Google search engine
शुक्रवार, जून 18, 2021
Google search engine
होमSTATEमहिला उद्योग मेला : बिजनेसमैन के लिए बेहतर मंच ! Maurya News18

महिला उद्योग मेला : बिजनेसमैन के लिए बेहतर मंच ! Maurya News18

-

अध्यक्ष उषा झा बोलीं , सबको मौका मिले कोशिश यही रहती है, मेले का रहता है सबको इंतजार

पटना, मौर्य न्यूज18 ।  

महिलाएं भी उद्योग में अपना पैर पसार रही है। और बिजनेस से जुड़ी महिलाओं को कैसे मार्केट मिले और कैसे बिजनेस को बढ़ाया जाए इसके लिए बिहार में एक बड़ा मंच है महिला उद्योग मेला। औऱ जो हर साल बिहार में जगह-जगह लगाये जाते रहे हैं। जहां अंत्रपेन्योर महिला उद्मियों को काफी बेहतर मौका मिलता है।

यहां से कई युवा महिला उद्यमी आगे बढ़ीं हैं – उषा झा

बिहार की राजधानी पटना में भी महिला उद्योग मेला यहां ज्ञान भवन में लगाया गया है । पिछले चार दिनों में यहां करीब तीन सौ स्टाल लगाये गये। जहां बिहार के लोगों की काफी भीड़ देखी गई। लोगों को इस मेले में तरह-तरह की चीजें एक ही जगह खरीदने का मौका मिला। इस मेले की अध्यक्ष उषा झा कहती हैं कि मेले में काफी उत्साह देखा जा रहा है। यहां जो भी स्टाल लगाते हैं उन्हें अधिक से अधिक सुविधा मुहैया करायी जाती है।

श्रीमती झा कहती हैं कि युवा महिला उद्यमी को यहां मौका देती हूं। औऱ इस मंच के जरिए कई युवा रोजगार के क्षेत्र में काफी मेहनत कर आगे बढ़े हैं। इस मेले में भी लोगों का अच्छा रिस्पॉश मिला है। उद्योग मंत्री श्याम रजक ने इस मेले का उद्धाटन किया। औऱ चार दिनों का रिजल्ट देखें तो वीकेंड में काफी भीड़ रही। यहां कपड़े से लेकर विभिन्न तरह के फैशन की सामाग्रियां उपलब्ध हैं। हस्त कला से जुड़े बिजनेसमैन को भी स्टाल दिया गया। जिस पर अच्छी आवाजाही है।

ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव
ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

उषा कहती है कि बिहार में बिजनेस को बढ़ावा दिया जाए तो काफी ग्रोथ है। कई वर्षो से महिला उद्धयोग मेला लगाया जाता रहा है। लोगों को इसका काफी इंतजार रहता है।

रूचि चौधरी बोलीं- यहां आने से बिजनेस में उत्साह बढ़ा

वहीं मेले में पटना में फेमस बुटिक का स्टॉल भी देखा गया। इसमें से एक रूचि बूटिक, मिश्रा पथ. पाटलिपुत्रा कॉलोनी का स्टॉल पर भी काफी भीड़ देखने को मिला। बुटिक की मालिकीन रूचि चौधरी कहती हैं कि मेले में स्टॉल लगाने से काफी लाभ मिला है। मेले का आयोजन हम जैसे उद्यमियों के लिए वरदान साबित हुआ है। इससे बिजनेस करने का उत्साह भी बढ़ा है। अच्छी बिक्री भी हुई। फैशन की दुनिया में लोगों के पसंद जानने का मौका मिला। जिससे बिजनेस करने में आगे औऱ फायदा होगा।

बांस की कला में माहिर संजय बना रहे पीएम मोदी की पांच फिट की बांस की मूर्ति

वहीं समस्तीपुर जिले से आये संजय कुमार जो बांस कला में माहिर दिखे। हस्त कला में बांस कला भी प्रमुख है। इस स्टॉल पर बांस से बनी तरह-तरह की चीजें दिखी जो काफी आकर्षक लगा। दूर्गाजी की मूर्ति, गणेशजी की मूर्ति, महात्मा गांधी की मूर्ति दिखी जो काफी आकर्षक था। संजय बताते हैं कि वो 1990 से इस बिजनेस से जुड़े हैं। पूरा परिवार बांस कला से ही रोजी-रोटी कमा रहा है। गांव की महिलाओं को भी ट्रेंनिंग देकर उसे रोजगार से जोड़ रहे हैं। यहां मेले में काफी अच्छी कमाई हुई है। संजय कहते हैं कि उन्हें बिहार सरकार से औऱ अलग-अलग संस्थानों से कई बार अवार्ड भी मिला है। वो बताते हैं कि डेढ़ फिट की बांस की मूर्ति बनाकर सीएम नीतीश कुमार को भेंट की। ये मूर्ति उन्हीं की बनी थी। जिसे देखकर सीएम से काफी तरीफ भी मिली। संजय अब पांच फिट की पीएम नरेंद्र मोदी की बांस की मूर्ति बना रहे हैं। कहना है कि इसे पीएम को सौंपना है। मौका मिला तो जरूर सौंपूंगा। ये संजय का सपना है। वहीं इसी जिले के रोसड़ा से पंकज भी बांस कला में माहिर दिखे । उनका भी स्टॉल मेले में लगा है। सबने अच्छी कमाई की है।

ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।
ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।

इसी बांस कला से जुड़ा एक औऱ स्टॉल दिखा। ये भी रोसड़ा, जिला समस्तीपुर से ही थे। नाम पंकज बताया औऱ कहा कि ये सब शौक से बनाना शुरू किया लेकिन अब अच्छी कमाई हो रही है। कई युवाओं को गांव में सीखा भी रहा हूं। पंकज ने बताया कि इसमें काफी स्कोप है।

18 सितम्बर को संपन्न हो जाएगा। अंतिम दिन सबको उम्मीद है कि काफी भीड़ जुटेगी।

पटना से मौर्य न्यूज18 की रिपोर्ट

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।

तिहाड़ जेल से नताशा, देवांगना और आसिफ बाहर आए नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 । स्टूडेंट एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल को आखिरकार 17...