Google search engine
शनिवार, जून 19, 2021
Google search engine
होमPOLITICAL NEWSपत्रकार देवेश बन गए एमएलसी, उपेंद्र को भी झुनझुना मिला। Maurya News18

पत्रकार देवेश बन गए एमएलसी, उपेंद्र को भी झुनझुना मिला। Maurya News18

-

मौर्य न्यूज18, पटना

अतुल कुमार

लंबे समय से चला आ रहा गतिरोध बुधवार को समाप्त हो गया। कयासों पर विराम लगाते हुए राज्यपाल कोटे से 12 एमएलसी का चुनाव कर लिया गया। इसमें सबसे बड़ा नाम उपेंद्र कुशवाहा का है, जिन्हें जदयू कोटे से विधान पार्षद बनाया गया है। बीजेपी और जदयू से 6-6 लोगों का मनोनयन किया गया है।

यहां नई बात देख सकते हैं जहां भाजपा ने पत्रकार देवेश कुमार को एमएलसी बनाया है वहीं जदयू ने उपेन्द्र कुशवाहा को एमएलसी का झुनझुना थमा दिया गया, कहा जा रहा था कि कुशवाहा की पत्नी को विधान परिषद भेजा जाएगा लेकिन अब तो सारा लिस्ट सामने है। पढ़िए पूरी रिपोर्ट विस्तार से।

उपेंद्र कुशवाहा भी बन गए एमएलसी।

उपेंद्र कुशवाहा के अलावे जदयू की ओर से अशोक चौधरी, संजय सिंह, संजय गांधी, ललन सर्राफ और रामवचन राय विधान पार्षद बने हैं।

बाकी नामों में चर्चित भाजपा के घनश्याम ठाकुर, मंत्री जनक राम, प्रो. राजेंद्र प्रसाद गुप्ता, पत्रकार से नेता बने देवेश कुमार, प्रमोद कुमार और निवेदिता सिंह हैं।

पटना प्रमंडल को सबसे ज्यादा 3 MLC मिले हैं। इनमें पटना से अशोक चौधरी और संजय कुमार सिंह विधान परिषद की सदस्यता लेंगे। पटना के बाद सारण प्रमंडल को दो MLC मिले हैं। इनमें गोपालगंज से जनक राम और सीवान से राम वचन राय विधान परिषद की सदस्यता लेंगे।

बिहार प्रदेश भाजपा कार्यलय में जश्न मनाते दो पत्रकार नेता नवनिर्वाचित विधान परिषद सदस्य देवेश कुमार औऱ प्रवक्ता डॉ. निखिल आनंद ।

दरभंगा प्रमंडल को दो 2 MLC मिले हैं। इनमें समस्तीपुर से देवेश कुमार और मधुबनी से घनश्याम ठाकुर विधान परिषद की सदस्यता लेंगे। देवेश कुमार के बारे में कहा जाता है कि वे पत्रकार से नेता बने हैं। पहले दिल्ली में वे एक अंग्रेजी अखबार में काम करते थे।

दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकारों की मानें तो देवेश कुमार को बीजेपी में ज्वाइन कराने में भाजपा के कद्दावर व दिवंगत नेता अरुण जेटली की महती भूमिका थी। वहीं भागलपुर प्रमंडल से भागलपुर जिले के संजय सिंह MLC पद की शपथ लेंगे।

कोसी प्रमंडल से मधेपुरा के ललन कुमार सर्राफ MLC पद की शपथ लेंगे। पूर्णिया प्रमंडल से अररिया के प्रो. राजेंद्र प्रसाद गुप्ता विधान परिषद की सदस्यता लेंगे।

बता दें कि पिछले एक साल से ये 12 सीटें खाली थीं। राज्यपाल कोटे से मनोनयन को लेकर इन 12 सीटों पर सियासत भी काफी चल रही थी। पार्टियों के नेता लगातार इसको लेकर अपने आलाकमान की गणेश परिक्रमा कर रहे थे।

भाजपा ने अपने कोटे से एक महिला सदस्य को भी MLC बनाया

भाजपा बिहार में महिलाओं को आगे बढ़ाने की दूसरी पहल दिखाई है । पहली पहल दिखी जब बिहार में इसबार सरकार गठन की बारी आई तो उपमुख्यमंत्री के पद पर रेणु कुमारी को बिठाया। उस समय भी खूब चर्चा थी कि भाजपा महिला वोट पाने में सफल रही और महिलाओं को कैसे आगे बढ़ाया जाए इसपर विचार किया जाता रहा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी बिहार में भाजपा गठबंधन की जीत का पूरा श्रेय महिलाओं को दिया था।

अब जब बिहार में विधान परिषद सदस्य के लिए 12 लोगों को चुना जाना था। जिसमें भाजपा कोटे से 6 सदस्य होने थे। उसमें से एक सदस्य के रूप में निवेदिता सिंह को एमएलसी बनाकर भाजपा खूब वाह-वाही बटोर रही है।

आपको बता दें कि निवेदिता सिंह भाजपा की सक्रिय कार्यकर्ता हैं। बिहार भाजपा महिला मोर्चा में वे अबतक उपाध्यक्ष पद पर भी रह चुकी हैं। चुनाव के दौरान प्रभारी भी बनाई गईं। इसके साथ-साथ प्रदेश स्तर की जिम्मदेरी भी मिलती रही है। अब पार्टी ने इन्हें विधान परिषद सदस्य के रूप में सदन में भेजने का काम किया है। सबको उम्मीद है कि महिलाओं की आवाज अब सदन में और भी मजबूती से रखी जाएगी।

विधान परिषद सदस्य बनाये जाने की सूचना मिलने के बाद परिवार और समर्थकों के साथ मंदिर में पूजा करने पहुंची निवेदिता सिंह।

हम और वीआईपी के नेता भी लगातार अपने लिए विधान परिषद की सीट मांग रहे थे लेकिन ऐसा नहीं हुआ और भाजपा व जदयू कोटे से ही सभी का मनोनयन किया गया। हालांकि इसको लेकर राजग गठबंधन में शामिल पार्टियों में नाराजगी भी देखी जा रही है।

पटना से पॉलिटिकल डेस्क की रिपोर्ट।

ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में...

कोरोना की धीमी लहर के बाद राज्य निर्वाचन आयोग के काम करने की रफ्तार तेज अनुमान दो-तीन माह में चुनाव कराने पर चल रहा विचार बाढ़...

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।