Google search engine
शुक्रवार, जून 18, 2021
Google search engine
होमटेक नॉलेज6 माह में 65 हजार से 2 करोड़ कर दिखाया, कौन है...

6 माह में 65 हजार से 2 करोड़ कर दिखाया, कौन है वो युवा बिजनेसमैन

-

डिजिटल दुनिया में किया कमाल, बिहार सहित 14 राज्यों में फैलाया कारोबार, पूरी इंडिया में फैलाने का लक्ष्य

खास मुलाकात : – प्रवीण कुमार, युवा बिजनेसमैन

बिजनेस समाचार, मौर्य न्यूज18 ।

डिजिटल बिजनेस का कमाल

इंडिया में डिजिटल की दुनिया में अब अच्छा खासा बिजनेस चल पड़ा है। इसी कड़ी में अब युवा बिजनेसमैन नौकरी से मोह त्याग कर खुद का बिजनेस खड़ा करने में लगे हैं। और इसी कड़ी में बिहार के युवा भी दिलोजान से मेहनत कर बिजनेस फिल्ड में खुद को झोंक रखा है। ऐसे ही एक युवा बिजनेसमैन प्रवीण कुमार भी हैं जो डिजिटल बैंकिंग की दुनिया में एक साल पहले एसकेवी-पे नाम से एक कंपनी शुरू की और मनी ट्रांस्फर डिजिटल माध्यम को अपनाया और छह माह में कारोबार को 65 हजार से 2 करोड़ कर लिया है। हम मिलवाते हैं इस युवा बिजनेसमैन से और आप भी जनिए ये सब कैसे कर दिखाया।

क्या है बिजनेस का प्रारूप

जिस तरह से पेटीएम और भीम एप जैसे डिजिटल बटुआ है उसी तरह से एसकेवी पे भी एक तरह का डिजिटल बटुआ है। इसके जरिए आप मनी ट्रांस्फर कर सकते हैं। यानि इंटरनेट या मोबाइल के जरिए रूपये का लेनदेन करने के साथ ही इससे अच्छी कमाई भी कर सकते हैं। घर बैठेे इससे जुड़कर अपना कारोबार भी कर सकते। अगूठा लागाकर भी मशीन के जरिए रूपये का लेनदेन संभव है। किसी मोबाइल रिचार्ज, टीवी रिचार्ज या बस, ट्रेन की टिकट बुकिंग हो सब कुछ इसके जरिए किया जा सकता है। एक तरह का चलता फिरता एटीएम भी इसे जानिए। गांव-कस्बों में पैसे की निकासी के लिए एटीएम के पास जाना होता है लेकिन इस माध्यम से आप जुड़कर खुद इसका लाभ आसानी से उठा सकते है। डिजिटल की दुनिया को देश के पीएम नरेन्द्र मोदी ने बढ़ावा दिया है, ऐसे में इस कारोबार का अब बड़ा ही महत्व हो चला है। सुरक्षित रूपये निकासी का एक बड़ा माध्यम आने वाले समय मेे होने जा रहा है। अब तक देश भर में इस कारोबार से जुड़े बिजनेस का आकड़ा 34 हजार करोड़ को पार कर चुका है।

ALSO READ  एक अभिनेता की असली ताकत क्या है, हर कलाकार को जानना चाहिए : अमोल पालेकर

क्या कहते हैं युवा बिजनेसमैन

एसकेवीपे के फाउंडर डायरेक्टर प्रवीण कुमार कहते हैं कि मैंने एमबी करने के बाद टेलीकॉम सेक्टर में 10 साल तक जॉब किया फिर अपना कारोबार शुरू करने का मन बनाया। और आइडिया को मार्केट के अनुसार अंजाम देना शुरू किया। जेब में मात्र 65 हजार रूपये थे। उसी रकम से कंपनी की शुरूआत की जबकि इसके लिए करोड़ों रूपये की जरूरत पड़ती लेकिन बुलंद हौसले और ईमानदारी की मेहनत के भरोसे इसकी शुरूआत कर दी। और धीरे-धीरे नतीजे आने शुरू हो गए। साथियों औऱ परिवार का भरोसा जीतकर उनसे निरंतर मदद की गुहार लगाता रहा और अपने कारोबार को जारी रखा। फिर सरकार से मदद के भी प्रयास जारी रखे। इस तरह बिजनेस को आगे बढ़ाया औऱ रिजल्ट मिलता चला गया। शुरूआत में ऑफिस खोलने तक के लिए सोंचने पड़ते लेकिन जैसे-जैसे सर्विस अच्छी देता गया, ग्रोथ मिलता गया। अब तो 14 राज्यों में कारोबार चल पड़ा है औऱ करीब 70 लड़के इस कंपनी में हमारा साथ दे रहे हैं। और सभी की अच्छी खासी कमाई भी हो रही है। प्रवीण बताते हैं कि ग्रामीण इलाकों में इसकी मांग काफी बढ़ी है। आसान औऱ सुविधाजनक व्यवस्था होने के कारण इसके संचालन में भी किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होती जिसके कारण गांवों में बिजनेस करने वाले भी इस कंपनी के मशीन का उपयोग करते हैं।

ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।

NOTE – इस वीडियो के माध्यम से पूरी बातचीत सुनी जा सकती है। आप यूट्वब पर भी देख सकते हैं। Maurya News18 टाइप करें औऱ सुनें पूरी बातचीत।

मौर्य न्यूज18 की खास रिपोर्ट।

ALSO READ  दिल्ली - आखिर जमानत मिल ही गई ।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।

तिहाड़ जेल से नताशा, देवांगना और आसिफ बाहर आए नई दिल्ली, मौर्य न्यूज18 । स्टूडेंट एक्टिविस्ट नताशा नरवाल, देवांगना कलिता और आसिफ इकबाल को आखिरकार 17...