Google search engine
शनिवार, जून 19, 2021
Google search engine
होमPOLITICAL NEWS1 अप्रैल को नंदीग्राम में दीदी के का होई, जाई कि आई।...

1 अप्रैल को नंदीग्राम में दीदी के का होई, जाई कि आई। Maurya News18

-

ममता का आखिरी दांव, शुभेंदु ने भी दीदी को आउट करने की चली सतरंगी चाल

30 सीटों पर 1 अप्रैल को वोटिंग, 12 सीटें हाईप्रोफाइल, 2 पूर्व IPS भी आमने-सामने

Maurya News18, Kolkata

Political Desk

एक अप्रैल को सबकी निगाहें पश्चिम बंगाल में दूसरे फेज की वोटिंग पर है। इस दिन 30 सीटों पर वोट डाले जाएंगे। जिसमें पश्चिम और पूर्व मेदिनीपुर की 9-9 सीटें भी शामिल हैं। एक दर्जन सीटें हाईप्रोफाइल हैं।

सबसे दिलचस्प और बड़ा संग्राम नंदीग्राम की सीट पर है जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और कभी उनके सबसे भरोसेमंद रहे शुभेंदु अधिकारी आमने-सामने हैं। इसके बाद दूसरी बड़ी हाईप्रोफाइल सीट खड़गपुर सदर है, जहां भाजपा की तरफ से हिरन चटर्जी और तृणमूल की तरफ से प्रदीप सरकार मैदान में हैं।

यहां की जिन 9 सीटों पर दूसरे फेज में वोटिंग होनी है। उसमें से पंसकुरा पश्चिम, तामलुक, महीसादल, नंदकुमार और चांदीपुर में बीजेपी जीत दर्ज कर सकती है। जबकि नंदीग्राम, पंसकुरा पूर्व, मोयना और हल्दिया में कांटे की टक्कर है।

2016 विधानसभा चुनाव में हल्दिया से सीपीएम की सीट पर तापसी मंडल जीतीं थीं, लेकिन अब वे शुभेंदु के साथ हैं और भाजपा की तरफ से चुनाव लड़ रही हैं। वहीं चांदीपुर के तृणमूल विधायक अमिया भटाचार्य ने खुद के घर बनाने में बहुत ज्यादा पैसे खर्च किए थे। इसलिए उनकी छवि धूमिल हो गई थी। जिसके बाद टॉलीवुड स्टार सोहम चक्रवर्ती को पार्टी ने टिकट दिया है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष 2016 में लाइम लाइट में आए थे, तब उन्होंने खड़गपुर सदर सीट से जीत दर्ज की थी। हालांकि 2019 उपचुनाव में यह सीट तृणमूल के हिस्से में चली गई। इस बार उनकी साख दांव पर लगी है।

भाजपा के पश्चिम बंगाल के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष

दिलीप घोष के खिलाफ भी लोगों में नाराजगी है। लोगों की शिकायत है कि वे क्षेत्र में कम ही नजर आते हैं। इस नाराजगी को दूर करने के लिए भाजपा ने हिरन चटर्जी को टिकट दिया है।

क्रिकेटर अशोक डिंडा भी भाजपा की तरफ से मोयना सीट पर अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं। यहां भी दूसरे फेज में ही वोटिंग होनी है। राज्यसभा सांसद मानस भूनिया और ममता सरकार में मंत्री सोमेन महापात्रा की किस्मत का फैसला भी इसी फेज की वोटिंग में होना है।

इसको लेकर दोनों ही मुख्य दल भाजपा और तृणमूल पुरजोर मेहनत कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पिछले चार दिनों से नंदीग्राम में ही डेरा जमाए हुई हैं। वहीं चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मंगलवार को गृहमंत्री अमित शाह ने नंदीग्राम, डेबरा और पंसकुरा पश्चिम में रोड शो करके अपनी ताकत झोंकी।

भाजपा नेता अमित शाह की चुनावी रैली

पूर्व मेदिनीपुर का इलाका अधिकारी परिवार का गढ़ माना जाता है। यहां हर जगह भाजपा के बैनर-पोस्टर नजर आ रहे हैं। शुभेंदु अधिकारी, पिता शिशिर अधिकारी और उनके भाई दिव्येंदु अधिकारी यहां मोर्चा संभाले हुए हैं।

यहां के लोकल पॉलिटिकल एक्सपर्ट का कहना है कि एक तरफ शुभेंदु के भाजपा में आने से यहां पुराने भाजपा कैडर में नाराजगी है, तो दूसरी तरफ शुभेंदु तृणमूल को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाने की स्थिति में नहीं दिख रहे हैं। यहां भाजपा कुछ सीटें जीत सकती है, लेकिन क्लीन स्वीप जैसी स्थिति नहीं होगी।

नंदीग्राम से भाजपा प्रत्य़ाशी शुभेंदु अधिकारी

वहीं डेबरा सीट पर दो पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष और हुमायूं कबीर आमने-सामने हैं। स्थानीय व्यवसायी महेंद्र कहते हैं कि एक वक्त था जब भारती यहां तृणमूल को लीड कर रही थीं, लेकिन अब वे भाजपा के साथ हैं। इन दोनों सीटों पर दिलचस्प लड़ाई देखने को मिल रही है।

पॉलिटिकल एक्सपर्ट के मुताबिक यहां की 9 सीटों में से 5 तृणमूल के खाते में जा सकती है। सबंग, केशपुर, घटल, दासपुर और चंद्रकोना में तृणमूल जीत दर्ज कर सकती हैं। वहीं डेबरा, खडगपुर सदर, नारायणगढ़ और पिंगला में क्लोज फाइट देखने को मिल सकती है।


ALSO READ  यूपी के कलाकारों को मिल रही आर्थिक मदद, जरूरतमंद उठा सकते हैं लाभ : राजू श्रीवास्तव

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Must Read

बिहार में पंचायत चुनाव : रहिए तैयार, आयोग EVM जुटाने में...

कोरोना की धीमी लहर के बाद राज्य निर्वाचन आयोग के काम करने की रफ्तार तेज अनुमान दो-तीन माह में चुनाव कराने पर चल रहा विचार बाढ़...

दिल्ली – आखिर जमानत मिल ही गई ।