशियां बांटी। झंडे फहराए। इसी बीच 11 अगस्त से ही पटना में बह्मभट्ट बिरादरी और बह्मभट्ट वेल्फेयर सोसायटी ने मिलकर देश के भविष्य को संवारने की अनूठी पहल शुरू की। और 15 अगस्त को मेधावी स्कॉलर बच्चों के नाम जारी कर खुशियां मनाई। जिसकी पूरे समाज में काफी चर्चा हो रही है। कहा जा रहा है कि सुदूर गांव के अभाव में मेधावी बच्चों का कल्याण होगा। उसे बेहतर संरक्षण भी मिल सकेगा। गाइडलाइन से समाज में तरक्की भी होगी। बिरादरी में काफी खुशियां देखी जा रही है। इस पहस से अन्य समाज के लोग भी प्रेरित होकर ऐसे कदम उठाने में जुट गए हैं।

बह्मभट्ट बिरादरी के अध्यक्ष अजीत नयन बोले- मेधावी बच्चों को संवारना हमसब का कर्तव्य

बच्चों के साथ बह्मभट्ट बिरादरी के प्रमुख अजीत कुमार नयन ।

बह्मभट्ट बिरादरी के अध्यक्ष अजीत कुमार नयन कहते हैं कि बिरादरी ने ये ठाना है कि अब कोई भी बच्चा आर्थिक अभाव में …या आर्थिक तंगी में नहीं पढ़ पाएगा ऐसा नहीं होगा। मेधावी बच्चों की शिक्षा का विशेष ख्याल रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि बच्चा कोई भी हो, किसी समाज, बिरादरी का हो, हर बच्चा देश का भविष्य है। सभी को संवारना हम सब का कर्तव्य है। इसके लिए बह्मभट्ट ने अपनी बिरादरी के मेधावी बच्चो को संवारने की दिशा में शुरूआती पहल की है। आगे हर बच्चों के हित के लिए समाज के अन्य लोगों को भी झकझोंड़ेंगे।

ALSO READ  बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में लग गया है।
बच्चों से मिलने टेस्ट सेंटर पहुंचे बह्मभट्ट बिरादरी के अध्यक्ष अजीत कुमार नयन (उजले टीशर्ट में ) ।

अध्यक्ष नयन ने कहा कि वैसे देखें तो बच्चों को शैक्षणिक रूप से मजबूती देने की इसी पहल ने बह्मभट्ट बिरादरी को चर्चे में ला दिया है। इससे अन्य बिरादरी के बंधुओं में जागृति आयी है औऱ वो भी ऐसे कदम उठाने की दिशा में अमल करने में जुटे हैं। बिरादरी के अध्यक्ष ने स्कॉलरशिप परीक्षा में हिस्सा लेने आये सभी बच्चों को टी-शर्ट और स्कूल बैग भी गिफ्ट में दिए औऱ सबका हौसला बढ़ाया।

ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।

तस्वीर बोलती है, कैसी रही अनूठी पहल ।

बच्चों को बैग भी दिए गए ।

सोसाइटी के बारे में भी जानिए…

ऐसे बनी सोसाइटी, परंपरा को आगे बढ़ाना प्राथमिकता

अपने समाज के कल्याण कार्यों हेतु अब से दो वर्ष पूर्व  ब्रह्मभट्ट वेलफेयर सोसाइटी ( पंजीकृत ) का गठन हुआ जिसकी सूचना सभी को दी गयी है।  सोशल प्लाट्फ़ॉर्म पर समाज को सुदृढ़ करने की पहल काफी लोग हमेशा से करते आ रहे हैं । इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुए कुछ प्रबुद्ध जन इस सोसायटी से जुड़े और इसे क्रियान्वित किया गया । इस ग्रूप के मुख्य तीन योजनाएँ है – शिक्षा , रोज़गार और अपने समाज का विकास ।

इनका प्रयास काम आया…

प्रारम्भिक स्तर पर इस ग्रुप के वरिष्ठ सदस्यों राकेश नंदन जी , मित्रवसु शर्मा, के॰सी॰ शर्मा, ओमप्रकाश शर्मा, श्रीमती आभा राय जी, ज्ञान ज्योति जी, सत्यदेव शर्मा जी, दलिप शर्मा जी, अमरनाथ अमर जी,  उपेन्द्र राय और  प्रियवर  रंजन समेत बी॰डबल्यू॰एस॰ के अन्य और बहुत सदस्यों के दिशा निर्देशन और आर्थिक सहयोग से हम सभी  ने सिर्फ़ शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक कुशल माप दण्डों के आधार पर कई विद्यार्थियों को छात्रवृत्तियाँ देने की पहल की है।

इन्होंने कार्य को दिया अंजाम

अभी हाल ही में इस ग्रुप के महामंत्री मित्रवसु और कोषाध्यक्ष रंजन ने एक महत्वपूर्ण क़दम बढ़ाते हुए ज़मीनी स्तर से जुड़े हुए “ब्रह्मभट्ट बिरादरी”के कोषाध्यक्ष/बी॰डबल्यू॰एस॰के वरिष्ठ सदस्य ज्ञान ज्योति  से बात कर पटना में ब्रह्मभट्ट बेल फेयर सोसाइटी के सौजन्य से ब्रह्मभट्ट बिरादरी के सदस्यों ने एक छात्रवृत्ति-परीक्षा  का आयोजन किया है जिसमें सफल छात्रों या छात्राओं को प्रति वर्ष 8000 रुपये की राशि दी जाएगी।

ALSO READ  पर्यावरण की रक्षा हेतु पौधे अवश्य लगाएं : लक्षमण गंगवार

 बी॰डबल्यू॰एस॰ के सहयोग से ब्रह्मभट्ट बिरादरी के समस्त सदस्य अपनी पूरी लगन के साथ अपने समाज के लगभग हर गाँव में सूचना पहुँचाने का काम किए, जिनकी तारीफ हो रही है ।

अंत में एकबात और…

समाज में शिक्षा की दिशा में बहुत सारा काम होना है। हर देशवासियों को इसकी सोच बनानी होगी। तभी शिक्षा के क्षेत्र में देश और भी तरक्की कर सकेगा । अमुमन हम सभी सरकार के भरोसे रहते हैं। लेकिन इसे अपना कर्तव्य समझकर ईमानदारी से काम करना होगा। गरीबी कभी पढ़ाई में किसी के लिए बाधक ना बने औऱ बच्चे चाहे जिसके भी हों, है तो देश के ही। भविष्य तो यही है देश को इसे संवारने की दिशा में उठाए गय़े हर बेहतर कदम को मौर्य न्यूज18 सैल्यूट करता है। सलाम करता है। और हमेशा ऐसे कार्य करने वालों के साथ मौर्य न्यूज18 खड़ा है। जय हिंद।

पटना से मौर्य न्यूज18 की खास रिपोर्ट

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में...

कोरोना की धीमी लहर के बाद राज्य निर्वाचन आयोग के काम करने की रफ्तार तेज अनुमान दो-तीन माह में चुनाव कराने पर चल रहा विचार बाढ़...

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।